Search
  • Follow NativePlanet
Share
होम » स्थल » सूरत » आकर्षण
  • 01यूरोपीय कब्रिस्तान

    16वीं सदी के ये ब्रिटिश और डच मकबरे वास्तुकला में सथानीय हिंदु और इस्लामी शैली से प्रभावित हैं और इनके साथ ही आर्मेनियाई कब्रिस्तान है जहाँ कब्रें बनी हुई हैं जिनकी बनावट बड़ी नहीं है लेकिन इनपर शिलालेख बने हैं। ये सभी संरक्षित ऐतिहासिक स्मारक हैं और इस क्षेत्र...

    + अधिक पढ़ें
  • 02पारसी अगियारी

    पारसी अगियारी

     सूरत में पारसी अग्नि मंदिरों की संख्या बहुत कम है। उनमें से पारसी अगियारी एक प्रमुख मंदिर है। पवित्र लौ इस मंदिर में अब भी जल रही है और किसी भी गैर-पारसी को मंदिर में जाने की अनुमति नहीं है।

    + अधिक पढ़ें
  • 03मरजन शमी रोज़ा

    मरजन शमी रोज़ा

    यह सूरत के राज्यपाल, ख्वाजा सफर सुलेमान की दफनगाह है। यह मकबरा 1540 में उनके बेटे ने बनवाया था और इसपर पारसी वास्तुकला का प्रभाव है।

    + अधिक पढ़ें
  • 04नारगोल

    नारगोल एक छोटा सा शहर है और राष्ट्रीय राजमार्ग-8 से लगभग 30कि.मी. दूर गुजरात के वालासार जि़ले में स्थित एक शांत समुद्रतट है। हालांकि, नारगोल समुद्रीतट पर समुद्री कछुए की एक बड़ी आबादी है, फिर भी इस समुद्र के चारों ओर लगे कैसुरिना के पेड़ इस जगह को अधिक आकर्षक...

    + अधिक पढ़ें
  • 05गोपी तालाब और नव सईद मस्जिद

     इस झील का नाम गोपी की याद में रखा गया है जिसके प्रयासों से ही सूरत का विकास होने लगा था। यहाँ चार मस्जिदें हैं- खुदावंद मस्जिद, सैयद इदरिस मस्जिद और नव सईद मस्जिद के साथ ख्वाजा दीवान साहिब।

    + अधिक पढ़ें
  • 06मुग़लसराय

    मुग़लसराय

    मुग़लसराय मूलरूप् से एक सराय या सरायखाना है जो 17वीं सदी में मुग़ल सम्राट शाहजहाँ के शासनकाल के दौरान बनवाई गई थी ताकि हज के लिए मक्का जाने वाले तीर्थयात्रियों को ठहरने की जगह मिल सके। 1857 में कुछ समय के लिए इस इमारत को जेल में तब्दील कर दिया गया था और वर्तमान...

    + अधिक पढ़ें
  • 07सरदार वल्लभभाई पटेल संग्रहालय और प्लेनेटेरियम

    सरदार वल्लभभाई पटेल संग्रहालय और प्लेनेटेरियम

    इस संग्रहालय को सरदार संग्रहालय भी कहा जाता है और यह 1889 में स्थापित किया गया था। इस संग्रहालय में एक संग्रह है जो सूरत की समृद्ध सांस्कृतिक विरासत का प्रतिनिधित्व करता है और प्लेनेटेरियम में हमारे ब्रह्यांड के बारे में लोगों को जागरुक बनाने के लिए दैनिक शो...

    + अधिक पढ़ें
  • 08बारडोली

    बारडोली

    बारडोली शहर 1918 में सरदार वल्लभभाई पटेल के ’नो टैक्स’ आंदोलन का जन्म स्थान है। बाद में सरदार ने इस शहर से ब्रिटिश टैक्स के विरुद्ध भी आंदोलन आरंभ किया। वास्तव में ये सभी घटनाएं दांडी से नमक मार्च यानि गांधीजी के नमक सत्याग्रह में सरदार की भागीदारी की...

    + अधिक पढ़ें
  • 09रांदेर और जामा मस्जिद

    रांदेर और जामा मस्जिद

    केंद्र को सूरत में स्थानांतरित करने से पहले रांदेर दक्षिण गुजरात का मुख्य शहर था और इस क्षेत्र के सबसे पुराने शहरों में से एक है। इस क्षेत्र में जामा मस्जिद या शुक्रवार मस्जिद 16वीं सदी से संबंधित है और जैन मंदिर के भागों को इस्तेमाल करके बनायी गई थी जो किसी समय...

    + अधिक पढ़ें
  • 10हीरा उद्योग

    विश्व हीरा बाज़ार में आज सूरत एक बहुत प्रसिद्ध नाम है और विश्व बाज़ार के 10 में से 8 हीरे सूरत में काटे जाते हैं। खुरदरे और बिना कटे हुए हीरे दक्षिण अफ्रीका से सूरत आते हैं क्योंकि अंतर्राष्ट्रीय हीरा व्यापार मुख्य रूप से उत्तरी गुजरात के पालनपुर से हैसिदिक...

    + अधिक पढ़ें
  • 11सूरत महल

    सूरत महल

    तापी नदी के बगल में स्थित सूरत महल 1540 में सुल्तान महमूद तृतीय द्वारा पुर्तगाली आक्रमण से सूरत शहर की रक्षा करने के लिए बनाया गया था।

    + अधिक पढ़ें
  • 12बिलिमोड़ा

    बिलिमोड़ा

    अंबिका नदी के किनारे स्थित यह जगह नवसारी से 25कि.मी. दक्षिण की ओर है। सतपुड़ा जाने के लिए बिलिमोड़ा से गुज़रना पड़ता है और यह डांग जंगल के उत्पादों का बिक्री केंद्र भी है।

    + अधिक पढ़ें
  • 13सुवाली

    सुवाली एक काली रेत वाला समुद्रतट है। शहर से केवल 28कि.मी. दूर यह हज़ीरा के पास स्थित है और एक सुदूर इलाके में होने के कारण यह अभी भी एक विशुद्ध समुद्रतट है जहाँ लोग बहुत मुश्किल से आते हैं और इसी वजह से एकांत का मज़ा लेने और प्रकृति के करीब आने के लिए यह एक...

    + अधिक पढ़ें
  • 14दुमस

    दुमस बीच शहर से 16कि.मी. दूर है ओर स्थानीय लोगों के बीच एक लोकप्रिय गंतव्य है। सूरत के दक्षिण-पश्चिम में स्थित दुमस पर्यटकों के बीच भी एक लोकप्रिय गंतव्य है और अपनी काली रेत के लिए प्रसिद्ध है। इस शांत बीच के पास दरिया गणेश मंदिर भी है जहाँ आपको ज़रूर जाना चाहिए।

    + अधिक पढ़ें
One Way
Return
From (Departure City)
To (Destination City)
Depart On
25 Jun,Sat
Return On
26 Jun,Sun
Travellers
1 Traveller(s)

Add Passenger

  • Adults(12+ YEARS)
    1
  • Childrens(2-12 YEARS)
    0
  • Infants(0-2 YEARS)
    0
Cabin Class
Economy

Choose a class

  • Economy
  • Business Class
  • Premium Economy
Check In
25 Jun,Sat
Check Out
26 Jun,Sun
Guests and Rooms
1 Person, 1 Room
Room 1
  • Guests
    2
Pickup Location
Drop Location
Depart On
25 Jun,Sat
Return On
26 Jun,Sun