• Follow NativePlanet
Share
» »शिव की ओर ले जाने वाला हिमालय का प्रवेश द्वार ऋषिकेश

शिव की ओर ले जाने वाला हिमालय का प्रवेश द्वार ऋषिकेश

Written By: Khushnuma

दोस्तों यूँ तो आप बहुत से पर्वतों की सैर कर चुके होंगे लेकिन क्या आपने हिमालय के प्रवेश द्वार की सैर की है। अगर नहीं तो चलिए हम आपको हिमालय के प्रवेश द्वार 'ऋषिकेश' की सैर कराते हैं। जो प्रकृति का बेहद खूबसूरत करिश्मा है। जहाँ की वादियां पर्यटकों के दिल को चुरा लेती हैं। जहाँ दूर दूर तक फैला प्राकृतिक सौंदर्य किसी खूबसूरत स्वप्न से कम नहीं लगता है।

ऋषिकेश प्राकृतिक सुंदरता का धरोहर होने के साथ साथ तीर्थ स्थल भी है। जिसके बारे में कहा जाता है कि इस स्थान पर ध्यान लगाने से मोक्ष की प्राप्ति होती है। यहाँ से अनेकों धार्मिक कहानियां जुड़ी हुई हैं। कहा जाता है कि भगवान शिव ने समुद्र मंथन के दौरान विष इसी स्थान पर पिया था। ऋषिकेश अपने प्राकृतिक सौंदर्य, मंदिर, धार्मिक कथाएं, आश्रम आदि के लिए विश्व प्रसिद्ध है।
जल्दी कीजिये: ट्रेवल गुरु की ओर से होटल बुकिंग डील्स पर भरपूर 40% की छूट

लक्ष्मण झूला

लक्ष्मण झूला


लक्ष्मण झूले से गंगा नदी का अद्भुत सौंदर्य निहारा जा सकता है। यह पुल गंगा नदी के ऊपर ही बना है जो कि ऋषिकेश से लगभग 3 किलोमीटर की दूरी पर है।
Image Courtesy:Flickr upload bot

शिवानंद झूला

शिवानंद झूला


शिवानंद झूला लक्ष्मण झूले की तरह ही बना हुआ है जो कि शिवानंद आश्रम और स्वर्ग आश्रम के बीच में पड़ता है। शिवानंद झूला 'राम झूला' के नाम से भी जाना जाता है।
Image Courtesy:Flickr upload bot

कैलाशनंद मिशन

कैलाशनंद मिशन


कैलाशनंद मिशन मनीकुट पहाड़ी पर बना हुआ एक आश्रम है। यहाँ का मनमोहक दृश्य पर्यटकों को यहाँ आने को मजबूर करता है। हालांकि इस स्थान में विभिन्न रोगों का प्राकृतिक विधियों द्वारा उपचार किया जाता है।
Image Courtesy:Magnus Manske

नरेंद्र नगर

नरेंद्र नगर


यह नगर एक बेहद खूबसूरत पहाड़ी पर बसा हुआ है जिसे नरेंद्र नगर कहते हैं। यह स्थान पहाड़ी पर होने की वजह से पर्यटकों को अपनी और लुभाता है। यहाँ नंदी बैल देखने लायक है। यह नगर कलात्मक शैली का बेहतरीन नमूना है।
Image Courtesy: Ekabhishek

देव प्रयाग

देव प्रयाग


अगर आप ऋषिकेश आना चाहते हैं तो देव प्रयाग की सैर अवश्य करियेगा। यहाँ आपको कई वन जीवन मिलेंगे जिनका आप भरपूर लुफ्त उठा सकते हैं। देव प्रयाग के बारे में आपको बतादें कि यह उत्तराखंड के पांच प्रयागों में से एक है जो की तीर्थ स्थल है।
Image Courtesy: Wilson44691

कुंजापुरी

कुंजापुरी


कुंजापुरी का सुहावना दृश्य पर्यटकों को अपनी और आकर्षित करता है। यहाँ से पर्वतों के दृश्य देखने योग्य होते हैं जो एक पल लिए भी नज़र झपकना गवारा नहीं करते हैं।
Image Courtesy:Ekabhishek

