» »अरे अरे इन नामों को सुनने के बाद कहीं हंसते हंसते न हो जाये आपके पेट में दर्द

अरे अरे इन नामों को सुनने के बाद कहीं हंसते हंसते न हो जाये आपके पेट में दर्द

Posted By: Staff

बरसों पहले मशहूर साहित्य और नाटककार विलियम शेक्सपीयर ने कहा था "नाम में क्या रखा है" लेकिन इस बात के ठीक विपरीत कई बार हम ऐसे नामों से रू-ब-रू होते हैं जिनको सुनने के बाद अनायास ही हम हंस पड़ते हैं। कभी ये गुदगुदाने वाले नाम हमारे और आपके होते हैं तो कभी किसी प्रसिद्ध शहर या उसके किसी फेमस अट्रैक्शन के। आज हम नेटिव प्लानेट के जरिये आपको बताने जा रहे हैं अलग अलग स्थानों के उन नामों के बारें में जिनको सुनने के बाद खुद-ब-खुद आपके चेहरे पर हंसी आ जायगी। तो आइये जानें ऐसे शहरों और ऐसे नामों के बारे में।

पढ़ें : अद्भुत आध्यात्मिक अनुभव देता है चूहों को समर्पित करणी माता मंदिर

डॉल्फिन नोज़, कुन्नूर

डॉल्फिन नोज़, कुन्नूर

डॉल्फिन नोज़, तमिलनाडु के कुन्नूर में पड़ने वाली एक छोटी है जो देखने में समुंद्रीय जीव डॉल्फिन से मिलती है। ये एक ट्रैकिंग स्पॉट है जहाँ से आप नीलगिरी कि खूबसूरत पहाड़ियों को देख सकते हैं। अधिक जानकारी के लिए यहां क्लिक करें

सास - बहू मंदिर, उदयपुर

सास - बहू मंदिर, उदयपुर

इसे पड़ने के बाद शायद आप ये सोचें कि एक मंदिर का सास और बहू से क्या लेना देना है तो आपको बता दें कि इस मंदिर की दो संरचनाएं हैं जिनमें से एक का निर्माण सास ने और दूसरे का निर्माण बहू ने करवाया था। सास बहू मंदिर के बारे में अधिक जानने के लिए यहां क्लिक करें।

ड्यूक की नाक, लोनावाला

ड्यूक की नाक, लोनावाला

इस स्थान के बारे में मजेदार बात ये है की इस जगह का नामकरण ड्यूक वेलिंगटन के नाम पर किया गया है। ड्यूक की नाक के बारे में अधिक जाननें के लिए यहां क्लिक करें।

पाँच इन्द्रियों का बगीचा, दिल्ली

पाँच इन्द्रियों का बगीचा, दिल्ली

जी हाँ इस गार्डन में ऐसा बहुत कुछ है जो आपकी इंद्रियों को मोहित कर लेगा, इस लिए ही इस जगह का नाम पाँच इन्द्रियों का बगीचा पड़ा। जानें पाँच इन्द्रियों का बगीचे के बारे में।

प्रसाधन का सुलभ इंटरनेशनल संग्रहालय, दिल्ली

प्रसाधन का सुलभ इंटरनेशनल संग्रहालय, दिल्ली

भारत में बहुत सारे संग्रहालय हैं जो आपको इतिहास वास्तुकला विरासत और धरोहरों के बारे में बताते हैं परन्तु कोई आपसे ये कहे कि इस दुनिया में प्रसाधन यानी टॉयलेट का भी संग्रहालय है तो अचानक ही आपके चेहरे पर हंसी आ जायगी । तो अब अगर आपको इस संग्रहालय का दीदार करना है तो आज ही अपना बैग पैक करिये और देश की राजधानी दिल्ली आइये। जानिये इस अनोखे संग्रहालय के बारे में।

ईको प्‍वाइंट, मुन्‍नार

ईको प्‍वाइंट, मुन्‍नार

यदि आपने केरल के मुन्नार कि यात्रा की होगी तो आपने अवश्य ही इस स्थान को देखा होगा। आप यहां आइये और ज़ोर से चिल्लाइए आपको अपनी आवाज़ एक बार नहीं बल्कि कई बार सुनाई देगी। जानें ईको प्‍वाइंट के बारे में ।

वीजा भगवान मंदिर, हैदराबाद

वीजा भगवान मंदिर, हैदराबाद

क्या आप वीजे वाले भगवान से मिलें हैं? अब आपको हंसने की जरूरत नहीं है ये सच है। ये आपको हैदराबाद के वीजा बालाजी मंदिर में मिल जाएंगे। इस मंदिर को चिल्कुर बालाजी मंदिर के नाम से भी जाना जाता है। अगर आपके अंदर विदेश जाने की प्रबल इच्छा है और आपको विदेश का वीजा आसानी से नहीं मिल पा रहा है तो आप आज ही इस मंदिर के दर्शन को जाएं हमारा दावा है कि यदि भगवान आप पर प्रसन्न हो गए तो जल्द ही आप विदेश में होंगे।

चेन ट्री, वायनाड

चेन ट्री, वायनाड

चेन ट्री वायनाड का एक लोकप्रिय स्थल है जहां हर साल हज़ारों लोग जाते हैं। ऐसा माना जाता है कि एक तांत्रिक ने अपनी शक्ति से यहां एक आत्मा को पेड़ से बांधा था। जानिये इस पेड़ के बारे में गहराई से।

रानी की वाव, पाटन

रानी की वाव, पाटन

रानी की वाव का शाब्दिक अर्थ है रानी का कुआं। इस कुएं के बारे में ये मान्यता है कि इसे रानी द्वारा अपने पति की याद में बनवाया गया था। जानिये क्या खासियत है रान�� के इस वाव की