Search
  • Follow NativePlanet
Share
होम » स्थल» कन्‍नूर

कन्‍नूर -  जहां प्रकृति और संस्‍कृति का मिलाप होता है

84

कन्‍नूर, जो इसके प्राचीन नाम कन्‍नानोर के नाम से अधिक लोकप्रिय है, केरल का एक उत्‍तरी जिला है जो यहां की जीवंत संस्‍कृति और समृद्ध विरासत के लिए प्रसिद्ध है। यह क्षेत्र, पश्चिमी घाट और अरब सागर के साथ अपनी सीमाओं को साझा करता है, जहां प्रचुर मात्रा में प्राकृतिक सुंदरता और सांस्‍कृतिक परंपराओं को दर्शाया जाता है।

प्राचीन काल के दौरान,यह जिला सांस्‍कृतिक और धार्मिक क्षेत्रों के अलावा, मालाबार क्षेत्र का एक व्‍यावसायिक केंद्र भी हुआ करता था। कन्‍नूर में कई साम्राज्‍यों की संस्‍कृति झलकती है जो इस क्षेत्र को उनकी शक्ति और जज्‍बे की भूमि बयां करती है।

इस जगह का इतिहास बाईबिल काल के दौरान से ही अस्तित्‍व में पता चलता है, कहा जाता है कि राजा सुलैमान, कन्‍नूर के तटों पर ही अपने जहाजों के लंगर डलवाते थे। डच, पुर्तगालों, मैसूर सल्‍तनत और ब्रिटिश के आक्रमणों की लम्‍बी दास्‍तानों ने इस क्षेत्र के इतिहास को अभूतपूर्व दिशा में बदल दिया है।

लोकगीतों और समुद्र तटों की भूमि

अक्‍सर परम्‍परागत ज्ञान और बुनाई की भूमि कहा जाने वाला कन्‍नूर, अपनी अनूठी कपड़ा बनाने की विधि और मंदिरों में गाए जाने वाले लोकगीतों के रूपों जैसे - थेय्यट्टम आदि के कारण पूरे विश्‍व का ध्‍यान आकर्षित करता है। कन्‍नूर के सबसे प्रसिद्ध मंदिरों में सुंदरेश्‍वरा मंदिर, कोट्टियूर शिव मंदिर, ओरफाझहास्‍सी कावु मंदिर, श्री माविलयक्‍कावु मंदिर, श्री राघवपुरम मंदिर, श्री सुब्र‍हामण्‍यम स्‍वामी मंदिर और किझाक्‍केकारा श्री कृष्‍णा मंदिर हैं।

कन्‍नूर सबसे अच्‍छा जाना जाता है और यहां के रेतीले तट, क्षेत्र के विशाल हिस्‍सों में फैले हुए हैं जो आने वाले पर्यटकों को आराम और खुशी दोनों प्रदान करते हैं। कन्‍नूर क्षेत्र के सबसे प्रसिद्ध तटों में से पय्यमबालम तट, मीनकुन्‍नू तट, किझुन्‍ना इझारा तट और मुझुप्‍पीलंगढ तट प्रमुख हैं।

जायके की विरासत और विरासत का जायका

कन्‍नूर की विशाल ऐतिहासिक इमारतों और सर्वाधिक मोहक पाक संस्‍कृति के कारण, इसे केरल के मॉडेम इतिहास में चिह्नित किया गया है। यहां का गुनडर्ट बंगला, हॉली ट्रिनिटी कैथेड्रल और फोर्ट सेंट एंजेलो, औपनिवेशक शासनकाल के दौरान क्षेत्र की तत्‍कालीन स्थिति और महिमा का बखूबी वर्णन करते हैं।

इस क्षेत्र के जायके, भोजन प्रेमियों के लिए स्‍वर्ग समान हैं जो उन्‍हे कभी न भूल पाने वाले स्‍वाद से रू-ब-रू करवाते हैं। थलास्‍सेरी दम बिरयानी, यहां का सबसे लाजबाव व्‍यंजन है जिसे हर पर्यटक को अपने जीवन में कम से कम एक बार तो अवश्‍य चखना चाहिए। वैसे जवान पर चटकारे दिलाने वाली और भी डिश यहां है जो क्षेत्र के जायकों को खुद में समेटती हैं जैसे - अरी उंडा, नेय्पैथरी, उन्‍नक्‍काया, पझहम निराचहाथु, एलायादा, कालाथप्‍पम और किन्‍नाथाप्‍पम।

