» »जाने भारत की बेहद खूबसूरत सरकारी इमारतों को

जाने भारत की बेहद खूबसूरत सरकारी इमारतों को

Written By: Goldi

भारत एक ऐसा देश है जो ब्रिटिश साम्राज्य से अपनी स्वतंत्रता प्राप्त करने के बाद दुनिया का सबसे बड़ा लोकतांत्रिक देश बना। 29 राज्यों और 7 केंद्र शासित प्रदेशों वाला देश भारत के हर राज्य में अपने मुख्य मंत्री और गवर्नर है,इसके अलावा सेंट्रल गवर्मेंट में प्रधानमंत्री और राष्ट्रपति।

बुग्याल: हरे भरे घास की प्राकृतिक मखमली चादर!

हर राज्य में शानदार भवन हैं, जो ब्रिटिश सरकार या स्वतंत्रता के बाद, सरकार में विभिन्न कार्यालयों के संचालन के लिए बनाए गए थे; इन्हें शक्ति की सीटों के रूप में माना जाता है इन संरचनाओं में से कुछ बेहद ही खूबसूरत वास्तुकला से भरपूर है, जिन्हें देख नजरे बस इन इमारतों पर टिकी रह जाती है।

हिंदुओं का तीर्थस्थल और त्रीनदियों का उदमग स्थल: अमरकंटक!

इसी क्रम में जाने भारत की कुछ खास सरकारी इमारतों को जिनकी अद्भुत वास्तुकला पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करती है...

विधान सउदा

विधान सउदा

बैंगलोर में स्थित, विधान सउदा कर्नाटक की राज्य विधान सभा की सीट है। इस इमारत का निर्माण मैसूर नव-द्रविड़न के रूप हुआ है, साथ ही इसकी वास्तुकला इंडो-सरैसेनिक और द्रविड़ियन शैलियों के समावेशन से परिपूर्ण है।इस खूबसूरत वास्तुशिल्प के चमत्कार का श्रेय जाता है केंगल हनुमंथ्या को। इस इमारत की नींव पूर्व प्रधान मन्त्री जवाहर लाल नेहरु ने वर्ष 1952 में रखी थी, जिसे धिकारिक रूप से 1956 में खोली गयी।

यह पांच मंजिला इमारत देश का सबसे बड़ा विधायी भवन है,जो 2,300 फीट के क्षेत्र में 1,1150 फीट तक फैला हुआ है, भवन के प्रवेश द्वार पर एक शिलालेख है, जिसमें लिखा है, सरकार का काम भगवान का काम है" और इसके कन्नड़ के बराबर "सरदारदा केलसा देवारा केलसा " । बता दें, विधान सौदा इस वर्ष अपने 60 वर्ष पूरे कर रहा है।

PC:Zigg-E

राइटर्स बिल्डिंग

राइटर्स बिल्डिंग

भारत के राज्य पश्चिम बंगाल की राज्य सरकार के सचिवालय की इमारत का नाम है राइटर्स बिल्डिंग है। यह पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता में स्थित है।

मूल रूप से इस इमारत का निर्माण ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी के लेखकों यानि राइटर्स के कार्यालय के लिए किया गया था, इसलिए इसे यह नाम मिला है। इस इमारत के वास्तुकार थॉमस ल्यों हैं जिन्होने इसका डिजाइन 1777 में तैयार किया था।इस दौरान राइटर्स बिल्डिंग का कई बार विस्तार किया गया है।PC:VnGrijl

केरल सरकार सचिवालय, तिरुवनंतपुरम

केरल सरकार सचिवालय, तिरुवनंतपुरम

केरल सरकार के प्रशासन की सीट, सचिवालय महत्वपूर्ण मंत्रियों और नौकरशाहों का कार्यालय है। यह सरकारी ऑफिस एक बेहद ही लोकप्रिय इमारत है जोकि नर्मदा रोड पर स्थित तिरुवनंतपुरम शहर के केंद्र में स्थित है।

इस इमारत की नींव अयाल थिरुनल महाराजा द्वारा 1865 में रखी गई थी और 18 9 6 में इसे पूरा किया गया था। यह इमारत पहले एक हॉल यानी दरबार के रूप में थी,जहां राजा मंत्रियों की अपनी परिषद से मिल सकते थे।
संरचना की नींव उनकी महारता अयाल थिरुनल महाराजा द्वारा 1865 में रखी गई थी और 18 9 6 में इसे पूरा किया गया था। यह संरचना दरबार हॉल के रूप में की गई थी, जहां राजा मंत्रियों की अपनी परिषद से मिल सकते थे। इस इमारत का निर्माण बार्टन के नेतृत्व में हुआ था, जोकि त्रावणकोर के तत्कालीन मुख्य इंजीनियर थे।

राजभवन, नैनीताल

राजभवन, नैनीताल

उत्तराखंड देश के कुछ राज्यों में से एक है, जिसके दो राजभवन हैं, जो कि राज्य के राज्यपाल का आधिकारिक निवास है। पहला राज भवन देहरादून और दूसरा नैनीताल में स्थित है।

पूर्व आजादी के समय, नैनीताल यूनाइटेड प्रान्त की गर्मियों की राजधानी थी, जो वर्तमान में उत्तर प्रदेश में है। एक स्कॉटिश महल की तर्ज पर निर्मित, इसे सरकार हाउस के रूप में नाम दिया गया था और आजादी के बाद इसे राज भवन का नाम दिया गया। संरचना एकमात्र राज भवन है जोकि पर्यटकों के लिए खुला हुआ है।

PC:Utkarsh saxena

मद्रास उच्च न्यायालय, चेन्नई

मद्रास उच्च न्यायालय, चेन्नई

मद्रास उच्च न्यायालय वास्तुकला की इंडो-सरैसेनिक शैली का एक उत्कृष्ट उदाहरण है,जिसे वर्ष 1892 में बनाया गया था। यह संरचना जेडब्ल्यू द्वारा डिजाइन किया गया था। ब्रासिटिंगटन प्रसिद्ध वास्तुकार, हेनरी इरविन के मार्गदर्शन के साथ। यह विश्व का दूसरा सबसे बड़ा न्यायालय परिसर है।PC:Yoga Balaji

Please Wait while comments are loading...