Search
  • Follow NativePlanet
Share
होम » स्थल» कुल्लू

कुल्लू – हिमालय का करामाती स्वर्ग

38

कुल्लू, 'देवताओं की घाटी', हिमाचल प्रदेश के राज्य में एक खूबसूरत जिला है। घाटी का यह नाम इसलिये पड़ा क्योंकि यह विश्वास है कि एक समय कई हिंदू देवी, देवताओं और दिव्य आत्माओं के लिए घर था। ब्यास नदी के तट पर 1230 मीटर की ऊंचाई पर स्थित, यह अपने शानदार प्राकृतिक वातावरण के लिए जाना जाता है।

मूलतः  'कुल-अन्ती-पीठ ' के रूप में जाना गया, जिसका अर्थ है' बसने योग्य दुनिया का सबसे दूर बिंदु ', कुल्लू का रामायण, महाभारत, विष्णु पुराण जैसे महान भारतीय महाकाव्यों में भी उल्लेख है। त्रिपुरा के निवासी बिहंगमणि पाल द्वारा खोजे गये  इस खूबसूरत पहाड़ी स्टेशन का इतिहास पहली सदी का है।

यह कहा जाता है कि जब भारत ने 1947 में अपनी स्वतंत्रता प्राप्त की तब तक यह क्षेत्र दुर्गम था। गर्मियों में घूमने के लिये यह सुंदर स्‍थान खड़ी पहाड़ियां, देवदार के जंगलों, नदियों, और सेब के बगीचे के साथ घिरा है और इसकी प्राकृतिक सुंदरता के लिए दुनिया भर से पर्यटकों के बीच प्रसिद्ध है। इसके अलावा, कुल्लू अपने प्राचीन किलों, धार्मिक स्थलों, वन्यजीव अभयारण्यों और बांधों के लिए भी प्रसिद्ध है।

सुल्तानपुर पैलेस, जिसे रूपी पैलेस के रूप में भी जाना जाता है, यहाँ का लोकप्रिय स्थल है। हालांकि मूल संरचना 1905 में नष्ट हो गया था जब भारत एक गंभीर भूकंप से प्रभावित हुआ था, किन्तु इसे अपने मूल रूप में पुनर्निर्मित किया गया। रघुनाथ मंदिर, हिंदू देवता राम को समर्पित, कुल्लू की एक अन्य प्रमुख आकर्षण है।

मंदिर के निर्माण में, पिरामिड और पहाड़ी शैली की वास्तुकला का एक आदर्श मिश्रण प्रदर्शित है, जिसे 17 वीं सदी में राजा जगत सिंह द्वारा निर्मित किया गया था। एक और प्रसिद्ध आकर्षण यहां बिजली महादेव मंदिर है जो स्थानीय लोगों और पर्यटकों के बीच समान रूप से एक महत्वपूर्ण स्थान रखता है।

ब्यास नदी के तट पर स्थित यह मंदिर के विनाश के हिंदू देवता शिव को समर्पित है। एक पौराणिक कथा के अनुसार, मंदिर के अंदर रखी मूर्ति शिव का प्रतीक 'शिवलिंग', बिजली की वजह से कई टुकड़े में टूट गया था। बाद में, मंदिर के पुजारियों के टुकड़े एकत्र किये और उन्हें मक्खन की मदद के साथ वापस जोड़ दिया।

जगन्नाथी देवी और बशेश्वर महादेव मंदिर पहाड़ी वास्तुकला की एक विशिष्ट शैली का प्रतिनिधित्व करते हैं, जो भारत के उत्तर में हिमालय की तलहटी में रहने वाले लोगों के समूहों है। जगन्नाथी देवी मंदिर प्राचीन है और माना जाता है 1500 साल पहले इसका निर्माण किया गया था। हिंदू देवी दुर्गा, स्त्री शक्ति की अवतार, की छवियों को मंदिर की दीवारों पर देखा जा सकता है।