कैसे पहुंचे कन्‍नूर

कन्‍नूर, भारत के सभी भागों से रेल और सड़क मार्ग द्वारा अच्‍छी तरह जुडा हुआ है। तटीय बेल्‍ट की निकटता के कारण, यहां का मौसम साल भर सुखद जलवायु प्रदान करता है, पर्यटक साल के किसी भी दौर में इस क्षेत्र की सैर कर सकते हैं। यहां के शानदार नजारों और समृद्ध विरासत के निशान के साथ कन्‍नूर, पर्यटकों को छुपे हुए अनुभवों और आश्‍चर्यो की इस दुनिया में हमेशा आमंत्रित करता है।

कन्‍नूर इसलिए है प्रसिद्ध

कन्‍नूर मौसम

घूमने का सही मौसम कन्‍नूर

  • Jan
  • Feb
  • Mar
  • Apr
  • May
  • Jun
  • July
  • Aug
  • Sep
  • Oct
  • Nov
  • Dec

कैसे पहुंचें कन्‍नूर

  • सड़क मार्ग
    कन्‍नूर अच्‍छी तरह से सड़क मार्ग से जुड़ा हुआ है। यहां की बसें, यातायात का सबसे अच्‍छा और सस्‍ता माध्‍यम हैं। केरल राज्य सड़क परिवहन निगम ( केएसआरटीसी ) कन्‍नूर से अन्‍य शहरों व टाउन के लिए कई बसें और निजी बसें भी चलाती हैं। यहां से कालीकट, मंगलौर, थालास्‍सेरी, इरानुकलम और तिरूअनंतपुरम के भी बसें मिल जाती है। कन्‍नूर से बंगलौर, मैसूर और चेन्‍नई के लिए लक्‍जरी और वॉल्‍वो बस की सुविधा भी उपलब्‍ध है।
    दिशा खोजें
  • ट्रेन द्वारा
    कन्‍नूर का रेलवे स्‍टेशन नार्थ केरल के प्रमुख रेलवे स्‍टेशनों में से एक है जो भारत के प्रमुख शहरों और टाउन से अच्‍छी तरह जुडा हुआ है। कन्‍नूर से तिरूअनंतपुरम, बंगलौर, चेन्‍नई, नई दिल्‍ली, पुणे और मुम्‍बई के लिए नियमित रूप से रेल चलती हैं। कन्‍नूर का रेलवे स्‍टेशन, शहर के केंद्र में स्थित है और पर्यटक यहां से शहर भ्रमण करने के लिए टैक्‍सी,रिक्‍शा किराए पर ले सकते हैं या शहर में बस से भी भ्रमण कर सकते हैं।
    दिशा खोजें
  • एयर द्वारा
    कन्‍नूर में खुद का कोई हवाई अड्डा नहीं है। यहां का निकटतम हवाई अड्डा मंगलौर ( 150 किमी. ) और कालीकट ( 125 किमी. ) में स्थित है। कालीकट एक अंर्तराष्‍ट्रीय हवाई अड्डा है जो भारत के कई शहरों जैसे - बंगलौर, हैदराबाद, चेन्‍नई, नई दिल्‍ली और मुम्‍बई से अच्‍छी तरह जुडा हुआ है। कन्‍नूर के लिए टैक्‍सी की सुविधा कालीकट और मंगलौर दोनों जगह के एयरपोर्ट से उपलब्‍ध है। इन शहरों से कन्‍नूर के लिए बसें भी मिलती हैं।
    दिशा खोजें

कन्‍नूर यात्रा डायरी

One Way
Return
From (Departure City)
To (Destination City)
Depart On
10 Apr,Sat
Return On
11 Apr,Sun
Travellers
1 Traveller(s)

Add Passenger

  • Adults(12+ YEARS)
    1
  • Childrens(2-12 YEARS)
    0
  • Infants(0-2 YEARS)
    0
Cabin Class
Economy

Choose a class

  • Economy
  • Business Class
  • Premium Economy
Check In
10 Apr,Sat
Check Out
11 Apr,Sun
Guests and Rooms
1 Person, 1 Room
Room 1
  • Guests
    2
Pickup Location
Drop Location
Depart On
10 Apr,Sat
Return On
11 Apr,Sun