• Follow NativePlanet
Share
» »चेन्‍नई से काबिनी वन्‍यजीव अभ्‍यारण्‍य का सफर

चेन्‍नई से काबिनी वन्‍यजीव अभ्‍यारण्‍य का सफर

Posted By: Namrata Shatsri

जीव जन्तुओं और इनकी लुप्त होती प्रजातियों के संरक्षण के लिए देश में कई अभयारण्य बनाए गए हैं, ताकि इन्हें एक सुरक्षित वातावरण मिल सके। काबिनी वन्‍य-जीव अभयारण्य इन्‍हीं अभयारण्यों में से एक है जिसे कुछ सालों पहले कर्नाटक राज्‍य में बनवाया गया। यह वन्य जीव अभयारण्य कई दुलर्भ प्रजातियों का निवास स्थान है। काबिनी नदी के तट पर स्थित इस वन्‍य जीव अभ्‍यारण्‍य के रोमांचक सफर को आप अपनी यात्रा डायरी में शामिल कर सकते हैं।

काबिनी वन्‍य जीव अभयारण्य आने का सही समय

काबिनी वन्‍य जीव अभयारण्य आने का सही समय

काबिनी वन्‍य जीव अभयारण्य का मौसम सामान्‍य रहता है इसलिए आप यहां सितंबर से लेकर मई के बीच किसी भी समय आ सकते हैं। इस दौरान कई जंगली जानवर और पक्षियों को देखा जा सकता है।Pc:Karthik Narayana

चेन्‍नई से काबिनी कैसे पहुंचे

चेन्‍नई से काबिनी कैसे पहुंचे

वायु मार्ग द्वारा : मैसुर से फ्लाइट लेकर आपको काबिनी वन्‍य जीव अभ्‍यारण्‍य के लिए कैब लेनी पड़ेगी। मैसुरू एयरपोर्ट काबिनी वन्‍यजीव अभ्‍यारण्‍य से लगभग 60 किमी की दूरी पर स्थित है।

रेल मार्ग द्वारा : काबिनी वन्‍य जीव अभयारण्य और चेन्‍नई के बीच कोई सीधी ट्रेन नहीं चलती है। हालांकि, आप चेन्‍नई स्‍टेशन से मैसुरू और फिर काबिनी वन्‍य जीव अभ्‍यारण्‍य तक कैब ले सकते हैं।

सड़क मार्ग द्वारा : काबिनी वन्‍य जीव अभयारण्य सड़क मार्ग द्वारा चेन्‍नई और कई अहम शहरों से जुड़ा हुआ है, इसलिए आप यहां सड़क परिवहण द्वारा पहुंच सकते हैं।

अगर आप अपने वाहन से यात्रा कर रहे हैं तो आपको इन रूटों से जाना चाहिए :

रूट 1 : चेन्‍नई - कांचीपुरम - वेल्‍लोर - बैंगलोर - मैसुरू - काबिनी वन्‍य जीव अभयारण्य

रूट 2 : चेन्‍नई - विल्‍लुपुरम - इरोड - काबिनी वन्‍य जीव अभयारण्य

हालांकि, पहला रूट छोटा और आरामदायक है इसलिए आपको पहले रूट से जाना चाहिए साथ ही इस रूट पर आपको कई खूबसूरत जगहें भी देखने को मिलेंगी। काबिनी वन्‍य जीव अभयारण्य के सफर में आप इन जगहों पर घूम सकते हैं।

कांचीपुरम

कांचीपुरम

वेगावथी नदी के तट पर बसा कांचीपुरम अपने प्राचीन मंदिरों के लिए प्रसिद्ध है। इसके अलावा कांचीपुरम अपनी सिल्‍क की साडियों के लिए दुनियाभर में मशहूर है। सदियों से इस शहर का धार्मिक महत्‍व कम नहीं हुआ है। आज भी यहां बड़ी संख्‍या में पर्यटक घूमने आते हैं। अगर काबिनी वन्‍य जीव अभयारण्य के सफर में आप कांचीपुरम रूकते हैं तो आपकी धार्मिक यात्रा भी हो जाएगी।Pc:McKay Savage

वेल्‍लोर

वेल्‍लोर

तमिलनाडु का सबसे लोकप्रिय पर्यटन स्‍थल है वेल्‍लोर जोकि अपने प्राचीन ऐतिहासिक सौंदर्य के लिए मशहूर है। इतिहास प्रेमियों और श्रद्धालुओं के अलावा यह जगह कैंपस और प्रकृति प्रेमियों को भी बहुत पसंद है। इस शहर के एक ओर आप इसके मंदिर और प्राचीन इमारतों को देख सकते हैं, वहीं दूसरी और येलागिरी पर्वत का सौंदर्य आपको मंत्रमुग्‍ध कर देगा। पिछले कुछ सालों में वेल्लोर ने सभी तरह के पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित किया है।Pc:Soham Banerjee

बैंगलोर

बैंगलोर

भारत की सिलिकॉन घाटी और गार्डन सिटी के नाम से मशहूर बैंगलोर में बहुत कुछ देखने लायक है। ये शहर पर्यटकों के बीच बहुत लोकप्रिय है। भारत के इस हाई टेक शहर में आपको कई खूबसूरत बिल्डिंग देखने को मिल जाएगी। साथ ही इस शहर में कई खूबसूरत गार्डन भी हैं। यहां हर पल आपको कुछ नया देखने को मिलेगा। ये शहर कई मल्‍टीनेशनल कंपनियों का हब है।

मैसूर

मैसूर

यह शहर अपनी स्वीट डिश 'मैसूर पाक' और यहां बनने वाली सैंडल के लिए काफी प्रसिद्ध है। यह ऐतिहासिक शहर दक्षिण भारत का दिल कहलाता है। दक्षिण भारत घूमने आने वाले अधिकांश पर्यटक मैसुरू की यात्रा करना पसंद करते हैं।

यह शहर को भारत का सबसे स्‍वच्‍छ शहर में भी शामिल है। आप यहां प्राचीन महलों की सैर का आनंद उठा सकते हैं।

अंतिम गंतव्‍य : काबिनी वन्‍यजीव अभयारण्य

अंतिम गंतव्‍य : काबिनी वन्‍यजीव अभयारण्य

55 एकड़ की जगह में फैला काबिनी वन्‍य जीव अभयारण्य अपने वन्य जीवन के लिए जाना जाता है। यह पूरा क्षेत्र कई जीवों साथ लुप्तप्राय प्रजातियों को एक सुरक्षित आश्रय प्रदान करता है। काबिनी नदी के तट पर पश्चिमी घाटों के बीच बसा ये हरा-भरा वन्‍यजीव अभयारण्य कई तरह के जानवरों जैसे लेपर्ड, सांबर, पैंथर, स्‍पॉटेड डियर आदि का घर है। यहां आप हाथियों और टाइगर्स को घूमते हुए भी देख सकते हैं। यहां पक्षियों की 250 प्रजातियां मौजूद हैं।

यात्रा पर पाएं भारी छूट, ट्रैवल स्टोरी के साथ तुरंत पाएं जरूरी टिप्स