Search
  • Follow NativePlanet
Share
होम » स्थल» अगरतला

अगरतला पर्यटन -  महलों और मंदिरों का शहर

37

पूर्वोत्तर भारत में गुवाहाटी के बाद अगरतला सबसे महत्वपूर्ण शहर है। त्रिपुरा की राजधानी अगरतला क्षेत्रफल और जनसंख्या की दृष्टि से इस क्षेत्र का दूसरा सबसे बड़ा शहर है। बांग्लादेश से सिर्फ दो किमी दूर स्थित यह शहर सांस्कृतिक रूप से काफी समृद्ध है। अगरतला त्रिपुरा के पश्चिमी भाग में स्थित है और हरोआ नदी शहर से होकर गुजरती है। पर्यटन की दृष्टि से यह एक ऐसा शहर है, जहां मनोरंजन के तमाम साधन हैं, एंडवेंचर के ढेरों विकल्प हैं और सांस्कृतिक रूप से भी बेहद समृद्ध है। इसके अलावा यहां पाए जाने वाले अलग-अलग किस्म के जीव-जंतु और पेड़ पौधे अगरतला पर्यटन को और भी रोचक बना देते हैं।

भौगोलिक दृष्टि से भी अगरतला इस क्षेत्र के अन्य राज्यों की राजधानी से काफी अलग है। दूसरी राजधानियों से उलट अगरतला बांग्लादेश तक फैले गंगा-ब्रह्मपुत्र के मैदानी ईलाके के पश्चिमी छोर पर स्थित है। यहां बड़े भूभाग पर जंगल फैला हुआ है, जिससे यह शहर काफी हरा-भरा दिखाई देता है।

राज्य की राजधानी होने के बावजूद भी एक मामले में आप कह सकते हैं कि अगरतला पिछड़ा हुआ है। किसी दूसरे बड़े शहरों की तहर यहां ज्यादा आपाधापी और हलचल नहीं है। संस्कृति और प्रकृति के बीच यहां का शांत और निर्मल माहौल छुट्टी बिताने की एक आदर्श जगह हो सकती है।

संक्षिप्त इतिहास

अगरतला उस समय प्रकाश में आया जब माणिक्य वंश ने इसे अपनी राजधानी बनाया। 19वीं शताब्दी में कुकी के लगातार हमलों से परेशान होकर महाराज कृष्ण माणिक्य ने उत्तरी त्रिपुरा के उदयपुर स्थित रंगामाटी से अपनी राजधानी को अगरतला शिफ्ट कर दिया।

राजधानी बदलने की एक और वजह यह भी थी कि महाराज अपने साम्राज्य और पड़ोस में स्थित ब्रिटिश बांग्लादेश के साथ संपर्क बनाने चाहते थे। आज अगरतला जिस रूप में दिखाई देता है, दरअसल इसकी परिकल्पना 1940 में महाराज बीर बिक्रम किशोर माणिक्य बहादुर ने की थी।

उन्होंने उस समय सड़क, मार्केट बिल्डिंग और नगरनिगम की योजना बनाई। उनके इस योगदान को देखते हुए ही अगरतला को ‘बीर बिक्रम सिंह माणिक्य बहादुर का शहर’ भी कहा जाता है। शाही राजधानी और बांग्लादेश से नजदीकी होने के कारण अतीत में कई बड़ी नामचीन हस्तियों ने अगरतला का भ्रमण किया। रविन्द्रनाथ टैगोर कई बार अगरतला आए थे। उनके बारे में कहा जाता है कि त्रिपुरा के राजाओं से उनके काफी गहरे संबंध थे।

अगरतला और आसपास के पर्यटन स्थल

अगरतला और आसापास के क्षेत्र में कई पर्यटन स्थल हैं। अगरतला पूर्वोत्तर के उन कुछ गिने चुने शहरों में से है, जिसने आधुनिकता को बेहद सहजता से अपनाने के साथ-साथ पुराने गौरवशाली विरासत को बचाए रखा है। वैसे तो शहर राजमहलों और शाही संपदाओं से भरा हुआ है, बावजूद इसके यहां आधुनिक भवनों का निर्माण भी तेजी से हुआ है। पुराने और नए निर्माण आपस में मिलकर शहर को एक नया आयाम देते हैं। अगर आप अगरतला घूमने जा रहे हैं, तो इन स्थानों पर जरूर जाएं-

उज्जयंता महल :

इस महल को महाराजा राधा किशोर माणिक्य ने बनवाया था। अगरतला जाने पर इस महल को जरूर घूमना चाहिए। इसका निर्माण कार्य 1901 में पूरा हुआ था और फिलहाल इसका इस्तेमाल राज्य विधानसभा के रूप में किया जा रहा है।

नीरमहल :

मुख्य शहर से 53 किमी दूर स्थित इस खूबसूतर महल को महाराजा बीर बिक्रम किशोर माणिक्य ने बनवाया था। रुद्रसागर झील के बीच में स्थित इस महल में महाराजा गर्मियों के समय ठहरते थे। महल निर्माण में इस्लामिक और हिंदू वास्तुशिल्प का मिला-जुला रूप देखने को मिलता है, जिससे इसे काफी ख्याति भी मिली है।

जगन्नाथ मंदिर:

अगरतला के सर्वाधिक पूजनीय मंदिरों में से एक जन्नाथ मंदिर अपनी अनूठी वास्तुशिल्पीय शैली के लिए जाना जाता है। यह एक अष्टभुजीय संरचना है और मंदिर के पवित्र स्थल के चारों ओर आकर्षक प्रधक्षण पठ है।

महाराजा बीर बिक्रम कॉलेज :

