» »इन्द्रहरा ट्रेकिंग ट्रेवल गाइड

इन्द्रहरा ट्रेकिंग ट्रेवल गाइड

Written By: Goldi

कितने दिन-पांच दिन
क्षेत्र-हिमाचल प्रदेश
उचित समय- मई से अक्टूबर
ग्रेड-मॉडरेट-आसानी

इन्द्रहरा ट्रेकिंग पास की शुरुआत हिमाचल प्रदेश की धौलाधर पहाड़ियों के बीच से होती है। इस ट्रेकिंग के दौरान ट्रेकर्स हिमाचल की खूबसूरती को बखूबी निहार सकेंगे। इन्द्रहरा ट्रेकिंग पास कांगड़ा और चम्बा जिले के बीच की सीमा पर है।
आप ऊंचाई पर जाकर नीचे हिमाचली गांवों की खूबसूरती और आकर्षक झलक को देख सकेंगे।

इन्द्रहरा ट्रेकिंग पास हिमाचल प्रदेश की एक आसान ट्रेकिंग डेस्टिनेशन है। इस ट्रेकिंग की शुरुआत मैक्लोइडगंज से त्रिउंड तक होती है। मैक्लोइडगंज और धर्मशाला के अस्स्पस कई छोटे ट्रेक्स हैं जहां से ट्रेकर्स अपनी यात्रा शुरू कर सकते हैं।

पहला दिन- दिल्ली- मैकलॉयड गंज

पहला दिन- दिल्ली- मैकलॉयड गंज

ट्रेकर्स दिल्ली से बस या त्रकिन से मैकलॉयड गंज पहुंच सकते हैं। मैकलॉयड गंज पहुँचने के बाद ट्रेकर्स/पर्यटक चाहे तो आराम भी कर सकते हैं।

दूसरा दिन- मैकलॉयड गंज से त्रिउंड

दूसरा दिन- मैकलॉयड गंज से त्रिउंड

ट्रेकिंग-10 किमी
समय- तीन से चार घंटे
दूसरे दिन सुबह जल्दी उठने के बाद नाश्ता करने के बाद ट्रेकर्स चाहे तो मैकलॉयड गंज घूम सकते हैं या फिर दोपहर के वक्त आगे की ट्रेकिंग की शुरुआत की जा सकती है। इंद्रहर ट्रेकिंग की शुरुआत मैकलॉयड गंज से होती है। पहले दिन की ट्रेकिंग दस किमी की है जोकि मैकलॉयड गंज से त्रिउंड में जाकर खत्म होती है..यह ट्रेकिंग तीन से चार घंटे में पूरी की जा सकती है। त्रिउंड पहुँचने के बाद ट्रेकर्स कैम्प में खाना खाकर आराम कर सकते हैं।

तीसरा दिन- त्रिउंड-लहेश गुफा

तीसरा दिन- त्रिउंड-लहेश गुफा

ट्रेकिंग- 9 किमी
समय- तीन से चार घंटे
तीसरे दिन सुबह नाश्ता करने के बाद ट्रेकर्स अगले दिन की ट्रेकिंग की शुरुआत कर सकते हैं..आज की ट्रेकिंग में ट्रेकर्स को घने ओके के पदों और फुलोंदर घाटियों से होकर जाना है।गुफा पर पहुँचने के बाद यहां ट्रेकर्स आग जलाकर मौसम का मजा भी ले सकते हैं।

चौथा दिन- लहेश गुफा-इंद्रहर पास- छतरू पारो

चौथा दिन- लहेश गुफा-इंद्रहर पास- छतरू पारो

ट्रेकिंग-12 किलोमीटर
समय-7 घंटे
आज ट्रेकिंग का चौथा और बेहद ही दिलचस्प दिन है.. ट्रेकर्स ट्रेकिंग की शुरुआत नाश्ते के बाद कर सकते हैं...यह ट्रेकिंग थोड़ी सी खतरनाक या कहें थोड़ी सी मुश्किल है...लेकिन जैसे जैसे आप अपनी मंजिल यानी इंद्रहर ट्रेकिंग पॉइंट पर पहुंचेंगे. आप ऊपर से प्रकृतिक खूबसूरत
नजारों को देख एकबार को अपनी अपनी थकान भूल बैठेंगे। कुछ समय ऊपर बिताने के बाद छतरु पारु से आप नीचे की ओर आ सकते हैं। ट्रेकर्स आज की रात छतरु पारो में गुजार सकते हैं।

पांचवा दिन- छतरु पारो -कुअर्सी

पांचवा दिन- छतरु पारो -कुअर्सी

ट्रेकिंग- 15 किलोमीटर
समय-7 घंटे
पांचवें दिन की ट्रेकिंग की शुरुआत छतरु पारो -कुअर्सी तक होती है...यह उतरने वाला रास्ता है..थोड़ी बहुत फिसलन की संभवना रहती है..इसीलिए उतरते हुए ध्यान से नीचे आयें।कुआरसी आने के बाद ट्रेकर्स नीचे आराम कर सकते हैं।

छठा दिन- कुरसी-मैत्थर , चंबा

छठा दिन- कुरसी-मैत्थर , चंबा

ट्रेकिंग-16 किलोमीटर
समय- 5 से 6 घंटे) यात्रा
अगले दिन सुबह नाश्ता करने के बाद ट्रेकर्स मैत्थर से नीचे पहुंच सकते हैं...यहां पहुँचने के बाद टैक्सी या बस द्वारा चम्बा पहुँचा जा सकता है। ट्रेकर्स चम्बा आकर आराम आकर सकते हैं।

सातवाँ दिन- चम्बा-पठानकोट दिल्ली

सातवाँ दिन- चम्बा-पठानकोट दिल्ली

चम्बा में अगली सुबह ट्रेकर्स नाश्ता करने के बाद पठानकोट कार या बस द्वार पहुंच सकते हैं..जिसके बाद पठानकोट से दिल्ली की बस या ट्रेन पकड़ी जा सकती है।इस तरह इंद्रहर ट्रेकिंग पास की समाप्ति होती है।

ट्रेकिंग के दौरान जरूरी चीजे

ट्रेकिंग के दौरान जरूरी चीजे

कॉटन मोज़े
ऊनी मोज़े
दो जोड़ी जूते
बैग पैक
ट्रैक पेंट
टोर्च लाइट
जैकेट
सनग्लास
कैप
सन्सक्रीम
ऊनी दस्ताने
वाल्किंग स्टिक

 
Please Wait while comments are loading...