एक 90 मिनट की यात्रा के बाद आगंतुक मंदिर तक पहुँच सकते हैं। बशेश्वर महादेव मंदिर का निर्माण 9 वीं शताब्दी के दौरान किया गया था और विनाश के हिंदू देवता, शिव को समर्पित है। इस मंदिर का निर्माण इसकी जटिल पत्थर नक्काशी के लिए जाना जाता है। कैसधर, रायसन और देव टिब्बा कुल्लू में स्थित अन्य लोकप्रिय पर्यटन स्थलों में से कुछ हैं।

इन स्थानों पर देवदार के जंगल स्थित हैं और बर्फीले झीलों से ट्रैकिंग के द्वारा पहुँचा जा सकता है। कुल्लू आकर यात्रियों को ग्रेट हिमालयन नेशनल पार्क में वन्य जीवन की एक विस्तृत विविधता को देखने का मौका मिलता है जो पशुओं के 180 से अधिक प्रजातियों का घर है। 76 मीटर की ऊंचाई पर स्थित पंडोह बांध, ब्यास नदी पर निर्मित है। यह जल विद्युत शक्ति उत्पादक बाँध कुल्लू और मनाली की बिजली की आवश्यक्ताओं को पूरा करता है।

कुल्लू  ट्रैकिंग, पर्वतारोहण, लंबी पैदल यात्रा, पैराग्लाइडिंग, और रिवर राफ्टिंग जैसी विभिन्न साहसिक खेलों के लिए भी जाना जाता है। लोकप्रिय ट्रैकिंग ट्रेल्स लद्दाख घाटी, जांस्कर घाटी, लाहौल और स्पीति हैं। साहसिक खेल पैराग्लाइडिंग के लिए कुल्लू भारत में प्रसिद्ध है। यहाँ आदर्श लांच साइटें सोलंग, महादेव, और बीर हैं।

आगंतुकों को भी इस क्षेत्र में हनुमान टिब्बा, ब्यास कुंड, मलाना, देव टिब्बा और चन्द्रताल में पर्वतारोहण कर सकते हैं। यात्री ब्यास नदी में मछली पकड़ने की कोशिश भी कर सकते हैं।

पर्यटक वायुमार्ग, रेलवे, और रोडवेज जैसे परिवहन के महत्वपूर्ण साधनों के माध्यम से कुल्लू तक पहुँच  सकते हैं। कुल्लू के निकटतम हवाई बेस भुटार हवाई अड्डा है, जो लोकप्रिय रूप में कुल्लू मनाली हवाई अड्डे के जाना जाता है। कुल्लू शहर से सिर्फ 10 किमी दूर पर स्थित हवाई अड्डा दिल्ली, शिमला, चंडीगढ़, पठानकोट, धर्मशाला और जैसे प्रमुख भारतीय शहरों के साथ जुड़ा हुआ है।

दिल्ली हवाई अड्डा निकटतम अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा है जो अन्य देशों के पर्यटकों को गंतव्य से जोड़ता है। कुल्लू के लिए निकटतम रेलवे स्टेशन जोगिंदर नगर रेलवे स्टेशन, शहर से 125 किलोमीटर दूर स्थित है। रेलवे स्टेशन वाया चंडीगढ़ अन्य स्थानों के साथ जुड़ा हुआ है।

हिमाचल प्रदेश परिवहन निगम की बसें पास के स्थानों के कुल्लू से जोड़ती हैं जबकि हिमाचल प्रदेश पर्यटन विकास निगम चंडीगढ़, शिमला, दिल्ली और पठानकोट से कुल्लू के लिए कई डीलक्स बसें चलाता है। गर्मी के एक आदर्श गंतव्य के रूप में कुल्लू का मौसम हमेशा सुखद रहता है।

