कोडैकनाल - जंगल के कोने में सौंदर्य

होम » स्थल » कोडैकनाल » अवलोकन

कोडैकनाल पश्चिमी घाट में पलानी पहाड़ियों में स्थित एक सुंदर और खूबसूरत हिल स्टेशन है। शहर अपनी प्राकृतिक सुंदरता और लोकप्रियता के कारण हिल स्टेशनों की राजकुमारी के रूप में प्रसिद्ध है। तमिलनाडु के डिंडागुल जिले में स्थित शहर समुद्र तल से 2133 मीटर की ऊंचाई पर एक पठार के ऊपर है।

कोडैकनाल शहर घाटियों पारप्‍पर और गुंडर के बीच स्थित है। कोडैकनाल के उत्तर में पहाड़ी है, जो विलपट्टी गांव और पालंगी गांव तक नीचे आती है। पूर्व में, पहाड़ियां लोअर पलानी हिल्‍स तक आती हैं। कोडैकनाल के दक्षिण में कम्बम घाटी है और पश्चिम में पठार है, जो मंजमपट्टी घाटी और अनामलई हिल्‍स तक जाता है।

तमिल में कोडैकनाल का अर्थ वन का उपहार है। हालांकि, इसके चार संस्करण हैं, क्‍योंकि शब्‍द कोडै के चार अलग-अलग अर्थ होते हैं। पहला "जंगल का अंतिम छोर", दूसरा "लताओं के जंगल", तीसरा "गर्मियों का जंगल" और चौथा मतलब "जंगल का उपहार" है।

कोडैकनाल में और आसपास के पर्यटक स्थल

छुट्टी मनाने के लिये कोडैकनाल आज सबसे प्रसिद्ध गंतव्यों में से एक है। यह हनीमून जोड़ों का पसंदीदा स्‍पॉट है। वृक्षों के अद्भुत प्राकृतिक सौंदर्य के साथ घने जंगल के बीच स्थित, चट्टानों और झरनों को देखना हो तो यहां जरूर जायें।

कोडैकनाल में और उसके आसपास बहुत सारे पर्यटन स्‍थल हैं। जैसे कोकर्स वॉक, बियर शोला फॉल्स, ब्रायंट पार्क, कोडैकनाल झील, ग्रीन वैली व्यू, शेमबगनूर प्राकृतिक इतिहास संग्रहालय, कोडैकनाल विज्ञान वेधशाला, पिलर्स रॉक, गुना गुफाएं, सिल्‍वर कैसकेड, डॉल्फिन नोज़, कुरिंजी अंदावर मुरुगन मंदिर और बेरीजम झील। यहां कई गिरजाघर भी घूमने लायक हैं।

कोडैकनाल अपने फलों- प्लम और नाशपाती लिए भी प्रसिद्ध है। चॉकलेट प्रेमियों के लिये यह जगह स्‍वर्ग है, यहां पर ढेर सारी दुकानें हैं, जहां घर में बनी चॉकलेट बिकती है। कोडैकनाल में नीलगिरी के तेल का उत्पादन भी होता है। दुर्लभ कुरिंजी फूल जो हर बारह साल में एक बार खिलता है, वह भी कोडाइकनाल में देखा जा सकता है। यह जगह साहसिक गतिविधियों के लिये भी गुंजाइश प्रदान करता है जैसे ट्रैकिंग, बोटिंग, हॉर्स राइडिंग और साइकिलिंग।

इतिहास के माध्यम से एक झलक

हिल स्टेशन पर सबसे पहले निवास करने वाले लोग पलइयार जनजाति से संबंधित थे। शुरुआती ईसाई युग के संगम साहित्य में इस जगह का उल्लेख किया गया है। लेफ्टिनेंट बी एस वार्ड के नेतृत्‍व में ब्रिटिश ने पहली बार 1821 में इस जगह में प्रवेश किया। उन लोगों ने 1845 में यहां कई निर्माण कराये और शहर विकासित किया। बाद में 20वीं सदी के दौरान कई प्रमुख भारतीय यहां रहने आये और बस गये।

कोडैकनाल तक कैसे पहुंचे

कोडैकनाल लिए निकटतम हवाई अड्डा हिल स्टेशन से 120 किलोमीटर दूर मदुरै में स्थित है। मदुरै हवाई अड्डा कोयंबटूर और चेन्नई हवाई अड्डों से जुड़ा है। ये दोनो हवाई अड्डे देश और दुनिया भर के शहरों को कोडैकनाल से जोड़ते हैं। कोडैकनाल से निकटतम रेलवे स्टेशन 3 किमी की दूरी पर कोडाई रोड है।

कोयम्बटूर जंक्शन निकटतम बड़ा रेलवे स्‍टेशन है, जो बंगलौर, मुंबई, एर्नाकुलम और तिरुवनंतपुरम जैसे शहरों से जुड़ा है। कोडैकनाल तमिलनाडु और केरल के शहरों से बस से पहुँचा जा सकता है। बसें बंगलौर से भी उपलब्ध हैं।

कोडैकनाल मौसम

कोडैकनाल में साल भर अच्छा मौसम रहता है। कोडैकनाल की यात्रा के लिए सबसे अच्छा समय अप्रैल से जून के बीच और सितंबर से अक्टूबर के बीच का समय है। कोडैकनाल जून से अगस्त के बीच भी जा सकते हैं, जब यह जगह हरी और सुंदर दिखती है। सर्दियों के दौरान भी इस जगह की यात्रा अच्‍छी रहती है।

 

Please Wait while comments are loading...