Search
  • Follow NativePlanet
Share
» »इस स्वतंत्रता दिवस देश के शहीदों को याद कर, करना ना भूलें इन 11 प्रमुख जगहों की यात्रा!

इस स्वतंत्रता दिवस देश के शहीदों को याद कर, करना ना भूलें इन 11 प्रमुख जगहों की यात्रा!

इस 15 अगस्त हमारे देश को आज़ाद हुए 70 साल होने जा रहे हैं, जो आज़ादी हमने अपने कई जवानों के शाहिद होने के बाद पाई थी। सन् 1947 में इसी दिन भारत ने ब्रिटिश शासन से स्‍वतंत्रता प्राप्त की थी। पूरा देश इस दिन देश प्रेम में डूब जाएगा। जगह-जगह अपना तिरंगा झंडा लहराता हुआ नज़र आएगा। लोगों के कपड़ों, घरों, सामानों, गाड़ियों आदि सब जगह अपना तिरंगा झंडा छाया रहेगा। स्वतंत्रता दिवस का यह दिन हर साल लोगों में एक अलग और नया उत्साह लेकर आता है। बच्चों की उत्सुकता तो देखती ही बनती है।

इस बार का 15 अगस्त भी हर तरह की तरह अलग और खास होगा और इस बार के 15 अगस्त की अलग बात यह है कि यह वीकेंड की छुट्टी के बाद ही मतलब इस बार के वीकेंड की छुट्टियाँ ज़्यादा हैं। है ना यह खुशी की बात! तो इस स्वतंत्रता दिवस अपने परिवार के साथ तैयार हो जाइए इन खास जगहों की यात्रा के लिए, जहाँ पहुँच आप देशभक्ति के रंग में सराबोर हो जाएँगे। आख़िर देशप्रेम होता ही ऐसा है जो हर एक इंसान के चेहरे पर अलग ही झलकता है। आज़ादी की वह खुशी लोगों के चेहरे पर साफ दिखाई पड़ती है।

तो चलिए चलते हैं इन खास जगहों पर स्वतंत्रता दिवस मनाने।

लाल किला, दिल्ली

लाल किला, दिल्ली

स्वतंत्रता दिवस का जश्न मनाने के लिए दिल्ली के लाल किले से अच्छी जगह और क्या होगी। सबसे पहले यहाँ सुबह-सुबह तिरंगा झंडा फहराया जाता है। शहीदों को सत्-सत् नमन कर अन्य रंग बिरंगे कार्यक्रमों का आयोजन होता है। स्कूल के छोटे-छोटे बच्चों द्वारा पेश किए जाने वाले देशभक्ति कार्यक्रम सबसे ज़्यादा दर्शकों का मान मोहते हैं।

Image Courtesy: Alex Furr

इंडिया गेट, दिल्ली

इंडिया गेट, दिल्ली

इंडिया गेट का नाम सुनते ही अलग से रूह में देशभक्ति की भावना उमड़ पड़ती है। यहाँ स्थित अमर जवान ज्योति, जो भारतीय सैनिकों का मंदिर है लोगों में देश प्रेम की भावना को और बढ़ा देती है। आपको कई देशभक्ति फिल्मों में इंडिया गेट के नज़ारे देखने को ज़रूर मिलेंगे। रंग दे बसंती का वो सीन तो आप सबको याद ही होगा जब सारे दोस्त इंडिया गेट से गुज़रते हुए इंडिया गेट को सलामी देते जाते हैं।

Image Courtesy: Nick Irvine-Fortescue

राज घाट

राज घाट

यमुना नदी के किनारे स्थित राज घाट, महात्मा गाँधी के यादों का स्मारक है। इसके साथ ही जवाहर लाल नेहरू, लाल बहादुर शास्त्री के स्मारक भी विजय घाट के नाम से स्थित हैं। हर साल यहाँ आज़ादी के दिन इन महान व्यक्तियों को याद कर श्रद्धांजलि दी जाती है।

