भरतपुर - यहाँ, पक्षियों के साथ व्यक्तिगत हो सकते हैं आप

होम » स्थल » भरतपुर » अवलोकन

भरतपुर भारत का एक जाना माना पर्यटन गंतव्य है। इसे राजस्थान का पूर्वी द्वार भी कहा जाता है और यह राजस्थान के भरतपुर जिले में स्थित है। यह एक प्राचीन शहर है जिसका निर्माण वर्ष 1733 में महाराजा सूरजमल ने करवाया था। इस शहर का नाम हिंदुओं के भगवान राम के भाई भरत के नाम पर पड़ा।

भगवान राम के भाई लक्ष्मण की भी भरतपुर में पारिवारिक भगवान के रूप में पूजा की जाती है। भरतपुर को लोहगढ़ भी कहा जाता है क्योंकि यह जयपुर, उदयपुर, जैसलमेर और जोधपुर जैसे लोकप्रिय पर्यटन स्थलों के लिए एक मार्ग के रूप में कार्य करता है। भरतपुर जिला हरियाणा, उत्तर प्रदेश, धौलपुर, करौली, जयपुर और अलवर से लगा हुआ है।

पक्षियों के लिए स्वर्ग

पक्षी उत्सुकों का स्वर्ग भरतपुर विश्व में अपने राष्ट्रीय उद्यान के लिए प्रसिद्द है। यह उद्यान लगभग 375 प्रकार के पक्षियों का प्राकृतिक आवास है। इस उद्यान की सैर के लिए सबसे उत्तम समय ठंड और मानसून के मौसम हैं। प्रवासी जलपक्षी जैसे सिर पर पट्टी और ग्रे रंग के पैरों वाली बतख, कुछ अन्य पक्षी जैसे पिनटेल बतख, सामान्य छोटी बतख, रक्तिम बतख, जंगली बतख, वेगंस, शोवेलेर्स, सामान्य बतख, लाल कलगी वाली बतख, और गद्वाल्ल्स को आमतौर पर जंगल में देखा जाता है।

वास्तुकला शैलियों का एक मिश्रण

भरतपुर में स्मारकों की वास्तुकला राजपूत, मुगल और ब्रिटिश स्थापत्य शैली के प्रभाव को दर्शाती है। लोह्गढ़ किला राजस्थान राज्य के जानी माने किलों में से एक है। पर्यटक शहर में डीग किला, भरतपुर महल, गोपाल भवन और सरकारी संग्रहालय भी देख सकते हैं। इसके अलावा, बांकेबिहारी मंदिर, गंगा मंदिर और लक्ष्मण मंदिर भरतपुर के कुछ प्रमुख धार्मिक स्थान हैं।

भरतपुर पहुँचना

इस सुंदर गंतव्य स्थान तक वायुमार्ग, रेलमार्ग और रास्ते से आसानी से पहुँचा जा सकता है। पर्यटक दिल्ली के इंदिरा गाँधी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे से टैक्सी या बस द्वारा इस स्थान तक आसानी से पहुँच सकते हैं। यह हवाई अड्डा प्रमुख भारतीय शहरों जैसे मुंबई, बंगलुरु, कोलकाता और चेन्नई से नियमित उड़ानों द्वारा जुड़ा हुआ है। भरतपुर रेलवे स्टेशन जयपुर, मुंबई, अहमदाबाद और दिल्ली से जुड़ा हुआ है। पर्यटक भरतपुर पहुँचने के लिए स्टेशन से बस या टैक्सी ले सकते हैं। विभिन्न शहरों जैसे आगरा, नई दिल्ली, फतेहपुर सीकरी, जयपुर और अलवर से भरतपुर के लिए राज्य परिवहन की तथा निजी बसें भी उपलब्ध हैं।

थार मरुस्थल के पास स्थित होने के कारण भरतपुर की जलवायु चरम होती है। भरतपुर की सैर के लए ठंड और मानसून का मौसम उपयुक्त होता है।

 

Please Wait while comments are loading...