मरारीकुलम - समुद्र तट तक एक यात्रा

होम » स्थल » मरारीकुलम » अवलोकन

मरारीकुलम एक सुंदर गांव है, जो अलपुझा शहर में सिमटा हुआ है, यह अपने पीले रेतीले समुद्री तट मरारी के लिए व्यापक रूप से जाना जाता है। यह अलपुझा से लगभग 11 किमी दूर है। इसमें इतिहास की सुगंध आती है, क्योंकि गांव के लोग अभी भी बहुत ही पारंपरिक हैं और वे सौ साल पहले प्रचलित रहन-सहन का पालन करते हैं। यह गांव नारियल की जटा बनाने के लिए प्रसिद्ध है। इस गांव में भूमि बहुत उपजाऊ है, और यहां का वातावरण बहुत ही शांत है। आराम करने और तनाव कम करने के लिए यह एक सुंदर जगह है। समुद्र के मछुआरों के साथ घूमते हुए आप उनकी जीवन शैली और रीति-रिवाज जिनका वे पालन करते हैं सीख सकते हैं।

वास्तव में पर्यटकों को आकर्षित करने वाला!

अन्य आकर्षणों में पानी के खेल, लकड़ी की बड़ी नौका, योग, आयुर्वेदिक उपचार और ध्यान शामिल हैं। यहां का तापमान एक संतुलन बनाये रखता है, कभी चरम पर नहीं जाता है। माना जाता है कि कोक्कामंगलम चर्च सेंट थॉमस द्वारा स्थापित किया गया था और मुख्य तीर्थस्थलों में से एक है। चर्च धन्‍य एवं पवित्र मैरी को समर्पित है और तटीय शहर थंपोली में स्थित है। इस जगह के अन्य आकर्षणों में शिव मंदिर, कोक्कामंगलम सेंट एपोस्‍ले चर्च, अरूर, अरुतंकल, पूच्‍छाक्कल, पानावली, वेलोरवट्टम और अर्थुंकल हैं।

शिव मंदिर अपनी वास्तुकला के लिए भी जाना जाता है। अन्य मंदिर चेरथला कार्तियेनी मंदिर है, जहां इष्टदेव के रूप में देवी कार्तियानी हैं। कांचिकुंगलारा मंदिर, एक और प्रसिद्ध मंदिर है, जहां देवी भगवती का निवास है। पूच्‍छाक्कल के पास के शहर में भी कई मंदिर लोगों को आकर्षित करते हैं।

मरारीकुलम पहुँचने के लिए सड़क, रेलवे और हवाई यात्रा करके आप मरारीकुलम जा सकते हैं। यह दक्षिण के प्रमुख शहरों से सड़क मार्ग से अच्छी तरह जुड़ा हुआ है।

योजना कब बनाएं?

इस आकर्षक गांव में छुट्टी की योजना सर्दियों में बनाएं।

 

Please Wait while comments are loading...