India
Search
  • Follow NativePlanet
Share
» »यहां है भारत की आखिरी सडक, जाने इस विरान गांव का इतिहास

यहां है भारत की आखिरी सडक, जाने इस विरान गांव का इतिहास

धनुषकोडी तमिलनाडु में पंबन द्वीप के दक्षिण-पूर्वी सिरे पर स्थित है। बता दें की 1964 में रामेश्वरम चक्रवात की चपेट में आने के बाद यह तबाह हो गया था। अब यहां उस आपदा के खंडहर ही बचे हैं।

धनुषकोडी को दक्षिण भारत की छिपी हुई प्राकृतिक सुंदरता कहा जा सकता है। हांलकी आपको बता दें की जलवायु परिस्थितियों के कारण यहां बहुत कम लोग रहते हैं, लेकिन फिर भी यह पर्यटकों और साहसिक प्रेमियों के लिए सबसे आकर्षक स्थानों में से एक है। यह जगह भारत और श्रीलंका के बीच सीमा के रूप में स्थित है, जो दुनिया की सबसे छोटी सीमाओं में से एक है। यह सिर्फ 45 मीटर की दूरी में है।

धनुषकोडी की यात्रा करने का सबसे अच्छा समय अक्टूबर से फरवरी तक सर्दियों के महीनों में होता है।

धनुषकोडिक का इतिहास

कहा जाता है की राक्षस राजा रावण ने देवी सीता का अपहरण कर लिया, जिसके बाद भगवान राम को अपनी धर्मपत्नी को बचाने के लिए लंका की यात्रा करनी पड़ी। फिर जब वह भारत की सीमाओं के अंत में पहुंचें तो वह विशाल महासागर के तट पर पहुंचें। इसे पार करने के लिए एक पुल का निर्माण करना जरूरी था। पुल को बनाने की इस प्रक्रिया में, भगवान राम ने इसी स्थान को चिन्हित किया। उन्होंने इस स्थान को चिह्नित करने के लिए अपने धनुष का उपयोग किया और इसी तरह इस स्थान का नाम धनुषकोडिक पड़ा।

आपको बता दें लगभग पांच दशक पहले, यह स्थान दक्षिण भारत के तट के किनारे स्थित व्यस्त शहर था। यहां रेलवे स्टेशन, पुलिस स्टेशन जैसी सभी आवश्यकताएं थीं। फिर 21 दिसंबर 1964 को एक बड़े तूफान ने पूरे शहर को अपनी चपेट में ले लिया। ज्वार 20 फीट तक ऊंचा था, जिसके कारण सब तबाह हो गया। इस भयावह घटना के बाद सरकार ने इस जगह को निर्जन घोषित कर दिया। अब यहां कुछ ही लोग रहते हैं।

घूमने की बेहतरीन जगहें

धनुषकोडी बीच

धनुषकोडी बीच

धनुषकोडी बीच इस अनोखे शहर के कुछ प्रमुख आकर्षणों में से एक है। यह सफेद रेत का समुद्र तट है, जो ज्यादातर सुनसान होता है। इसलिए समुद्र तट पर जाने वाले समुद्र तट पर एक मौन सैर का आनंद ले सकते हैं।

मन्नार की खाड़ी समुद्री राष्ट्रीय उद्यान

मन्नार की खाड़ी समुद्री राष्ट्रीय उद्यान

मन्नार की खाड़ी समुद्री राष्ट्रीय उद्यान 21 सुंदर और छोटे द्वीपों का एक समूह है। यह पार्क मन्नार बायोस्फीयर रिजर्व की खाड़ी के लिए भी मुख्य क्षेत्र है। समुद्री जैव विविधता की बात करें, तो यह सबसे धनी क्षेत्रों में से एक है। पार्क में न केवल तीन जलीय पारिस्थितिक तंत्र जैसे प्रवाल भित्ति, समुद्री घास और मैंग्रोव हैं, बल्कि यह नमक दलदल और विशिष्ट शैवाल समुदायों का भी घर है। प्रकृति का आनंद लेने और उसकी कुछ अद्भुत कृतियों को देखने के लिए इस पार्क की यात्रा जरूर करें।

एडम्स ब्रिज

एडम्स ब्रिज

एडम्स ब्रिज, एक प्राकृतिक पुल जो भारत को उसके पड़ोसी देश श्रीलंका से जोड़ता है। यह कच्ची प्रकृति की एक भव्य सेटिंग के बीच स्थापित है, जो किसी को भी अपनी सुंदरता की ओर आकर्षित कर सकता है। 50 किलोमीटर लंबा और 3 किलोमीटर चौड़ा यह पुल धनुषकोडी से श्रीलंका के मन्नार तक है। एडम्स ब्रिज को राम ब्रिज या राम सेतु के नाम से भी जाना जाता है।
एडम्स ब्रिज एक सदियों पुरानी संरचना है, जिसके बारे में माना जाता है कि यह लगभग 1.7 मिलियन साल पुराना है। इस पुल का सबसे पहला उल्लेख वाल्मीकि जी द्वारा लिखित महाकाव्य रामायण में मिलता है। यह भगवान राम की वानर सेना द्वारा बनाया गया था जिसे माता सीता को रावण से बचाने के लिए इस्तेमाल किया गया था। इस पुल को बनाने के लिए इस्तेमाल किए गए पत्थरों पर भगवान राम का नाम लिखा गया था, इसलिए माना जाता है कि वे पानी में तैरते थे।

रामर पथम मंदिर

रामर पथम मंदिर

धनुषकोडी से लगभग 20 किमी दूर रामर पथम मंदिर है। बताया जाता है कि मंदिर में एक पत्थर पर भगवान राम के पैरों के निशान हैं। ऐसा माना जाता है कि इसी स्थान पर भगवान हनुमान ने भगवान राम से कहा था कि उन्होंने श्रीलंका में देवी सीता को देखा था।

पंबन द्वीप

पंबन द्वीप

यदि आप एक शांत वैरागी की तलाश कर रहे हैं, तो पंबन द्वीप आपके लिए एक आदर्श जगह है। आलीशान समुद्र तटों और ऊंचे नारियल के पेड़ों के साथ यह छोटा द्वीप भारत और श्रीलंका के बीच स्थित है। यह तमिलनाडु के रामनाथपुरम के रामेश्वरम में है। पंबन द्वीप को रामेश्वरम द्वीप के रूप में भी जाना जाता है और यह भारत में सबसे प्रसिद्ध तीर्थस्थलों में से एक है।

    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X