नागरहोल - नदी के साथ एक रोमाँचक समय

होम » स्थल » नागरहोल » अवलोकन

नागरहोल का शाब्दिक अर्थ है 'साँप नदी'। इस जगह का नाम यहाँ पर घने जंगलों के टेढ़े मेढ़े रास्ते से बहती तेज नदी के कारण पड़ा है जो कि एक रेंगते हुये साँप जैसी दिखती है। कर्नाटक के कोडागू जिले में स्थित, नागरहोल प्रकृति प्रेमियों और वन्य जीवन के प्रति उत्साही का एक बहुत इष्ट अड्डा है।

नागरहोल क्यों लोकप्रिय है

नागरहोल, विशाल राजीव गांधी नेशनल पार्क का एक हिस्सा है। शानदार जलवायु, भरपूर वनस्पतियों और जीव के साथ-साथ गहरे, हरे जंगलों की खूबसूरती यह अच्छी तरह से सुनिश्चित करता है कि यह जगह आगंतुकों को वर्ष भर आकर्षित करता है। नागरहोल अपनी वन्य जीवन के लिए प्राचीन काल में भी प्रसिद्ध था। स्थानीय किंवदंती हैं कि मैसूर के शासकों द्वारा जंगलों में जंगली हाथी और जंगली बैल का इस्तेमाल शिकार के लिए किया जाता था। अब भी पार्क में वन्य जीवन की भरपूर विविधता है।

नागरहोल के आसपास के पर्यटक स्थल

नागरहोल की यात्रा के ब्रह्मगिरि पर्वत और इर्पू झरने की यात्रा के बिना अधूरा होगा। झरने को जल की आपूर्ति लक्ष्मण तीर्थ नदी के द्वारा की जाती है। स्थानीय लोगों का दावा है कि नदी की उत्पत्ति देवी सीता के द्वारा हुई है। राम और लक्ष्मण के साथ वनवास पर, जब देवी को प्यास लगी और उन्होने पानी की मांग की। आज्ञाकारी लक्ष्मण ने मैदान में एक तीर मार मारा और नदी प्रकट हुई।

कैसे जाएं नागरहोल

नागरहोल मैंगलोर के करीब है और आसानी से सुलभ भी है।

 

Please Wait while comments are loading...