» »क्रिसमस 2017: इस शहर में यूएस-यूके की तरह मनाया जाता है क्रिसमस, पर्यटकों की उमड़ती है भीड़

क्रिसमस 2017: इस शहर में यूएस-यूके की तरह मनाया जाता है क्रिसमस, पर्यटकों की उमड़ती है भीड़

Written By: Goldi

साल 2017 खत्म होने में कुछ ही दिन बचे हैं, साथ ही आने वाला है साल का आखिरी त्यौहार जिसे हम सभी क्रिसमस के नाम से जानते हैं। आज ये पर्व सिर्फ ईसाईयों के द्वारा ही नहीं बल्कि हर धर्म द्वारा बेहद हर्षौल्लास के साथ साथ मनाया जाता है, हालांकि भारत में इस त्यौहार को पश्चिमी देशो से थोड़ा अलग मनाया जाता है।

क्रिसमस2017: बर्फीली वादियों के बीच मनाएं क्रिसमस

ईसाइयों के अलावा अन्य धर्म के लोग इस दिन चर्च जाकर जीजस के सामने मोमबत्ती जलाते हैं, प्राथर्ना करते हैं और केक का भी लुत्फ उठाते हैं। आज यह त्यौहार भारत के हर प्रान्त में मनाया जाता है। इस पर्व की धूम गोवा में भी देखने को मिलती है।

भारत में दिसंबर के महीने में ले सकते हैं इन चीज़ों का मज़ा

पार्टी सिटी के नाम से मशहूर गोवा क्रिसमस के दौरान पर्यटकों से पटा रहता है। यहां कई ऐसे चर्च है जो क्रिसमस के दौरान पर्यटकों को अपनी ओर आकषित करते हैं...इतना ही नहीं भारत वर्ष से पर्यटक खासकर क्रिसमस के लिए ही इस शहर में जुटते हैं। 

गोवा में पुर्तगालियों द्वारा 16 वीं सदी में इन चर्चों की स्थापना की गई थी। यहां के चर्चों को ज्यादातर लेटराइट पत्थरों से बनाया गया है।

बासिलिका बोन जीजस चर्च

बासिलिका बोन जीजस चर्च

ओल्ड गोवा में स्थित बासिलिका बोन जीजस चर्च, सेंट फ्रांसिस जेवियर को समर्पित है। बासिलिका बोन जीजस चर्च में सेंट फ्रांसिस जेवियर के अवशेष रखे गए हैं. सेंट फ्रांसिस जेवियर, पुर्तगाल के राजा और पोप के कहने पर 1541 में भारत आए। चर्च के अंदरूनी भाग में सेंट फ्रांसिस के अवशेष चांदी के ताबूत में सहेजकर रखे गए हैं।Pc:Hemant192

कैथेड्रल चर्च

कैथेड्रल चर्च

बासिलिका बोन जीजस चर्च के ठीक सामने बना है सेंट कैथेड्रल चर्च। यह चर्च एशिया के सबसे बड़े गिरजाघरों में से एक है । लाल ईंटों और सफेद दीवारों से बना यह चर्च देखने वालों का पहली नजर में ही दिल जीत लेता है। पुर्तगाली शेली के इस भवन का बाहरी हिस्सा सादापन लिए है जबकि अंदरूनी हिस्से की सजावट अपनी भव्यता से दर्शकों का मन मोह लेती है । Pc:Sahil Ahuja

माउंट मेरी चेपल चर्च

माउंट मेरी चेपल चर्च

माउंट मेरी चेपल चर्च एक पहाड़ी पर बना है। इस चर्च तक पहुँचने के लिए पर्यटकों को मिट्टी से कटी हुई सीढियों से जाना होता है। चर्च पहाड़ी पर स्थित है, जहां से पूरे ओल्ड गोवा का शानदार व्यू यहीं से देखा जा सकता है।यहां कई फिल्मों की शूटिंग भी की जा चुकी है।

सेंट काजेटन चर्च (1700)

सेंट काजेटन चर्च (1700)

इस चर्च को 17 वीं सदी में कुछ ग्रीक और इतालवी पुजारियों द्वारा बनाया गया था। 300 वर्ष से सेंट काटेजान चर्च गोवा के कैथेड्रल चर्च के विपरीत खड़ा है।Pc:Goaforholidays

रैचौल सेमिनरी और चर्च

रैचौल सेमिनरी और चर्च

रैचौल सेमिनरी और चर्च गोवा से लगभग 12 किमी की दूरी पर स्थित है। चर्च जुआरी नदी के तट के पास स्थित है। रैचोल सेमिनरी और चर्च के एक मुस्लिम किले के शव से संलग्न है।Pc:Arnautpinho