पटियाला - हिन्दुस्तानी शास्त्रीय संगीत का गढ़

होम » स्थल » पटियाला » अवलोकन

पटियाला दक्षिण - पूर्व पंजाब में तीसरा सबसे बड़ा शहर है एवं समुद्र तल से 250 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। सरदार लखना तथा बाबा आला सिंह द्वारा निर्मित शहर, महाराजा नरेन्द्र सिंह (1845-1862) द्वारा आरक्षित था। यह पटियाला जिले की प्रशासनिक राजधानी है तथा यहां इसमें दस फाटक और एक प्राचीर है।

यहां व्यापक रूप से यहाँ बोली जाने वाली पंजाबी के साथ साथ, हिंदी और अंग्रेजी का भी शासकीय प्रयोजनों के लिए प्रयोग किया जाता है। दिवाली, होली, दशहरा, गुरूपर्व और बैसाखी शहर में मनाये जाने वाले मुख्य त्योहार हैं। एक त्योहार 'पटियाला विरासत महोत्सव' केवल यहीं मनाया जाता है, और इसलिए, यह पटियाला पर्यटन के लगभग सभी भ्रमण स्थलों का एक अभिन्न अंग है।

फरवरी के महीने में हर साल आयोजित होने वाला यहा त्योहार, आस पास के व दूर दूर से संगीत एवं कला प्रेमियों को आकर्षित करता है। क्राफ्ट मेला सबसे बड़ा आकर्षण होता है तथा दस दिन तक चलता है। शहर लोकप्रिय हिन्दुस्तानी शास्त्रीय संगीत- पटियाला घराना के घर के रूप में जाना जाता है।

पटियाला तथा आस पास के घूमने लायक स्थान

यहां पटियाला में स्थित कई स्थलों जो अपनी समृद्ध सांस्कृतिक विरासत के लिए पर्यटकों को आकर्षित करते हैं, के कारण इसकी लोकप्रियता बढ़ रही है। यह किला मुबारक काम्पलेक्स, शीश महल, बारादरी गारडन्स, किला अन्दरून, रंग महल, मज्जी दि सराय, माल रोड एवं दरबार हाल जैसे कई किलों व उद्यानों का गढ़ है।यहां पटियाला के निकट कई दूसरे पर्यटन आकर्षण जैसे कि समाना, बनूर तथा सानौर भी माजूद हैं।

पटियाला की खास चीजें

चाहे टरबन(पगड़ी) हो, चाहे परांदा (बाल ब्रेडिंग के लिए प्रकार का टैग), पटियाला सलवार (एक प्रकार की महिला पतलून), जुत्ती (जूते का एक प्रकार) या पटियाला पेग (शराब की एक मात्रा) हो, इन सभी नें पटियाला को लोकप्रिय बना दिया है। पर्यटक ये सब खुद के लिए खरीद सकते हैं या फिर खरीदकर किसी दूसरे के लिए घर भी ले जा सकते हैं। विभिन्न प्रकार के होटल, बजट से तीन सितारा होटल तक, सभी यहां पर्यटकों के लिए उपलब्ध हैं।

पटियाला कैसे पहुंचें

पर्यटक बस, ट्रेन, टैक्सी या उड़ान से इस स्थान की यात्रा कर सकते हैं। शहर के बसों और ट्रेनों के नेटवर्क से जुड़े होना यहां की यात्रा को पर्यटकों के आसान बना देता है। मुंबई, चंडीगढ़ और दिल्ली जैसे प्रमुख शहरों से यहां के लिए नियमित गाड़ियां हैं। निकटतम हवाई अड्डा चंडीगढ़ में स्थित है,जो पटियाला से लगभग 60 किमी दूर है।

पटियाला यात्रा के लिए आदर्श समय

पटियाला की जलवायु उष्णकटिबन्धीय है, तथा गर्मी, मानसून तथा सर्दियां मुख्य सीजन होते हैं। इस शहर की यात्रा करने के लिए पर्यटकों के लिए सबसे अच्छा समय अक्टूबर से मार्च के बीच होता है। इन महीनों के दौरान शहर में हवायें ठंडी एवं मौसम खुशनुमा रहता है।

 

Please Wait while comments are loading...