Search
  • Follow NativePlanet
Share
» » 12 साल में एक बार खिलता है केरल का दुर्लभ नीलकुरिंजी फूल

12 साल में एक बार खिलता है केरल का दुर्लभ नीलकुरिंजी फूल

'भगवान का अपना देश' केरल इस वक्त अपने अनुमानित सैलानियों के स्वागत में व्यस्त है। इस व्यस्तता की सबसे बड़ी वजह है 'नीलकुरिंजी फूल', जो दक्षिण भारत के सबसे खूबसूरत पर्यटन स्थल मुन्नार की पहाड़ियों को जामुनी करने के लिए इस महीने के अंत से खिलना शुरू होंगे।

ये जामुनी रंग के फूल 12 साल में सिर्फ एक बार खिलते हैं, जिन्हें देखने के लिए न सिर्फ देश बल्कि विश्व भर से सैलानी आते हैं। जुलाई के अंत से लेकर अक्टूबर तक ये मुन्नार की पहाड़ियों की खूबसूरती पर चार चांद लगाने का काम करेंगे। आइए इस लेख के माध्यम से जानते हैं, इस फूल से संबंधित कुछ महत्वपूर्ण तथ्य और आसपास के खास आकर्षणों के बारे में।

नीलकुरिंजी की खासियत

नीलकुरिंजी की खासियत

PC- Asok,m,k

केरल स्थित मुन्नार देश में नीलकुरिंजी पौधों का सबसे बड़ा घर माना जाता है, लगभग 3000 हेक्टेयर में घुमवादार पहाड़ियों के साथ स्थित मुन्नार दक्षिण भारत के सबसे खास पर्यटन गंतव्य में से एक है। और इन्हीं पहाड़ियों पर खिलते हैं जामुनी रंग के 'नीलकुरिंजी' फूल। ये फूलों की दुर्लभ प्रजाति है जो 12 साल में एक बार ही अपना खूबसूरत रूप दिखाते हैं। इस फूल का वैज्ञानिक नाम स्ट्रोबिलैंथस कुंथियाना है। वनस्पति विशेषज्ञों की के अनुसार यह फूल एक बार खिलने के बाद सूखने लगते हैं, जिसके बाद ये अपने बीज उसी स्थान पर गिरा देते हैं। पौधों की अगली खेप आने में 12 साल का वक्त लग जाता है।

ये पौधें लगभग 60 सेमी की ऊंचाई तक बढ़ते हैं। हरी-भरी पहाड़ियों के साथ इन जामुनी फूलों को देखना काफी सुखद अनुभव होता है। नीलाकुरीनजी एशिया और ऑस्ट्रेलिया में पाए जाने वाले उष्णकटिबंधीय पौधों की प्रजाति है। पूरी दुनिया में इनकी लगभग 450 प्रजातियां हैं, जिनमें से 146 भारत और उनमें से 43 केरल में केरल में पाई जाती हैं। आगे जानिए मुन्नार आएं तो कहां कहां घूमें।

आकर्षण- इरविकुलम नेशनल पार्क

आकर्षण- इरविकुलम नेशनल पार्क

PC- Arun Suresh

मुन्नार भ्रमण के दौरान आप आसपास के पर्यटन आकर्षणों में प्रसिद्ध इरविकुलम नेशनल पार्क की रोमांचक सैर का आनंद ले सकते हैं। पश्चिमी घाट के साथ 97 किमी के क्षेत्र में फैला यह राष्ट्रीय उद्यान मुन्नार के सबसे मुख्य पर्यटन स्थलों में गिना जाता है, जहां की सैर करना सैलानियों को बहुत ही ज्यादा पसंद है। इरविकुलम नेशनल पार्क मुख्यत: यहां पाई जाने वाली दुर्लभ नीलगिरि तहर (जंगली बकरी) के लिए जाना जाता है।

इस उद्यान में आप तहर के अलावा सांभर, हिरण, नीलगिरि लंगूर, जंगली कुत्ते, तेंदुआ आदि जानवरों को भी देख सकते हैं। शानदार प्राकृतिक दुश्यों के साथ यह नेशनल पार्क प्रकृति का एक अनमोल तोहफा है।

अट्टूकड वाटरफॉल

अट्टूकड वाटरफॉल

PC- Amal94nath

नीलाकुरीनजी फूलों को देखने के साथ-साथ आप मुन्नार के खास प्राकृतिक आकर्षणों को भी देख सकते हैं। इरविकुलम नेशनल पार्क के बाद आप यहां के प्रसिद्ध अट्टूकड जलप्रपात की सैर का प्लान बना सकते हैं। मुख्य शहर मुन्नार से 8 किमी की दूरी पर स्थित यह झरना सैलानियों के मध्य काफी ज्यादा लोकप्रिय है, खासकर मानसून के दौरान इसकी खूबसूरती देखते ही बनती है। इस झरने के अलावा आप यहां आसपास के दो और जलप्रपात चीयापरा वलार फॉल को भी देख सकते हैं।

अनामुडी पहाड़ी

अनामुडी पहाड़ी

PC- Arunguy2002

मुन्नार में इरविकुलम नेशनल पार्क के दक्षिणी भाग में स्थित अनामुडी पहाड़ी यहां के प्रसिद्ध पर्यटन स्थलों में शामिल है, जहां की सैर करना आम प्रयटकों के साथ एडवेंचर का शौक रखने वाले सैलानियों को भी काफी ज्यादा पसंद है।अनामुडी दक्षिण भारत की सबसे ऊंची पहाड़ी चोटी है। अनामुडी देश के सबसे बेहतरीन ट्रेकिंग ट्रेल्स गिना जाता है, जहां ट्रेकिंग का रोमांचक अनुभव लेने के लिए देश-विदेश से ट्रैवलर्स आते हैं।

इन सब के अलावा यह पहाड़ी विभिन्न वनस्पतियों और असंख्य जीवों को लिए भी काफी प्रसिद्ध है। आप यहां नीलगिरि तहर, एशियाई हाथी और गौर जैसे जीवों को आसानी से देख सकते हैं।

कैसे करें प्रवेश

कैसे करें प्रवेश

केरल स्थित मुन्नार एक प्रसिद्ध हिल स्टेशन है, जहां तक आप परिवहन के तीनों मार्गों से आसानी से पहुंच सकते हैं। यहां का नजदीकी हवाईअड्डा कोच्चि एयरपोर्ट है, रेल मार्ग के लिए आप अलुवा रेलवे स्टेशन का सहारा ले सकते हैं। अगर आप चाहें तो यहां सड़क मार्गों के माध्यम से भी पहुंच सकते हैं। बेहतर सड़क मार्गों के द्वारा मुन्नार दक्षिण भारत के बड़े शहरों से अच्छी तरह जुड़ा हुआ है।

तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X