ऋषिकेश कैसे जाएँ

ऋषिकेश कैसे जाएँ

ऋषिकेश कैसे जाएँ फ्लाइट, ट्रेन, बस और टैक्सी की अधिक जानकारी के लिए बस एक क्लिक करें-
वायुमार्ग
18 किमी की दूरी पर स्थित देहरादून का जॉली ग्रान्ट हवाईअड्डा ऋषिकेश के लिये निकटतम हवाईअड्डा है। यह हवाईअड्डा दिल्ली के इन्दिरा गाँधी अन्तर्राष्ट्रीय हवाईअड्डे से जुड़ा हुआ है जहाँ से भारत के प्रमुख शहरों के लिये उड़ाने ली जा सकती हैं। यात्री हवाईअड्डे से ऋषिकेश तक पहुँचने के लिये टैक्सियाँ किराये पर ले सकते हैं।

रेल मार्ग द्वारा
ऋषिकेश रेलवे स्टेशन दिल्ली, मुम्बई, कोटद्वार और देहरादून जैसे भारत के महत्वपूर्ण शहरों से जुड़ा हुआ है। यह शहर के केन्द्र से 4 किमी की दूरी पर स्थित है।

सड़क मार्ग द्वारा
ऋषिकेश दिल्ली, देहरादून और हरिद्वार जैसे आसपास के शहरों से नियमित बस सेवाओं द्वारा अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। यात्री इन शहरों से प्राइवेट और राज्य स्वामित्व की बसों का लाभ ले सकते हैं।
Image Courtesy:Flickr upload bot

ऋषिकेश में कहाँ ठहरें

ऋषिकेश में कहाँ ठहरें

ऋषिकेश के होटलों की अधिक जानकारी के लिए बस एक क्लिक करें
ऋषिकेश में आकर अगर आप धर्मशाला में रहने का अनुभव करना चाहते हैं तो यहाँ ठहर सकते हैं।
धर्मशाला- सिंधी धर्मशाला (पुष्कर मंदिर) ।
इसके अलावा ऋषिकेश में अनेकों होटल हैं जहाँ आप आसानी से हर रेंज में ठहर सकते हैं जिनमे से कुछ यूँ हैं-
उत्तम श्रेणी के होटल- टूरिस्ट रेस्ट हाउस (ऋषिलोक मुनि की रेत), गंगा किनारे (16 वीरभद्र मार्ग), मंदाकिनी इंटरनेशनल (हरिद्वार रोड), इंद्रलोक (रेलवे रोड), नटराज (देहरादून रोड)।
मध्यम श्रेणी के होटल- कैलाश (मुनि की रेती), मेनका (बस स्टैंड के पास), आकाश गंगा (हरिद्वार रोड)।
साधारण श्रेणी के होटल- शिवलोक (लक्ष्मण झूला), अशोका (बस स्टैंड के पास), राजदीप (राम झूला,स्वर्ग आश्रम) आदि।
Image Courtesy: Magnus Manske

ऋषिकेश कब जाएँ

ऋषिकेश कब जाएँ

ऋषिकेश जाने के लिए हरिद्वार पर्यटन के दौरान ही प्रोग्राम बनाया जा सकता है और हरिद्वार ठहरकर यहाँ एक दिन में घूमकर वापस भी आया जा सकता है। मौसम के लिहाज़ से यहाँ सितंबर से नवंबर और मार्च से जून का समय घूमने के लिए अच्छा है।
Image Courtesy:Guptaele

ऋषिकेश में खरीदारी के लिए मशहूर चीज़ें

ऋषिकेश में खरीदारी के लिए मशहूर चीज़ें

ऋषिकेश में हस्तशिल्प का सामान अनेक छोटी दुकानों से खरीदा जा सकता है। यहां अनेक दुकानें हैं जहां से साड़ियों, बेड कवर, हैन्डलूम फेबरिक, कॉटन फेबरिक आदि की खरीददारी की जा सकती है। ऋषिकेश में सरकारी मान्यता प्राप्त हैन्डलूम शॉप, खादी भंडार, गढ़वाल वूल और क्राफ्ट की बहुत सी दुकानें हैं जहां से उच्चकोटि का सामान खरीदा जा सकता है।
Image Courtesy:Guptaele

यात्रा पर पाएं भारी छूट, ट्रैवल स्टोरी के साथ तुरंत पाएं जरूरी टिप्स