Search
  • Follow NativePlanet
Share
होम » स्थल» सिंधुदुर्ग

सिंधुदुर्ग - एक ऐतिहासिक किला

14

सिंधुदुर्ग नाम सिंधु, जिसका मतलब समुद्र और दुर्ग, जिसका मतलब किला है, से मिलकर बना है। यह महान मराठा योद्धा राजा  छत्रपति शिवाजी द्वारा बनाया गया था। उन्होने इस चट्टानी द्वीप को इसलिये चुना क्योंकि यह विदेशी बलों से निपटने के सामरिक उद्देश्य के अनुरूप था  और मुरुद- जंजीरा के सिद्धी पर नजर रखने में सहायक था। इस किले की सुंदरता है कि यह इस तरह से बनाया गया है कि यह अरब सागर से आ रहे दुश्मन द्वारा आसानी से नहीं देखा जा सकता है।

यहाँ के प्रमुख आकर्षण समुद्र तटों के साथ-साथ कई किले हैं। पूर्व में, वीं सदी के आसपास 17 निर्मित, सिंधुदुर्ग महाराष्ट्र के सबसे महत्वपूर्ण समुद्र किला था। सिंधुदुर्ग किले में 42 बुर्ज के साथ टेढ़ी-मेढ़ी दीवार है। निर्माण सामग्री में ही करीब 73,000 किलो लोहा शामिल हैं। एक समय, जब हिंदू ग्रंथों द्वारा समुद्र से यात्रा पवित्र प्रतिबंधित किया गया था, तब बड़े पैमाने पर यह निर्माण मराठा राजा के क्रांतिकारी मानसिकता का प्रतिनिधित्व करता है। आज भी, मराठा महिमा का अनुभव करने के लिये दुनिया भर से पर्यटक पद्मागढ़ के किले की यात्रा करते हैं। देवबाग का विजयदुर्ग  किला, तिलारी बांध, नवदुर्गा मंदिर इस क्षेत्र में अन्य आकर्षण है जिन्हे देखने से चूकना नहीं चाहिए। सिन्धुदुर्ग में भारत का सबसे पुराना साईं बाबा का मन्दिर भी है।

सिंधुदुर्ग - इतिहास प्रकृति , और सब कुछ अच्छा

ऊंचे पहाड़ों, समुंदर का किनारा और एक शानदार दृश्यों के साथ संपन्न, यह जगह अलफांसो आम, काजू, जामुन आदि के लिए लोकप्रिय है। एक साफ दिन में लगभग 20 फीट की गहराई तक स्पष्ट समुद्र देखा जा सकता है। भारतीय और विदेशी पर्यटकों के लिए यह क्षेत्र बहुतकुछ पेश करता है और द्वीप के बाहरी इलाके में स्कूबा डाइविंग और स्नार्केलिंग के द्वारा मूँगे की चट्टानों दृश्य से प्यार हो जाता है।

पूरा जिला क्षेत्र के घने वन से आच्छादित है, वनस्पतियों और पशुवर्ग की बहुत सी प्रजातियां किसी भी प्रकृति प्रेमी को खुश करने के लिए काफी हैं। तेंदुआ, जंगली सूअर, नेवला, जंगली खरगोश, हाथी, जंगली भैंस और मकाक बंदर जैसे जंगली जानवरों यहां पाये जाते हैं।

यह क्षेत्र अपनी अनूठी मालवानी भोजन के लिए प्रसिद्ध है। समान रूप से घरेलू अथवा विदेशी पर्यटकों को यहाँ के खाद्य व्यंजनों की शानदार पेशकश, विशेष रूप से मछली और झींगे को स्थानीय स्वाद में चखने की कोशिश करनी चाहिए।

सिंधुदुर्ग एक रमणीय स्थल क्यों माना जाता है ?

