Search
  • Follow NativePlanet
Share
» »मशहूर साहित्यकारों और बॉलीवुड बादशाह का ऐतिहासिक शहर इलाहाबाद

मशहूर साहित्यकारों और बॉलीवुड बादशाह का ऐतिहासिक शहर इलाहाबाद

Written By: Khushnuma

इलाहाबाद के नाम से ही पता चलता है कि इसका नाम कितनी गहरी सोच वाला है। 'इलाह' ईश्वर और 'बाद' आबाद। यानी इलाहबाद का नाम अरबी व फ़ारसी में रखा गया है जिसका अर्थ है 'ईश्वर द्वारा बसाया' गया, या 'ईश्वर का शहर'। जी हाँ दोस्तों इलाहाबाद को देखकर ऐसा लगता भी है। क्यूंकि इस शहर ने देश को अनमोल रत्न दिए जिनकी चमक से देश रौशन है।

इतना ही नहीं इलाहाबाद एक ऐसा शहर है जिसकी आम-ओ-हवा में पल-बढ़कर देश को मशहूर सितारे मिले जिनकी चमक कभी कम नहीं हो सकती। सूर्यकांत त्रिपाठी, महादेवी वर्मा,निराला और वर्तमान में बॉलीवुड के बादशाह अमिताभ बच्चन का जन्म भी इलाहाबाद में ही हुआ। इसी शहर में में इन सितारों ने अपनी साहित्यिक और अदाकारा को आयाम दिया था। तो चलिए क्यों न इस वेकेशन साहित्यिक अनुभव की सैर की जाये।
थॉमस कुक की तरफ से : डोमेस्टिक फ्लाइट पर 1000 रु. की छूट

संगम

संगम

इलाहबाद का संगम बेहद खूबसूरत है यहाँ आने वाले पर्यटक सबसे पहले संगम के दर्शन करने को उत्सुक रहते हैं। यहाँ नाव की सवारी आपकी सैर में चार चाँद लगा देगी। क्यूंकि यहाँ का मनोरम दृश्य आँखों में समां सा जाता है।
Image Courtesy:Puffino

खुसरो बाग

खुसरो बाग

यह आलीशान ऐतिहासिक बाग़ बेहद खूबसूरत होने के साथ साथ दर्शनीय स्थल भी है। इस जहांगीर (अकबर के बेटे सलीम) के सबसे बड़े बेटे खुसरो ने बनवाया था। यहाँ खुसरो और खुसरो की बहन सुल्तानुन्निसा की कब्र हैं। इन कब्र को देखने पर्यटकों की भीड़ उमड़ी रहती है क्यूंकि यह दोनों कब्रें काव्य और कला का बेजोड़ नमूना है।
Image Courtesy:Arghyashonima

किला

किला


इस किले को देखने के लिए सेना के अधिकारीयों से अनुमति लेनी पड़ती है क्यूंकि अब यह किला सेना के अधीन है। इस किले को औरंगज़ेब और अशोक ने बनवाया था।
Image Courtesy:Rotatebot

मिंटो पार्क

मिंटो पार्क


मिंटो पार्क को अब मदनमोहन के नाम से जाना जाता है। इस पार्क का पूरा नाम 'मदन मोहन मालवीय' है। कहा जाता है कि विक्टोरिया का घोषणा पत्र जिसमे ब्रिटिश काल की समाप्ति की सूचना थी उसे यहीं पढ़कर सुनाया गया था।
Image Courtesy: Padraic

सरस्वती घाट

सरस्वती घाट


सरस्वती घाट एक बेहद खूबसूरत पिकनिक मनाने का स्थल है यह पार्क मदन मोहन मालवीय पार्क के पास ही में है। यहाँ हर साल तैराकी प्रतियोगिताएँ और वॉटर स्पोर्ट्स होते हैं।
Image Courtesy:M0tty

आज़ाद पार्क

आज़ाद पार्क


आज़ाद पार्क कभी विक्टोरिया पार्क के नाम से जाना जाता था। परन्तु अब इसे आज़ाद पार्क के नाम से जानते हैं। जहाँ चंद्रशेखर शहीद हुए थे वहां एक स्मारक बना हुआ है।
Image Courtesy:Gpdprince

म्यूज़ियम

म्यूज़ियम


इस संग्राहलय में पुरातन समय की दुर्लभ वस्तुएं रखीं हैं। यहाँ मिटटी व पत्थर की मूर्तियां बनाई जाती हैं जो की बिकती भी हैं। आप यहाँ से इन मूर्तियों को खरीद सकते हैं।
Image Courtesy:Ashley Van Haeften