जैसा कि नाम से ही जाहिर है, इस कॉलेज को महाराजा बीर बिक्रम सिंह ने बनवाया था। 1947 में इस कॉलेज को बनवाने पीछे महाराजा कि मंशा स्थानीय युवाओं को व्यवसायिक और गुणवत्तायुक्त शिक्षा उपलब्ध कराना था।

लक्ष्मी नारायण मंदिर :

इस मंदिर में हिंदू धर्म को मानने वाले नियमित रूप से जाते हैं। साथ ही यह अगरतला का एक लोकप्रिय पर्यटन स्थल भी है। इस मंदिर को कृष्णानंद सेवायत ने बनवाया था।

रविन्द्र कनान :

राज भवन के बगल में स्थित रविन्द्र कनान एक बड़ा सा हरा-भरा गार्डन है। यहां हर उम्र के लोग आते हैं। कुछ तो यहां मौज मस्ती के मकसद से आते हैं, वहीं कुछ इसका इस्तेमाल प्ले ग्राउंड के तौर पर भी करते हैं।

अगरतला तेजी से एक आधुनिक शहर के रूप में विकसित हो रहा है, जिससे यह आधुनिक सुख-सुविधाओं के साधन से भी लैश है। एक ओर जहां आपको विश्व स्तरीय रेस्टोरेंट मिलेंगे, वहीं दूसरी ओर मध्यम दर्जे के रेस्टोरेंट की भी कमी नहीं होगी। साथ ही यहां ठहरना भी आपको ज्यादा महंगा नहीं पड़ेगा।

ये तमाम चीजें मिलकर अगरतला पर्यटन को काफी सहज बना देती है। यहां के रेस्टोरेंट में आपको उपमहाद्वीपीय, चायनीज और भारतीय व्यंजन औसत दरों पर मिल जाएंगे। यहां के होटल का किराया भी मुनासिब ही है और इसमें सभी बुनियादी सेवाएं उपलब्ध रहती हैं।

पिछले कुछ सालों में चावल, तिलहन, चाय और जूट के नियमित व्यापार से अगरतला पूर्वोत्तर भारत के एक व्यवसायिक गढ़ के रूप में भी उभरा है। शहर में कुछ फलते-फूलते बाजार हैं, जिन्हें घूमना बेकार नहीं जाएगा। इन बाजारों में बड़े पैमाने पर हस्तशिल्प और ऊन से बने वस्त्र आपको मिल जाएंगे।

 

अगरतला इसलिए है प्रसिद्ध

अगरतला मौसम

अगरतला
16oC / 61oF
  • Mist
  • Wind: N 0 km/h

घूमने का सही मौसम अगरतला

  • Jan
  • Feb
  • Mar
  • Apr
  • May
  • Jun
  • July
  • Aug
  • Sep
  • Oct
  • Nov
  • Dec

कैसे पहुंचें अगरतला

  • सड़क मार्ग
    अगरतला देश के अन्य हिस्सों से सड़क मार्ग से अच्छे से जुड़ा हुआ है। नेशनल हाइवे 44 अगरतला को असम से जोड़ता है। एनएच 44 और एनएच 44ए शहर को सिलचर, गुवाहाटी और शिलोंग से जोड़ता है। बांग्लादेश की राजधानी ढाका के लिए भी बस सेवा उपलब्ध है। विकल्प के तौर पर प्राइवेट टैक्सी भी आपको मिल जाएंगे।
    दिशा खोजें
  • ट्रेन द्वारा
    अगरतला रेलवे स्टेशन शहर से करीब 5.5 किमी दूर है। ट्रेन से अगरतला जाने के लिए आपको पहले गुवाहाटी जाना होगा। फिर वहां से ब्रॉड गज ट्रेन के जरिए लुमडिंग तक जाना होगा। इसके बाद आप लुमडिंग से एक्सप्रेस ट्रेन पकड़ कर अगरतला पहुंच सकते हैं। एक और विकल्प यह है कि आप दक्षिण असम के सिलचर से अगरतला के लिए सीधी ट्रेन पकड़ें।
    दिशा खोजें
  • एयर द्वारा
    शहर से 12 किमी दूर सिंगरभिल में एयरपोर्ट स्थित है। गुवाहाटी और कोलकाता होते हुए यहां से दिल्ली, मुंबई व बेंगलूरू के लिए उड़ानें मिलती हैं। एयरपोर्ट के बाहर आपको कई टैक्सी और ऑटो रिक्शा मिल जाएंगे, जो आपको 20 मिनट के अंदर शहर पहुंचा देगा।
    दिशा खोजें

अगरतला यात्रा डायरी

One Way
Return
From (Departure City)
To (Destination City)
Depart On
22 Feb,Fri
Return On
23 Feb,Sat
Travellers
1 Traveller(s)

Add Passenger

  • Adults(12+ YEARS)
    1
  • Childrens(2-12 YEARS)
    0
  • Infants(0-2 YEARS)
    0
Cabin Class
Economy

Choose a class

  • Economy
  • Business Class
  • Premium Economy
Check In
22 Feb,Fri
Check Out
23 Feb,Sat
Guests and Rooms
1 Person, 1 Room
Room 1
  • Guests
    2
Pickup Location
Drop Location
Depart On
22 Feb,Fri
Return On
23 Feb,Sat
  • Today
    Agartala
    16 OC
    61 OF
    UV Index: 10
    Mist
  • Tomorrow
    Agartala
    21 OC
    70 OF
    UV Index: 10
    Partly cloudy
  • Day After
    Agartala
    22 OC
    71 OF
    UV Index: 9
    Partly cloudy