» »कभी था गांव...आज है विश्व प्रख्यात टाटानगरी

कभी था गांव...आज है विश्व प्रख्यात टाटानगरी

Written By: Goldi

आज हम आपको अपने लेख के जरिये सैर कराने जा रहें हैं...भारत के लौह शहर जमशेदपुर की।इस शहर को टाटानगर से भी जाना जाता है। यह झारखंड के दक्षिणी हिस्से में स्थित पूर्वी सिंहभूम जिले का हिस्सा है।  पर्यटन की दृष्टि से टाटानगर का महत्‍व अंतराष्‍ट्रीय स्‍तर पर भी है। इसे हाल में ही इंटरनेशनल क्‍लीन सिटी के अवार्ड से नवाजा गया है।

भले ही आज टाटानगर विष विखाय्त है लेकिन पहले यह एकआदिवासी गांव हुआ करता था। यहाँ की मिट्टी काली होने के कारण यहाँ पहला रेलवे-स्टेशन कालीमाटी के नाम से बना जिसे बाद में बदलकर टाटानगर कर दिया गया। खनिज पदार्थों की प्रचुर मात्रा में उपलब्धता और खड़कईतथा सुवर्णरेखा नदी के आसानी से उपलब्ध पानी, तथा कोलकाता से नजदीकी के कारण यहाँ आज के आधुनिक शहर का पहला बीज बोया गया। 1907 में इस शहर की नींव सर जमशेदजी नौरोजी टाटा ने रखी थी। डिमना लेक, जुबली पार्क, दालम पहाड़ी, हुडको लेक, मोदी पार्क, कीनन स्‍टेडियम आदि ऐसे जगह है जहाँ पर्यटक घूम सकते हैं। यहाँ पर कई पर्यटन स्थल है जो इस प्रकार है:-

जुबली पार्क

जुबली पार्क

यह पार्क 238 एकड़ में फैला हुआ है इसका निर्माण टाटा स्‍टील ने अपने 50 वर्ष पूरे होने के उपलक्ष्य में कराया था।वृंदावन गार्डन, मैसूर तथा मुग़ल गार्डन दिल्ली के तर्ज पर बने इस पार्क में गुलाब के लगभग एक हज़ार किस्‍म के पौधें लगे हुए। मार्च 3 को यहाँ का स्थापना दिवस होता है और इस दिन यहाँ अद्भुत प्रकाश प्रदर्शनी होती है।
PC: wikimedia.org

जयंती सरोवर

जयंती सरोवर

पूर्व में इसे जुबली लेक के नाम से जाना जाता था। 40 एकड़ में फैले इस झील को विशेष तौर पर बोटिंग के लिए बनाया गया है। इस झील के बीचोंबीच एक आइलैण्‍ड का निर्माण किया गया है जो कि इसकी सुन्‍दरता में चार चांद लगाता है। इसके साथ ही पर्यटक बोटिंग के दौरान इस आईलैण्‍ड का इस्‍तेमाल आराम फरमाने के लिए भी करते है।

दलमा वन्‍य अभ्‍यारण्‍य

दलमा वन्‍य अभ्‍यारण्‍य

3000 फीट की ऊंचाई पर स्थित तथा 193 वर्ग किमी. में फैले इस अभ्‍यारण्‍य का उदघाटन स्‍वर्गीय संजय गांधी ने किया था। यहां पर जंगली जानवरों को नजदीक से देखने के लिए अनेक जगह विशेष रुप से बनाए गए है जहां से पर्यटक आसानी से जंगली जानवर जैसे हाथी, हरिण, तेदूंआ, बाघ आदि को देख सकते है। दलमा पहाड़ी हाथियों की प्राकृतिक आश्रयस्थली है। प्रशासनिक दृष्टिकोण से देखें तो झारखंड के पूर्वी सिंहभूम, सरायकेला-खरसावां से लेकर पश्चिम बंगाल के पुरूलिया जिले के बेलपहाड़ी तक इसका दायरा फैला है।दलमा पहाड़ी में कई आदिवासी गांव है।PC: wikimedia.org

हुडको झील

हुडको झील

हुडको झील जमशेदपुर में छोटा गोविंदपुर और टेल्को कॉलोनी के बीच स्थित टाटा मोटर्स द्वारा निर्मित एक कृत्रिम झील है। कंपनी द्वारा इस क्षेत्र को एक पिकनिक स्पाट के रुप में विकसित किया गया है।

डिमना झील

डिमना झील

यह जमशेदपुर शहर से 13 किमी की दूरी पर स्थित है।दलमा पहाड़ी की तलहटी में बने इस कृत्रिम झील को देखने सालों भर पर्यटक आते रहते हैं।
PC: wikimedia.org

कैसे पहुंचे

कैसे पहुंचे

वायु यातायात: जमशेदपुर एयर डेकन द्वारा कोलकाता के हवाई अड्डा द्वारा जुड़ा हुआ है। इसके अलावा एक और प्राइवेट एयरलाइंस हफ्ते में दो दिन यहां के लिए दिल्ली से उड़ान भरती है। इस हवाई अड्डे का ज्यादा उपयोग कारपोरे जहाजों के आगमन-प्रस्थान के लिए किया जाता है। कोलकाता के अतिरिक्त यहाँ निकटतम हवाई अड्डा राँची का बिरसा मुंडा हवाई अड्डा है जो यहाँ से लगभग120 किलोमीटर की दूरी पर है।

रेल-मार्ग: टाटानगर (जमशेदपुर) दक्षिणपूर्व रेलवे के सबसे प्रमुख रेलवे स्टेशनों में से एक है और यह सीधे-सीधे भारत के प्रमुख शहरों जैसे कोलकाता, मुंबई, दिल्ली, चेन्नई, पटना, रायपुर, भुवनेश्वर इत्यादि से जुड़ा हुआ है। रेलवे स्टेशन को टाटानगर के नाम से जाना जाता है।

सड़क मार्ग: जमशेदपुर सड़क मार्ग द्वारा भारत के सभी बड़े शहरों से जुड़ा है। शहर से होकर राष्ट्रीय राजमार्ग 33 (बहरागोड़ा से बरही) गुजरती है जो राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 2 से जुड़ती है जिससे कोलकाता एवं दिल्ली जुड़े हुए हैं।PC: wikimedia.org

कब आयें

कब आयें

जमशेदपुर जाने का सबसे उचित समय अक्टूबर से मार्च का होता है। अक्टूबर में मौसम काफी सुहाना होता है जो मनोरम दृश्य देखने के लिए बिलकुल सही होता है।PC: wikimedia.org

Please Wait while comments are loading...