हालांकि, सर्दियाँ ठंडी रहती हैं इस क्षेत्र में इस समय के दौरान हिमपात होता है। नवंबर, दिसंबर, जनवरी और फरवरी के महीने बर्फ स्कीइंग के लिए आदर्श होते हैं। इस हिल स्टेशन की यात्रा का सबसे अच्छा समय मार्च से अक्टूबर तक है।

बाहरी गतिविधियों और पर्यटन स्थलों का भ्रमण आनंद के लिये मार्च और जून के बीच की अवधि सही है, जबकि अक्टूबर और नवंबर के महीने रिवर राफ्टिंग, रॉक क्लाइम्बिंग, लंबी पैदल यात्रा, और ट्रेकिंग के लिए आदर्श माने जाते हैं।

कुल्लू इसलिए है प्रसिद्ध

कुल्लू मौसम

कुल्लू
14oC / 57oF
  • Sunny
  • Wind: NE 9 km/h

घूमने का सही मौसम कुल्लू

  • Jan
  • Feb
  • Mar
  • Apr
  • May
  • Jun
  • July
  • Aug
  • Sep
  • Oct
  • Nov
  • Dec

कैसे पहुंचें कुल्लू

  • सड़क मार्ग
    कुल्लू हिमाचल प्रदेश राज्य परिवहन निगम की बस सेवा के माध्यम से अपने निकटतम स्थलों के साथ अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। दिल्ली, चंडीगढ़, पठानकोट और शिमला से पर्यटक हिमाचल प्रदेश पर्यटन विकास निगम की डीलक्स बसों का लाभ ले सकते हैं।
    दिशा खोजें
  • ट्रेन द्वारा
    जोगिन्दर नगर रेलवे स्टेशन कुल्लू के लिए निकटतम रेल लिंक है जो 125 किमी की दूरी पर स्थित है। स्टेशन चंडीगढ़, जो कुल्लू से 270 किमी दूर है, के माध्यम से प्रमुख भारतीय शहरों के साथ जुड़ा है। पर्यटक रेलवे स्टेशन के बाहर से टैक्सियाँ प्राप्त कर सकते हैं।
    दिशा खोजें
  • एयर द्वारा
    भुंतर हवाई अड्डा कुल्लू मनाली हवाई अड्डे या कुल्लू हवाई अड्डे के रूप में भी जाना जाता है। यह हवाई अड्डा निकटतम घरेलू हवाई अड्डा कुल्लू शहर से लगभग 10 किमी की दूरी पर स्थित है। हवाई अड्डा दिल्ली, पठानकोट, चंडीगढ़, धर्मशाला, और शिमला जैसे भारत में महत्वपूर्ण स्थानों के साथ अच्छी तरह से जुड़ा है। यात्री हवाई अड्डे से टैक्सियों के द्वारा कुल्लू तक पहुँच सकते हैं। दिल्ली का हवाई अड्डा अंतरराष्ट्रीय यात्रियों को इस जगह से जोड़ने का निकटतम हवाई अड्डा है।
    दिशा खोजें

कुल्लू यात्रा डायरी

One Way
Return
From (Departure City)
To (Destination City)
Depart On
26 May,Sun
Return On
27 May,Mon
Travellers
1 Traveller(s)

Add Passenger

  • Adults(12+ YEARS)
    1
  • Childrens(2-12 YEARS)
    0
  • Infants(0-2 YEARS)
    0
Cabin Class
Economy

Choose a class

  • Economy
  • Business Class
  • Premium Economy
Check In
26 May,Sun
Check Out
27 May,Mon
Guests and Rooms
1 Person, 1 Room
Room 1
  • Guests
    2
Pickup Location
Drop Location
Depart On
26 May,Sun
Return On
27 May,Mon
  • Today
    Kullu
    14 OC
    57 OF
    UV Index: 5
    Sunny
  • Tomorrow
    Kullu
    8 OC
    47 OF
    UV Index: 5
    Partly cloudy
  • Day After
    Kullu
    10 OC
    49 OF
    UV Index: 5
    Partly cloudy