» »गढ़वाल की वादियों में लीजिये हर की दून ट्रेकिंग का मजा

गढ़वाल की वादियों में लीजिये हर की दून ट्रेकिंग का मजा

Written By: Goldi

उत्तराखंड भारत में ट्रेकिंग के लिए सबसे अच्छी जगह है। यहां आने वाले पर्यटक यहां के प्राकृतिक सौंदर्य को निहार सकते हैं। हर की दून एक ऐसे अद्भुत ट्रेक है जो दुनियाभर में दशकों से ट्रेकर्स को आकर्षित करता है।

यह ट्रेक समुद्री ऊंचाई से 3556 मीटर की ऊंचाई पर स्थित और चारो और से देवदार जंगल से घिरा हुआ है। हिमालय हर-की-दून को भी देवताओं की घाटी के रूप में जाना जाता है, आधुनिक युग में देखने के लिए एक सुंदर  जगह है। यहां आने वाले पर्यटकों को बहुत शांति मिलेगी साथ ही प्रकृति की सुंदरता महसूस होगी। हर-कि-दून की ओर बढ़ते हुए आप गढ़वाल के ऐसे कई क्षेत्रों को जानेंगे, जो बहुत सुंदर हैं, उत्तराखंड में ट्रेकिंग करते समय, आपप्रकृति महसूस कर सकते हैं और अपने जीवन के कुछ सबसे खूबसूरत जगहों को देख सकते हैं।

यह एक 8 दिन का लॉग ट्रेक है, जो देहरादून से शुरू होता है और लौटकर देहरादून में समाप्त होता है, ट्रेकिंग के दौरान ट्रेकर्स गढ़वाल की पांच खूबसूरत जगहों को देख सकते हैं जिनमे संकर्री, तालुका, ओस्ला, हरकिदून और जंदहार शामिल है।

क्षेत्र-उत्तराखंड
उचित समय- मई से सितम्बर
ग्रेड-मॉडरेट
कितने दिन-7 दिन

पहला दिन- दिल्ली से देहरादून..देहरादून से संकरी

पहला दिन- दिल्ली से देहरादून..देहरादून से संकरी

देहरादून से संकरी करीबन 6 घंटे की दूरी पर स्थित है। संकरी पहुँचने के बाद पर्यटक होटल में चेक-इन कर सकते हैं।

दूसरा दिन संकरी - तालुका से ट्रेक (12 किमी)

दूसरा दिन संकरी - तालुका से ट्रेक (12 किमी)

दूसरे दिन ट्रेकर्स संकरी में नाश्ता करने के बाद हर की दून की ट्रेकिंग की शुरुआत करेंगे। पहले दिन की ट्रेकिंग 12 किमी है आप सुबह 6 बजे अगर ट्रेकिंग की शुरुआत करते हैं तो तालुका दोपहर तक पहुंच जायेंगे, जिसके बाद आप अपने टेंट में आराम कर सकते हैं।

तीसरा दिन -तालुका से ओस्ला (14 किलोमीटर ट्रेकिंग)

तीसरा दिन -तालुका से ओस्ला (14 किलोमीटर ट्रेकिंग)

तीसरे दिन की ट्रेकिंग की शुरुआत होगी तालुका से ओस्ला की ओर होगी।यह ट्रेकिंग करीबन 14 किमी की है। यह ट्रेकिंग हिमालय जंगल से होकर जाती है...इसलिए सावधानी बरतनी जरूरी है।

चौथा दिन- ओस्लाट्रेक - हर की दून (11 किमी)

चौथा दिन- ओस्लाट्रेक - हर की दून (11 किमी)

अगले दिन की ट्रेकिंग हर की दून की चोटी तक की होगी जोकि ओस्ला से 11 किमी दूर है। इस ट्रेकिंग के दौरान ट्रेकर्स घाटियों, मैदानों और विशाल पहाड़ों के सुखद दृश्यों का अनुभव करेंगे।हर की दून की क्रमिक उन्नति जंगली आर्किड क्षेत्रों के साथ सुशोभित है और 6,200 मीटर की ऊँचाई से स्वर्गोहिनी और जुआंडार ग्लेशियरों नजर आते हैं।

पांचवा दिन-हर की दून से जंदार ग्लेशियर (15 किमी )

पांचवा दिन-हर की दून से जंदार ग्लेशियर (15 किमी )

अगली सुबह उठकर नाश्ता करने के बाद ट्रेकर्स जंदार ग्लेशियर की ओर अपनी ट्रेकिंग की शुरुआत करते हैं।जो कि 55 मी.मी. सफेद हिमपात और हरी घास के पैच है।इसके बॉस ट्रेकर्स ग्लेशियर से वापस हर की दूंन कैम्प वापस जाकर आराम कर सकते हैं।

छठा दिन-हर की दून ओस्ला (11 किमी )

छठा दिन-हर की दून ओस्ला (11 किमी )

छठे दिन ट्रेकर्स हर की दून से नीचे ओस्ला की ओर उतर सकते हैं...यह ट्रेकिंग 11 किमी की है।

सातवें दिन की ट्रेकिंग

सातवें दिन की ट्रेकिंग

7 वां दिन ट्रेकिंग का आखिरी दिन है जो 26 किलोमीटर की ऊंचाई पर स्थित है ट्रेकर्स ओस्ला से संकरी तक लगभग 6 से 7 घंटे बाद पहुंच जायेंगे। इसके बाद ट्रेकर्स संकरी से देहरादून और दिल्ली जा सकते हैं।

ट्रेकिंग के दौरान जरूरी चीजे

ट्रेकिंग के दौरान जरूरी चीजे

कॉटन मोज़े
ऊनी मोज़े
दो जोड़ी जूते
बैग पैक
ट्रैक पेंट
टोर्च लाइट
जैकेट
सनग्लास
कैप
सन्सक्रीम
ऊनी दस्ताने
वाल्किंग स्टिक

  
Please Wait while comments are loading...