सिंधुदुर्ग के क्षेत्र में नम जलवायु अनुभव होता है। ग्रीष्मकाल आमतौर पर गर्म रहते हैं बल्कि यात्रियों के लिए सर्दियों के मौसम के दौरान यात्रा की सलाह दी जाती है, विशेष रूप से दिसंबर और जनवरी में, जब मौसम बहुत ठंडा और सुखद होता है।

मुंबई से 400 किलोमीटर की दूरी पर, सिंधुदुर्ग वायुमार्ग, सड़क और रेल द्वारा सुलभ है। यहाँ तक पहुँचने का लिये महाराष्ट्र के शहरों तथा महाराष्ट्र के बाहर से काफी संख्या में बसें उपलब्ध हैं। राष्ट्रीय राजमार्ग 17 इस क्षेत्र से गुजरता है।

यहाँ मुंबई, गोवा और मंगलौर जैसे प्रमुख स्थानों से ट्रेन या बस से पहुँचा जा सकता है। गोवा हवाई अड्डा, 80 किमी की दूरी पर, सिंधुदुर्ग के लिए निकटतम हवाई अड्डा है। सुंदर समुंदर के किनारे पर चलना, ऐतिहासिक भव्यता का पता लगाना, या बस आराम करना - सिंधुदुर्ग में हर प्रकार के यात्री की लिए कुछ अवश्य है। इस किले में संग्रहित यादों को आप देखना मत भूलियेगा।

सिंधुदुर्ग इसलिए है प्रसिद्ध

सिंधुदुर्ग मौसम

घूमने का सही मौसम सिंधुदुर्ग

  • Jan
  • Feb
  • Mar
  • Apr
  • May
  • Jun
  • July
  • Aug
  • Sep
  • Oct
  • Nov
  • Dec

कैसे पहुंचें सिंधुदुर्ग

  • सड़क मार्ग
    राज्य स्वामित्व वाली बसें महाराष्ट्र में मुंबई, पणजी, पुणे, कोल्हापुर और रत्नागिरि जैसे कई शहरों से उपलब्ध हैं। इन बसों की आवृत्ति भी अच्छी है, और यात्रा के संदर्भ में भी सबसे सस्ता विकल्प है। हालांकि, बसों में आमतौर पर भीड़ और अपेक्षाकृत लंबी यात्रा के लिए असुविधाजनक होने के कारण बस यात्रा की सलाह नहीं दी जाती है।
    दिशा खोजें
  • ट्रेन द्वारा
    सिंधुदुर्ग अच्छी तरह से रेल द्वारा भी जुड़ा हुआ है। यहाँ एक रेल स्टेशन है, लेकिन केवल कुछ गाड़ियों का यहाँ ठहराव है। सिंधुदुर्ग के लिए, सावंतवाडी और कुडाल, दो प्रमुख स्टेशन क्रमशः लगभग 35 किमी और 25 किमी की दूरी पर स्थित, सबसे करीब हैं। ये कोंकण रेलवे लाइन पर स्थित है और गंतव्य तक पहुंचने के लिए टैक्सियाँ मदद के लिए उपलब्ध हैं। गोवा (मडगाँव) और मुंबई (छत्रपति शिवाजी टर्मिनल) से मंडोवी एक्सप्रेस और कोंकण कन्या एक्सप्रेस रोज़ चलती हैं। सिंधुदुर्ग स्टेशन तक पहुँचने के लिए मुंबई से करीब 9 घंटे लगते है जबकि गोवा से यह केवल 2 घंटे की दूरी पर है।
    दिशा खोजें
  • एयर द्वारा
    वायुमार्ग से आ रहे लोगों के लिए, गोवा में डाबोलिम हवाई अड्डा सबसे अच्छा विकल्प है। हवाई अड्डे से सिंधुदुर्ग लगभग 80 किमी दूर है और आसानी से टैक्सियों के माध्यम से पहुँचा जा सकता है। सिंधुदुर्ग के निकट स्थित अन्य हवाई अड्डे हैं: कोल्हापुर हवाई अड्डा (वायुमार्ग द्वारा दूरी- 91 किलोमीटर) लोहेगाँव हवाई अड्डा, पुणे (वायुमार्ग द्वारा दूरी- 276 किमी) छत्रपति शिवाजी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा, मुंबई (वायुमार्ग द्वारा दूरी- 344 किमी)
    दिशा खोजें
One Way
Return
From (Departure City)
To (Destination City)
Depart On
20 Jan,Thu
Return On
21 Jan,Fri
Travellers
1 Traveller(s)

Add Passenger

  • Adults(12+ YEARS)
    1
  • Childrens(2-12 YEARS)
    0
  • Infants(0-2 YEARS)
    0
Cabin Class
Economy

Choose a class

  • Economy
  • Business Class
  • Premium Economy
Check In
20 Jan,Thu
Check Out
21 Jan,Fri
Guests and Rooms
1 Person, 1 Room
Room 1
  • Guests
    2
Pickup Location
Drop Location
Depart On
20 Jan,Thu
Return On
21 Jan,Fri