Search
  • Follow NativePlanet
Share
होम » स्थल» विजयदुर्ग

विजयदुर्ग - एक छोटा सा शहर

10

महाराष्ट्र राज्य में स्थित एक छोटा सा शहर, विजयदुर्ग, भारत की समुद्र तट पर साथ स्थित है। यह मुंबई से 485 किमी की दूरी पर है और सिंधुदुर्ग जिले में स्थित है। यह पूर्व में घेरिया के नाम से जाना जाता था। एक तरफ अरब सागर और दूसरे तरफ सहयाद्री पहाड़ियों के बीच बसा यह स्थान एक यात्रा के लायक जगह है। मराठा शासन के दौरान, विजयदुर्ग शहर और पूरे सिंधुदुर्ग जिले ने एक नौसेना बेस के रूप में सेवा की। आज भी यह एक कार्यरत बंदरगाह है। विजयदुर्ग एक व्यस्त सप्ताहांत के बाद तनावमुक्ति के लिए एक आदर्श स्थान के रूप में बन गया है।

अछूते तटों, ऐतिहासिक किलों के साथ विजयदुर्ग पर्यटकों को बहुतकुछ पेश करता है। समुद्र तटों के किनारे नारियल और पाम के पेड़ एक हरे जंगल के रुप में स्थित हैं। गर्मी में आम के बाग रसदार अलफांसो आम की खुशबू से पूरे क्षेत्र को सुगन्घित करते हैं। यहाँ लाल लकड़ी और पत्तों वाली छतों के बने घर सुन्दरता बढ़ाते हैं।

विजयदुर्ग किला - एक वास्तुशिल्प चमत्कार

विजयदुर्ग, विजयदुर्ग किले के लिए प्रसिद्ध है जिसे विक्टर फोर्ट के नाम से भी जाना जाता है - इसे महाराज शिवाजी ने भारत में मराठा शासन के दौरान बनाया गया था।यह 300 से अधिक साल पहले 17 वीं सदी में बनाया गया था। इसे घेरिया किला भी बुलाया जाता है क्योंकि यह तीन तरफ समुद्र से घिरा हुआ है। यह किला मराठा और पेशवा शासन के दौरान का बल था और इसे नाश करने के लिए सबसे अच्छा प्रयास करने वाले विदेशी दुश्मन के लिये भी अजेय था। किले की दीवारें तीन परतों की और इसके आसपास कई टॉवर और इमारतें किले को अजेय बनाती है। यह 17 एकड़ के क्षेत्र पर फैला है।भारी पैमाने पर बनाया गया यह किला एक समय पर अंग्रेजों द्वारा कब्जा कर लिया था, जिन्होने इस किले को फोर्ट अगस्टस या ओशियानिक किले नाम से पुनः नामकरण कर दिया था। वास्तुकला उत्साही इस सदियों पुराने संरचना की ओर अभी भी आकर्षित होते है और आगंतुक मन्त्रमुग्ध हो जाते हैं। किले की वजह से जिस तरीके में शिवाजी इस स्थान का फायदा उठाया यह एक वास्तुशिल्प प्रतिभा है।

खरपेतन क्रीक का इस किले से जुड़ा होना व्यावहारिक रूप से आसपास के क्षेत्र में बड़े जहाजों के प्रवेश को असंभव बना देता है। इस क्षेत्र को मराठा कबीले के युद्धपोतों के बंदरगाह के लिए इस्तेमाल किया गया था। इसीलिए यह किला 'ईस्टर्न जिब्राल्टर' के नाम से भी जाना गया। एक और चमत्कार देखने लायक है - अरब सागर में रखवाली के प्रयोजन से एक मंच का निर्माण किया गया है।

नौसेना गोदी एक जगह है जहां मराठा युद्धपोतों की मरम्मत का काम होता था, इसे वैगजोटन क्रीक के नाम से जाना जाता है, यह किले से डेढ़ किलोमीटर दूर स्थित है। यह उन दो किलों में से एक दिलचस्प है जहां शिवाजी ने भगवा ध्वज शुरू किया। तोरण किला दूसरी जगह है। आस पास के क्षेत्र में मारुति से महापुरूष और महादेव को लेकर विभिन्न देवी - देवताओं की मूर्तियों के साथ कई मंदिरों दिखाई देते है। वहाँ पर एक देहाती, बहुत पुराने रामेश्वर मंदिर मौजूद है।भक्तों और हिंदू अनुयायियों के बीच यह प्रसिद्ध है।

जब आप वहाँ हों तो क्या न भूलें

आप विजयदुर्ग के शहर की यात्रा स्थानीय स्वाद लिये बिना नहीं कर सकते हैं। जब आप यहाँ हैं तब 'मालवानी करी' को चखने की अवश्य कोशिश करनी चाहिए। सोल कढ़ी एक और आइटम है जिसे भूला नहीं जा सकता है। मछली पसन्द करने वालों के लिये यहाँ मछली के उपलब्ध व्यंजनों की विविधता में खुशी होगी। यहाँ के लोग स्नेही और मेहमाननवाज हैं। रहने की जगह एक समस्या नहीं होना चाहिए।

