Search
  • Follow NativePlanet
Share
होम » स्थल» मदुरई

मदुरई – एक पवित्र शहर

57

मदुरई दक्षिण भारतीय राज्य तमिलनाडु का दूसरा सबसे बड़ा शहर है। वैगई नदी के किनारे स्थित मंदिरों का यह शहर सबसे पुराने बसे हुए शहरों में से एक है। शहर के उत्तर में सिरुमलाई पहाड़ियां स्थित हैं तथा दक्षिण में नागामलाई पहाड़ियां स्थित हैं। मदुरई का नाम “मधुरा” शब्द से पड़ा जिसका अर्थ है मिठास। कहा जाता है कि यह मिठास दिव्य अमृत से उत्पन्न हुई थी तथा भगवान शिव ने इस अमृत की इस शहर पर वर्षा की थी।

मदुरई को अन्य कई नामों से भी जाना जाता है जैसे “चार जंक्शनों का शहर”, “पूर्व का एथेंस”, “लोटस सिटी” और “स्लीपलेस ब्यूटी”। इनमें से प्रत्येक नाम शहर की विशेषता को प्रदर्शित करता है। इस शहर को लोटस सिटी कहा जाता है क्योंकि यह शहर कमल के आकार में बना हुआ है। इस शहर को “स्लीपलेस ब्यूटी” भी कहा जाता है क्योंकि इस शहर में 24X7 काम करने की संस्कृति है।

इस शहर में कई रेस्टारेंट हैं जो लगभग 24 घंटे चलते हैं तथा यहाँ रात में भी परिवहन की सुविधा उपलब्ध रहती है।

मदुरई में क्या करें – मदुरई में तथा इसके आसपास आकर्षण

मदुरई शहर विभिन्न धर्मों और संस्कृतियों की उपस्थिति के लिए जाना जाता है। विभिन्न धर्मों के अवशेष इसे महत्वपूर्ण तीर्थ स्थान बनाते हैं। मीनाक्षी सुंदरेश्वर मंदिर, गोरिपलायम दरगाह और सेंट मेरीज़ कैथेड्रल यहाँ के प्रमुख प्रसिद्ध धार्मिक स्थान है। गाँधी म्यूज़ियम (संग्रहालय), कूडल अल्ज़गर मंदिर, कज़ीमार मस्जिद, तिरुमलाई नयक्कर पैलेस, वंदीयुर मारियाम्मन तेप्पाकुलम, तिरुपरंकुन्द्रम, पज्हामुदिरचोलाई, अलगर कोविल, वैगई बाँध और अथिसायम थीम पार्क की सैर अवश्य करनी चाहिए।

मदुरई का सबसे महत्वपूर्ण त्योहार चिथिरई त्योहार है जो अप्रैल और मई के महीने में मनाया जाता है। यह त्योहार मीनाक्षी मंदिर में मनाया जाता है तथा इस दौरान यहाँ हजारों की संख्या में भक्त आते हैं। इस त्योहार में कई अनुष्ठान किये जाते हैं जिसमें देवी का राज्याभिषेक, रथ उत्सव तथा देवताओं का विवाह शामिल हैं। इस उत्सव की समाप्ति भगवान विष्णु के अवतार भगवान कल्लाज्हगा को मंदिर में वापस लाने से होती हैं।

थेप्पोरचवं त्योहार जनवरी और फरवरी के महीने में मनाया जाता है तथा सितंबर में मनाया जाने वाला त्योहार अवनिमूलम मदुरई में मनाये जाने वाले प्रमुख त्योहारों में से एक है।  जल्लीकट्टू एक प्रसिद्ध ऐतिहासिक खेल है जो मदुरई में मनाये जाने वाले पोंगल त्योहार का एक भाग है तथा यह त्योहार हजारों पर्यटकों को मदुरई की ओर आकर्षित करता है। सिल्क की साड़ियों, लकड़ी की नक्काशी से बनी वस्तुओं, खादी कॉटन तथा मूर्तियों की शॉपिंग के बिना मदुरई की सैर अधूरी है।

इतिहास की एक झलक

मदुरई का इतिहास ईसा पूर्व 1780 का है जब शहर में तमिल संगम आयोजित किये जाते थे। मैग्स्थ्नीज़ तथा अर्थशास्त्री कौटिल्य के अनेक उत्कृष्ट कार्यों में इस शहर का उल्लेख मिलता है। 6 वीं शताब्दी तक इस शहर पर कालाभरस ने शासन किया।