Image Courtesy: nikkul

वाघा बॉर्डर

वाघा बॉर्डर

वाघा बॉर्डर, पाकिस्तान और भारत के बीच की इकलौती सड़क सीमा है, जहाँ हर साल 15 अगस्त के दिन लोगों का हुजूम उमड़ता है यहाँ के कार्यक्रमों में हिस्सा लेने के लिए। दोनो देश इसी सीमा पर एक दूसरे को आज़ादी की बधाई देते हैं। देशभक्ति गीतों पर लोग नाचते गाते मौज मानते हैं। इस दिन यहाँ लोगों का जोश देखने लायक होता है।

Image Courtesy: Kamran Ali

जलियाँवाला बाग

जलियाँवाला बाग

जलियाँवाला नरसंहार भारत का सबसे बड़ा और दुखद नरसंहार था, जिसे पूरा देश कभी नहीं भूल सकता। 13 अप्रेल 1919 बैसाखी वाले दिन ही अमृतसर शहर के जलियाँवाला बाग में रोलेट एक्ट का विरोध करने के लिए एक सभा हो रही थी, जिसमें अँग्रेज़ी ऑफिसर जनरल डायर ने गोलियाँ चलवा दीं। इस क्रूर हत्याकांड के निशान अब भी वहाँ मौजूद हैं।

Image Courtesy: 1694

अल्फ़्रेड पार्क,इलाहाबाद

अल्फ़्रेड पार्क,इलाहाबाद

अल्फ़्रेड पार्क जिसे कंपनी गार्डेन के नाम से भी जाना जाता है, वही जगह है जहाँ चंद्र शेखर आज़ाद ने देश के लिए लड़ाई लड़ते हुए अपनी जान गँवाई थी। इसे चंद्र शेखर आज़ाद पार्क के नाम से भी जाना जाता है। इलाहाबाद का यह सबसे बड़ा पार्क है जहाँ चंद्रशेखर आज़ाद का स्मारक स्थापित है।

Image Courtesy: Amit bugg

साबरमती आश्रम

साबरमती आश्रम

गुजरात के अहमदाबाद शहर में साबरमती नदी के किनारे स्थित साबरमती आश्रम का भारतीय राष्ट्रीय आंदोलन में एक महत्वपूर्ण भूमिका है। सत्याग्रह आंदोलन और दांडी मार्च की शुरुआत यहीं से हुई थी।

Image Courtesy: Hardik jadeja

झाँसी का किला

झाँसी का किला

झाँसी का किला जहाँ से झाँसी की रानी हमारे देश की सबसे वीर महिला ने देश की आज़ादी के लिए लड़ाई आरंभ की थी।आज भी हर साल झाँसी का महोत्सव इसे किले में ही मनाया जाता है।

Image Courtesy: Arun Kumar Gupta

बैरकपुर, कोलकाता

बैरकपुर, कोलकाता

पश्चिम बंगाल के बैरकपुर में एक बैरकपुर बाग स्थित है जिसे मंगल पांडे बाग के नाम से भी जाना जाता है। इस बाग में अँग्रेज़ों का विरोध करने वाले कई भारतीय सैनिकों को सन् 1857 में फाँसी के फंदे पर लटका दिया गया था।

Image Courtesy: Priya Singh

नेताजी भवन

नेताजी भवन

पश्चिम बंगाल के कोलकाता में स्थित नेताजी भवन, एक स्मारक सभागार और संग्रहालय है, जहाँ नेताजी सुभाष चंद्र बोस जी को उनके ही घर में बंदी बनाकर रखा गया था।

Image Courtesy: Ashlyak

तिहाड़ जेल

तिहाड़ जेल

तिहाड़ जेल अंडमान निकोबार के पोर्ट ब्लेर में स्थित अँग्रेज़ी शासकों का जेल है। जहाँ देश की आज़ादी के लिए लड़ने वाले देशभक्तों को कैदी बना कर रखा गया था। यहाँ उन्हें कई जटिल यातनाओं का सामना करना पड़ा था।

Image Courtesy: Aliven Sarkar

यात्रा पर पाएं भारी छूट, ट्रैवल स्टोरी के साथ तुरंत पाएं जरूरी टिप्स

Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Nativeplanet sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Nativeplanet website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more