Search
  • Follow NativePlanet
Share
होम » स्थल» रामेश्‍वरम

रामेश्‍वरम पर्यटन - देवताओं का धरती पर वास

60

रामेश्‍वरम, तमिलनाडू राज्‍य में स्थित एक शांत शहर है और यह करामाती पबंन द्वीप का हिस्‍सा है। यह शहर पंबन चैनल के माध्‍यम से देश के अन्‍य हिस्‍सों से जुड़ा हुआ है। रामेश्‍वरम, श्री लंका के मन्‍नार द्वीप से 1403 किमी. की दूरी पर स्थित है। रामेश्‍वरम को हिंदूओं के सबसे पवित्र स्‍थानों में से एक माना जाता है, इसे चार धाम की यात्राओं में से एक स्‍थल माना जाता है।

किंवदंतियों के अनुसार, भगवान राम, भगवान विष्‍णु के सातवें अवतार थे जिन्‍होने यहां अपनी पत्‍नी सीता को रावण के चंगुल से बचाने के लिए यहां से श्री लंका तक के लिए एक पुल का निर्माण किया था। वास्‍तव में, रामेश्‍वर का अर्थ होता है भगवान राम और इस स्‍थान का नाम, भगवान राम के नाम पर ही रखा गया। यहां स्थित प्रसिद्ध रामनाथस्‍वामी मंदिर, भगवान राम को समर्पित है। इस मंदिर में हर साल लाखों श्रद्धालु यात्रा करने आते है और ईश्‍वर का आर्शीवाद लेते है।

ऐसा भी माना जाता है कि रामेश्‍वरम वह स्‍थान है जहां भगवान राम ने अपने सभी पापों का प्रायश्चित करने का निर्णय लिया। भगवान राम ने एक ब्राह्मण रावण को मारने के बाद इसी स्‍थान पर तपस्‍या करने की इच्‍छा जताई थी। भगवान राम यहां, एक बड़ी सी शिवलिंग का निर्माण करना चाहते थे और इसके लिए उन्‍होने हनुमान जी से हिमालय से लिंग लाने को कहा था। ऐसा माना जाता है श्री रामनाथस्‍वामी मंदिर में स्थित मूर्ति वही मूर्ति है।

रामेश्‍वरम का ऐतिहासिक महत्‍व

रामेश्‍वरम का भारत के इतिहास में एक महत्‍वपूर्ण स्‍थान है जो अन्‍य देशों के साथ व्‍यापार से भी जुड़ा हुआ है। जो लोग श्रीलंका से सीलोन की यात्रा पर जाते है उनके लिए रामेश्‍वरम एक स्‍टॉप गैप प्‍वाइंट है। वास्‍तव में, जाफना साम्राज्‍य का इस शहर पर नियंत्रण रहा है और जाफना के शाही घराने को रामेश्‍वरम का संरक्षक माना गया है।

दिल्‍ली का खिजली वंश भी रामेश्‍वरम के इतिहास के साथ जुड़ा हुआ है। अलाउद्दीन खिजली की सेना के जनरल इस शहर में आए थे और पांड्यान्‍स की सेना भी उन्‍हे नहीं रोक पाई थी। उनके आगमन के अवसर पर, जनरल ने रामेश्‍वरम में आलिया - अल - दीन खालदीजी मस्जिद का निर्माण करवाया था।

16 वीं शताब्‍दी में, यह शहर विजयनगर के राजाओं के नियंत्रण में आ गया था और 1795 तक रामेश्‍वरम पर ब्रिटिश ईस्‍ट इंडिया कम्‍पनी ने आधिपत्‍य जमा लिया था। रामेश्‍वरम की इमारतों की वास्‍तुकला में आज भी स्‍थानीय रंग को आसानी से देखा जा सकता है।

रामेश्‍वरम और उसके आसपास स्थित पर्यटन स्‍थल

रामेश्‍वरम में भारी संख्‍या में मंदिर स्थित है जो भगवान राम और भगवान शिव को समर्पित है। यहां बड़ी संख्‍या में तीर्थयात्री आते है। हर साल देश - दुनिया के कोने - कोने से हिंदू धर्म के लोग यहां मोक्ष पाने के लिए पूजा - अर्चना करते है। उनके लिए जीवन में एक बार यहां आना जरूरी होता है।