यदि आप गर्मी के मौसम के दौरान विजयदुर्ग की यात्रा पर हों, तो ताजा और रसदार अलफांसो आम और कटहल खाना मत भूलियेगा। काजू फैक्टरी यात्रा करें और देखें कैसे काजू संसाधित होता है।

कुछ अतिरिक्त तथ्य

विजयदुर्ग में अर्द्ध उष्णकटिबंधीय जलवायु वर्ष भर मौसम माधुर करता है।गर्मी के मौसम के दौरान बढ़ते तापमान की गर्मी के कारण आमतौर पर यात्रा न करने की सलाह दी जाती है। मानसून में प्रचुर वर्षा इस क्षेत्र सुन्दरता बढ़ाते हैं। इस जगह की यात्रा के लिये सर्दियां सबसे अच्छा समय हैं क्योंकि तापमान ठंडा और सुखदायक होता है। इस छोटे से शहर की पेशकश का आनंद लेने का सबसे अच्छा समय यही है।

विजयदुर्ग महाराष्ट्र के सभी भागों से आसानी से सुलभ है, और बाहर से भी है। यदि आप हवाई यात्रा कर रहे हैं, पणजी निकटतम हवाई अड्डा के रूप में आता है जहां से आप एक छोटी यात्रा एक टैक्सी पर शुरू कर सकते हैं। अगर ट्रेन से यात्रा कर रहे हैं तो कुडाल और राजापुर स्टेशनों में से किसी पर उतर सकते हैं।

विजयदुर्ग सभी प्रमुख शहरों से जैसे पुणे, मुंबई और कई और अधिक से अच्छी तरह से सड़क मार्ग से राज्य के स्वामित्व वाली या निजी बसों के माध्यम से जुड़ा है। महाराष्ट्र सरकार ने विजयदुर्ग के शहर को पर्यटन के विकास की दिशा में अपना ध्यान केंद्रित किया है। यदि आप एक वास्तुकला के शौकीन हैं या बस एक उत्सुक यात्री जो एक देश के इस चमत्कार से गर्व महसूस करते हैं तो विजयदुर्ग की यात्रा इसमें मदद करेगी!

विजयदुर्ग इसलिए है प्रसिद्ध

विजयदुर्ग मौसम

विजयदुर्ग
28oC / 82oF
  • Cloudy
  • Wind: NNW 17 km/h

घूमने का सही मौसम विजयदुर्ग

  • Jan
  • Feb
  • Mar
  • Apr
  • May
  • Jun
  • July
  • Aug
  • Sep
  • Oct
  • Nov
  • Dec

कैसे पहुंचें विजयदुर्ग

  • सड़क मार्ग
    विजयदुर्ग के लिए मुंबई, राजापुर आदि जैसे प्रमुख शहरों से विभिन्न बसें उपलब्ध हैं। बस आप चुनाव पर निर्भर करता है, लक्जरी डीलक्स, वातानुकूलित और गैर वातानुकूलित। किराया अलग अलग होंगे, औसतन लागत मुंबई से 400 रुपए के करीब और गोवा से 300 रुपये के आसपास आएगा।
    दिशा खोजें
  • ट्रेन द्वारा
    विजयदुर्ग के लिए निकटतम रेलवे स्टेशनों कुडाल और राजापुर हैं। यहां के लिये महाराष्ट्र के भीतर और बाहर के अधिकांश शहरों और कस्बों से नियमित ट्रेन हर रोज चलती हैं। किराया भी किफायती है, औसतन करीब 350 रुपये।
    दिशा खोजें
  • एयर द्वारा
    गोवा में पणजी हवाई अड्डा विजयदुर्ग के लिए निकटतम हवाई अड्डा है। यह मुख्य शहर से 180 किलोमीटर की दूरी पर है। ट्रेनों और बसों के लिए वहाँ से शहर तक पहुँचा जा सकता है।
    दिशा खोजें
One Way
Return
From (Departure City)
To (Destination City)
Depart On
20 Oct,Sun
Return On
21 Oct,Mon
Travellers
1 Traveller(s)

Add Passenger

  • Adults(12+ YEARS)
    1
  • Childrens(2-12 YEARS)
    0
  • Infants(0-2 YEARS)
    0
Cabin Class
Economy

Choose a class

  • Economy
  • Business Class
  • Premium Economy
Check In
20 Oct,Sun
Check Out
21 Oct,Mon
Guests and Rooms
1 Person, 1 Room
Room 1
  • Guests
    2
Pickup Location
Drop Location
Depart On
20 Oct,Sun
Return On
21 Oct,Mon
  • Today
    Vijaydurg
    28 OC
    82 OF
    UV Index: 7
    Cloudy
  • Tomorrow
    Vijaydurg
    27 OC
    81 OF
    UV Index: 6
    Patchy rain possible
  • Day After
    Vijaydurg
    28 OC
    82 OF
    UV Index: 6
    Patchy rain possible