Search
  • Follow NativePlanet
Share
होम » स्थल » अजमेर » आकर्षण » दरगाह शरीफ़

दरगाह शरीफ़, अजमेर

33

दरगाह शरीफ़ राजस्थान का सबसे प्रसिद्ध धार्मिक स्थान है, जो ख़्वाजा मोईनुद्दीन चिश्ती का स्थान है। वे एक सूफ़ी संत थे जिन्होंने अपना पूरा जीवन गरीबों और दलितों की सेवा में समर्पित कर दिया। यह स्थान सभी धर्मों के लोगों के लिए पूजनीय है और प्रतिवर्ष यहाँ लाखों तीर्थयात्री आते हैं। चाँदी के दरवाज़े वाली इस दरगाह का निर्माण कई चरणों में हुआ जहाँ संत की मूल कब्र है जो संगमरमर की बनी है और इसके चारों ओर की रेलिंग चाँदी की है।

महान सूफ़ी संत की याद में यहाँ हर साल एक एक उर्स भरता है जो 6 दिन तक चलता है। 6 दिनों की अवधि का धार्मिक महत्व यह है कि लोगों का ऐसा मानना है कि जब संत की आयु 114 वर्ष की थी तब उन्होंने प्रार्थना करने के लिए स्वयं को 6 दिन तक कमरे में बंद कर लिया था और अपने नश्वर शरीर को एकांत में छोड़ दिया था।

किवदंती के अनुसार बादशाह अकबर ने एक कडाही की पेशकश की थी जब संत के आशीर्वाद के कारण उन्हें अपने सिंहासन के लिए उत्तराधिकारी प्राप्त हुआ था। हुमायूं द्वारा बनाई गई कब्र अजमेर में एक छोटी और बंजर पहाड़ी की तलहटी में स्थित है। यह सफ़ेद संगमरमर से बनी है और इसमें फारसी शिलालेख के साथ 11 मेहराब हैं।

One Way
Return
From (Departure City)
To (Destination City)
Depart On
05 Aug,Thu
Return On
06 Aug,Fri
Travellers
1 Traveller(s)

Add Passenger

  • Adults(12+ YEARS)
    1
  • Childrens(2-12 YEARS)
    0
  • Infants(0-2 YEARS)
    0
Cabin Class
Economy

Choose a class

  • Economy
  • Business Class
  • Premium Economy
Check In
05 Aug,Thu
Check Out
06 Aug,Fri
Guests and Rooms
1 Person, 1 Room
Room 1
  • Guests
    2
Pickup Location
Drop Location
Depart On
05 Aug,Thu
Return On
06 Aug,Fri