रामेश्‍वरम में 64 तीर्थ या पवित्र जल के स्‍त्रोत है इनमें से 24 को अत्‍यंत महत्‍वपूर्ण माना जाता है। माना जाता है कि इनमें डुबकी लगाकर नहाने से सारे पाप धुल जाते है। ऐसा माना जाता है कि अगर व्‍यक्ति के जीवन के सारे पाप धुल जाएं, तो उसे मोक्ष का रास्‍ता मिल जाता है। भारत की पंरपरा में किसी और तीर्थस्‍थान को इतना महत्‍वपूर्ण दर्जा अभी तक प्राप्‍त नहीं हुआ है। वास्‍तव में, रामेश्‍वरम के इन 24 कुंडों में स्‍नान करना अपने आप में एक तपस्‍या मानी जाती है।

रामेश्‍वरम में कई ऐसे धार्मिक स्‍थान है जिनका हिंदू धर्म में काफी महत्‍व है। यहां के 24 तीर्थ या कुंड सबसे अधिक प्रसिद्ध है।

रामेश्‍वरम कैसे पहुंचे

रामेश्‍वरम के लिए बहुत अच्‍छा नेटवर्क है। देश के कई हिस्‍सों के लिए यहां से रेल सुविधा उपलब्‍ध है। यहां का सबसे नजदीकी एयरपोर्ट, मदुरई में स्थित है।

रामेश्‍वरम की यात्रा का सबसे अच्‍छा समय

रामेश्‍वरम में गर्मियों का मौसम काफी गर्म और सर्दियां सुखद होती है। सर्दियों के दौरान रामेश्‍वरम की सैर के लिए आएं।

रामेश्‍वरम इसलिए है प्रसिद्ध

रामेश्‍वरम मौसम

घूमने का सही मौसम रामेश्‍वरम

  • Jan
  • Feb
  • Mar
  • Apr
  • May
  • Jun
  • July
  • Aug
  • Sep
  • Oct
  • Nov
  • Dec

कैसे पहुंचें रामेश्‍वरम

  • सड़क मार्ग
    रामेश्‍वरम, चेन्‍नई से सड़क मार्ग द्वारा अच्‍छी तरह से जुड़ा हुआ है। चेन्‍नई से रामेश्‍वरम तक के लिए नियमित रूप से बसें चलती है। पर्यटक, वाल्‍वो से भी रामेश्‍वरम तक जा सकते है। चेन्‍नई से रामेश्‍वरम तक का वाल्‍वो से किराया 500 रूपए और राज्‍य सरकार की बसों का किराया 100 से 150 रूपए होता है।
    दिशा खोजें
  • ट्रेन द्वारा
    रामेश्‍वरम में रेलवे स्‍टेयान है और अन्‍य नजदीकी रेलवे स्‍टेशन चेन्‍नई में स्थित है जिसका दक्षिण रेलवे में अच्‍छा और मजबूत नेटवर्क है। रामेश्‍वरम से चेन्‍नई के बीच चार ट्रेन चलती है। इनमें से दो ट्रेन नियमित रूप से चलती है। एक ट्रेन मंगलवार के दिन और एक ट्रेन शनिवार के दिन चलती है। रामेश्‍वरम जाने के लिए एडवांस में टिकट बुक करवाई जा सकती है।
    दिशा खोजें
  • एयर द्वारा
    रामेश्‍वरम का सबसे नजदीकी एयरपोर्ट मदुरई में स्थित है। मदुरई एयरपोर्ट, चेन्‍नई एयरपोर्ट से अच्‍छी तरह से जुड़ा हुआ है और हर दिन, चेन्‍नई और मदुरई के बीच नियमित रूप से काफी उड़ाने भरी जाती है। अगर एक बार आप मदुरई या चेन्‍नई एयरपोर्ट पहुंच जाते है तो रामेश्‍वरम तक टैक्‍सी द्वारा आसानी से पहुंच सकते है। इतनी दूरी के लिए टैक्‍सी वाले 3500 से 5000 रूपए तक लेते है लेकिन वह आपको रामेश्‍वरम तक सुविधाजनक तरीके से पहुंचा देते है।
    दिशा खोजें

रामेश्‍वरम यात्रा डायरी

One Way
Return
From (Departure City)
To (Destination City)
Depart On
22 Jan,Fri
Return On
23 Jan,Sat
Travellers
1 Traveller(s)

Add Passenger

  • Adults(12+ YEARS)
    1
  • Childrens(2-12 YEARS)
    0
  • Infants(0-2 YEARS)
    0
Cabin Class
Economy

Choose a class

  • Economy
  • Business Class
  • Premium Economy
Check In
22 Jan,Fri
Check Out
23 Jan,Sat
Guests and Rooms
1 Person, 1 Room
Room 1
  • Guests
    2
Pickup Location
Drop Location
Depart On
22 Jan,Fri
Return On
23 Jan,Sat