कालाभरस के पश्चात इस शहर ने कई राजवंशों का उत्थान और पतन देखा जैसे पूर्व पांड्य, पश्चात पांड्य, मध्यकालीन चोल, मदुरई सल्तनत, मदुरई नायक्स, चंदा साहिब, विजयनगर साम्राज्य, कर्नाटिक राज और ब्रिटिश राज। यह शहर 1981 में मद्रास प्रेसीडेंसी के के एक भाग के रूप में ब्रिटिश लोगों के अधीन आया। भारत के स्वतंत्रता आंदोलन में इस शहर ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

विभिन्न नेता जैसे एनएमआर सुब्रमण, मीर इब्राहीम साहिब तथा मोहम्मद इस्माईल साहिब मदुरई शहर में रहते थे। वास्तव में इस शहर के खेतिहर मजदूरों ने ही महात्मा गांधी को पतलून त्यागने तथा धोती पहनने के लिए प्रेरित किया था।

मदुरई कैसे पहुंचे

मदुरई का परिवहन तंत्र देश के अन्य भागों से अच्छी तरह से जुड़ा है। मदुरई हवाई अड्डा विभिन्न शहरों जैसे दिल्ली, चेन्नई, मुंबई और बैंगलोर से जुड़ा हुआ है। चेन्नई निकटतम अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा है। मदुरई रेलवे नेटवर्क विभिन्न शहरों जैसे मुंबई, कोलकाता, मैसूर, कोयंबटूर और चेन्नई से जुड़ा हुआ है। मदुरई से विभिन्न शहरों जैसे चेन्नई, बैंगलोर, कोयंबटूर, त्रिवेंद्रम आदि शहरों के लिए बस सुविधा भी उपलब्ध है।

मदुरई का मौसम

मदुरई का मौसम सूखा और गर्म होता है। हालांकि अक्टूबर से मार्च के महीनों के बीच इस स्थान की सैर करना उचित होता है। इस दौरान मौसम ठंडा और खुशनुमा होता है तथा पर्यटन के लिए उचित होता है। इस समय यहाँ की यात्रा आनंददायक होती है तथा इस दौरान आप यहाँ के मंदिरों तथा दृश्यों का आनंद उठा सकते हैं।

मदुरई इसलिए है प्रसिद्ध

मदुरई मौसम

घूमने का सही मौसम मदुरई

  • Jan
  • Feb
  • Mar
  • Apr
  • May
  • Jun
  • July
  • Aug
  • Sep
  • Oct
  • Nov
  • Dec

कैसे पहुंचें मदुरई

  • सड़क मार्ग
    मदुरई से होकर अनेक महामार्ग गुज़रते हैं जैसे एनएच7, एनएच45 बी, एनएच49 तथा एनएच208। अत: कई दक्षिण भारतीय शहरों से मदुरई तक रास्ते द्वारा आसानी से पहुंचा जा सकता है। राज्य परिवहन की बसें इस शहर को तमिलनाडु के कई शहरों से जोड़ती हैं। विभिन्न शहरों जैसे चेन्नई, कोयंबटूर, त्रिवेंद्रम, त्रिची और बैंगलोर के लिए कई निजी बसें भी चलती हैं।
    दिशा खोजें
  • ट्रेन द्वारा
    मदुरई जंक्शन दक्षिण भारत का एक प्रमुख रेलवे जंक्शन है। यह स्टेशन देश के अधिकाँश भागों से जुड़ा हुआ है। मदुरई से अनेक महत्वपूर्ण शहरों जैसे दिल्ली, चेन्नई, कोलकाता, कन्याकुमारी, कोयंबटूर और बैंगलोर के लिए ट्रेन उपलब्ध हैं।
    दिशा खोजें
  • एयर द्वारा
    मदुरई में एक घरेलू हवाई अड्डा है जो शहर से 10 किमी. की दूरी पर स्थित है। मदुरई से मुंबई, दिल्ली, चेन्नई और बैंगलोर तथा अन्य शहरों के लिए नियमित उड़ानें उपलब्ध हैं। निकटतम अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा चेन्नई है जो भारत के प्रमुख शहरों तथा विदेशों से जुड़ा हुआ है।
    दिशा खोजें

मदुरई यात्रा डायरी

One Way
Return
From (Departure City)
To (Destination City)
Depart On
20 Oct,Wed
Return On
21 Oct,Thu
Travellers
1 Traveller(s)

Add Passenger

  • Adults(12+ YEARS)
    1
  • Childrens(2-12 YEARS)
    0
  • Infants(0-2 YEARS)
    0
Cabin Class
Economy

Choose a class

  • Economy
  • Business Class
  • Premium Economy
Check In
20 Oct,Wed
Check Out
21 Oct,Thu
Guests and Rooms
1 Person, 1 Room
Room 1
  • Guests
    2
Pickup Location
Drop Location
Depart On
20 Oct,Wed
Return On
21 Oct,Thu