आनंद भवन और स्वराज भवन

आनंद भवन और स्वराज भवन

आनंद भवन कभी पंडित जवाहरलाल नेहरू का पुरातन निवास था वह यहीं रहते थे लेकिन आज के समय में यहाँ कांग्रेस का कार्यालय है। आज स्वराज भवन कांग्रेस के अधिकार में है। यहाँ पंडित जवाहरलाल की यादें संजोई हुई हैं।
Image Courtesy:Gurpreet singh babbu

विश्वविधालय

विश्वविधालय


इलाहबाद विश्वविधालय शिक्षा के साथ साथ अपनी अद्भुत नक्काशियों के लिए भी विश्व प्रसिद्ध है। इस इमारत में सीनेट हॉल वास्तुकला का जीता जागता उदाहरण है।
Image Courtesy:Adam Jones

नेहरू गार्डन

नेहरू गार्डन


नेहरू गार्डन बेहद खूबसूरत फूलों से लदा हुआ बगीचा है जिसकी खुशबू में आप एक पल को साड़ी थकान भूल जाओगे। यहाँ की हरियाली खूबआकर्षण सूरत रंगबिरंगे फूल इस गार्डन में चार चाँद लगा देते हैं जिसे देखने के लिए दूर दूर से पर्यटक यहाँ आते हैं।
Image Courtesy:ptwo

कौशांबी

कौशांबी


कौशांबी महाभारत्त युग का स्थान माना जाता है। जो कि इलाहाबाद से 48 किलोमीटर दूर है। आप इलाहबाद आकर यहाँ अवश्य आएं।
Image Courtesy:Varun Shiv Kapur

इलाहाबाद कैसे जाएँ

इलाहाबाद कैसे जाएँ

वायुमार्ग
विदेशों से आने वाले पर्यटकों के लिए सबसे नजदीकी एयरपोर्ट दिल्ली है। दिल्ली से इलाहाबाद के लिए कई दुरंतो एक्सप्रेस ट्रेनें चलती हैं। इसमें कोलकाता राजधानी एक्सप्रेस, प्रयाग राज एक्सप्रेस और दुरंतो एक्सप्रेस प्रमुख है। इलाबाद एयरपोर्ट को बमरौली फील्ड भी कहा जाता है। मूल रूप से यह एक मीलिट्री बेस है और कानपुर होते हुए इलाहाबाद से दिल्ली के लिए हर दिन एयर इंडिया की एक व्यवसायिक उड़ान होती है। सबसे अच्छा तरीका यह है कि वाराणसी या लखनऊ के लिए फ्लाइट ली जाए और वहां से बस के जरिए इलाहाबाद पहुंचा जाए।

रेल मार्ग
इलाहाबाद दिल्ली, कोलकाता और मुंबई रेल मार्ग से अच्छे से जुड़ा हुआ है। शहर में दारागंग, प्रयाग, रामबाग और इलाहाबाद जंक्शन नाम से चार प्रमुख रेलवे स्टेशन है। एक और जंक्शन है प्रयाग घाट, जिसका इस्तेमाल धार्मिक त्योहार के समय श्रद्धालुओं की भीड़ बढ़ने पर किया जाता है।

Image Courtesy:Dananuj

इलाहाबाद कैसे जाएँ

इलाहाबाद कैसे जाएँ

इलाहबाद जाने के लिए फ्लाइट, ट्रेन, बस व टैक्सी की अधिक कजानकारी के लिए बस एक क्लिक करें-

सड़क मार्ग द्वारा
इलाहाबाद को नेशनल हाइवे 2 और 27 की सेवाएं मिलती हैं। आसपास के शहरों से इलाहाबाद के लिए कई बसें चलती हैं।

Image Courtesy:Magnus Manske

इलाहाबाद कब जाएँ

इलाहाबाद कब जाएँ


दिसंबर-जनवरी, मई-जून के महीनों को छोड़कर बाकी के महीनों में कभी भी जाया जा सकता है। क्यूंकि इलाहाबाद में गर्मियों में गर्मी और सर्दियों में सर्दी बहुत होती है। माघ मेला यहाँ का तीर्थ मेला है। मेले के दौरान इस शहर की रौनक देखने लायक होती है।
Image Courtesy:M0tty

यात्रा पर पाएं भारी छूट, ट्रैवल स्टोरी के साथ तुरंत पाएं जरूरी टिप्स

We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Nativeplanet sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Nativeplanet website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more