Search
  • Follow NativePlanet
Share
होम » स्थल » तिरुनेलवेली » आकर्षण

तिरुनेलवेली आकर्षण

  • 01नेल्लईअप्पार मंदिर

    तिरुनेलवेली का नेल्लईअप्पार मंदिर तमिलनाडु का सबसे बड़ा शिव मंदिर है। इसे 700 ई. में पंड्या द्वारा बनाया गया था और इस मंदिर में भगवान शिव और उनकी पत्नी देवी पार्वती के लिए दो अलग मंदिर बनाए गए हैं। ये मंदिर 17 वीं सदी में बनाए गए संगिली मंड़पम से जुड़े हुए हैं।...

    + अधिक पढ़ें
  • 02केज़्हा तिरुवेंकटनाथापुरम, केज़्हा तिरुपति मंदिर

    केज़्हा तिरुवेंकटनाथापुरम, केज़्हा तिरुपति मंदिर

    केज़्हा तिरुवेंकटनाथापुरम, तिरुनेल्वेली से 10 किली दूर स्थित एक छोटा सा गांव है। यहां स्थित इस मंदिर को "सेंगनी" के रूप में भी जाना जाता था, जिसका शाब्दिक अनुवाद लाल भूमि के रुप में होता है। लेकिन यह आज "संगनी" के नाम से जाना जाता है।

    यह मंदिर भगवान शिव को...

    + अधिक पढ़ें
  • 03श्री अलगिय मन्नार राजगोपाला स्वामी मंदिर

    श्री अलगिय मन्नार राजगोपाला स्वामी मंदिर

    श्री अलगिय मन्नार राजगोपाला स्वामी मंदिर कम से कम हजार साल पुराना है और दक्षिण भारत के सबसे पुराने मंदिरों में से एक है। इस मंदिर के इष्टदेव की पूजा करने के लिए देश के सभी हिस्सों से बड़ी संख्या में श्रदालु आते हैं। आमतौर पर माना जाता है कि इस मंदिर के दर्शन,...

    + अधिक पढ़ें
  • 04कप्पल माता चर्च

    कप्पल माता चर्च

    कप्पल माता चर्च सेंट मैरी को समर्पित है। यह समुद्र तट पर स्थित है तथा एक जहाज के रुप में बनाई गई है। समुद्र के कटाव के कारण मूल कप्पल माता चर्च नष्ट हो गई थी। 1974 में इस मूल कप्पल माता चर्च के अवशेषों पर एक नई चर्च बनाई गई है।

    इस चर्च की भी अपनी कई...

    + अधिक पढ़ें
  • 05श्री वरदराजा पेरूमल मंदिर

    श्री वरदराजा पेरूमल मंदिर को सदियों पहले राजा कृष्णवर्मा ने बनवाया था जो श्री वरदराजा पेरूमल के एक कट्टर अनुयायी थे। पौराणिक कथा के अनुसार, जब राजा कृष्णवर्मा पर पड़ोसी राज्य के राजा ने हमला किया तो इस देवता ने वीरराघवन के रुप में इस राजा की मदद की थी।

    ...
    + अधिक पढ़ें
  • 06मेला तिरुवेंकटनाथापुरम मंदिर

    मेला तिरुवेंकटनाथापुरम मंदिर

    मेला तिरुवेंकटनाथापुरम मंदिर एक छोटे से गांव में स्थित है, जो इसी नाम से जाना जाता एक गांव भी है। यह स्थान तिरुन्नकोविल के रुप में भी जाना जाता है और एक पहाड़ी की चोटी पर स्थित है। किंवदंती है कि महर्षि व्यास के छात्र बाबा पिलोर ने भी तामिरभरणी नदी के इसी तट पर...

    + अधिक पढ़ें
One Way
Return
From (Departure City)
To (Destination City)
Depart On
17 Jan,Mon
Return On
18 Jan,Tue
Travellers
1 Traveller(s)

Add Passenger

  • Adults(12+ YEARS)
    1
  • Childrens(2-12 YEARS)
    0
  • Infants(0-2 YEARS)
    0
Cabin Class
Economy

Choose a class

  • Economy
  • Business Class
  • Premium Economy
Check In
17 Jan,Mon
Check Out
18 Jan,Tue
Guests and Rooms
1 Person, 1 Room
Room 1
  • Guests
    2
Pickup Location
Drop Location
Depart On
17 Jan,Mon
Return On
18 Jan,Tue