• Follow NativePlanet
Share
» »गर्मी की छुट्टियों में एडवेंचर का तड़का चाहिए, तो चले आइये सिरमोली

गर्मी की छुट्टियों में एडवेंचर का तड़का चाहिए, तो चले आइये सिरमोली

Written By:

मुनसियारी उत्तराखंड के प्रसिद्ध पर्यटन स्थलों में से एक है, जहां हर साल हजारों पर्यटकों घूमने पहुंचते हैं। लेकिन क्या आपने मुनसियारी के पास स्थित सिरमोली के बारे में सुना है? नेपाल और तिब्बत की सीमा से सटा हुआ सिरमोली मुनसियारी के पास एक छोटा सा गांव है।

अगर आप अभी गूगल करेंगे तो आपको मुनसियारी के बारे में काफी कुछ पता चलेगा, लेकिन अगर वहीं सिरमोली के बारे में आपको कम जानकरी हासिल होगी। जब आप इस खूबसूरत जगह की यात्रा करेंगे, तो आप जानेंगे कि, यह प्राकृतिक नजारों से भरपूर जगह यहां आने वाले पर्यटकों के लिए आखिर क्यों इस खास है?

सिरमोली कुमाऊं क्षेत्र में पृष्ठभूमि में पंचचुली रेंज के साथ घिरी हुआ है, इस गांव के पास से गोरी गंगा नदी बहती है। पिछले कुछ सालों में, सरमोली अपने ग्रामीण पर्यटन और प्राकृतिक सुन्दरता के लिए धीरे धीरे पर्यटकों के बीच लोकप्रिय हो रही है।

सरमोली समृद्ध संस्कृति और विरासत का एक अद्वितीय वातावरण है, इसके बावजूद यह जगह आज भी पर्यटकों की बाह जोट रही है। जिसके चलते पर्यटकों के बीच इस खूबसूरत गांव की जानकारी पहुँचाने और रोचक कहानियों को साझा करने के लिए, ग्रामीण अपने स्वयं के इन्स्टाग्राम चैनल को चलाते हैं जिसे @voicesofmunsiari के नाम से जाना जाता है।

कैसे आयें सिरमोली?

कैसे आयें सिरमोली?

Pc:Ashish Gupta
मुनसियारी से केवल 1 किमी की दूरी पर स्थित सिरमोली सड़क द्वारा आसानी से पहुंचा जा सकता है। यदि आप ट्रेन से यात्रा करने की योजना बना रहे हैं, तो निकटतम रेलवे स्टेशन काठगोदाम रेलवे स्टेशन है, जो सिरमोली से 124 किमी दूर है। काठगोदाम पहुँचने के बाद पर्यटक कैब या बस के जरिये आसानी से मुनसियारी के माध्यम से सिरमोली पहुंच सकते है। काठगोदाम से सिरमोली पहुंचने में लगभग 10 घंटे का समय लगता है।

कहां रुके सिरमोली में?

कहां रुके सिरमोली में?

Pc:Ashish Gupta
सिरमोली में लगभग 15 होमस्टे उपलब्ध हैं, जो ज्यादातर महिलाएं संचालित करती है, यहां आपको रहने और खाने के लिए करीबन 700 रुपये से 1600 अच्छा होमस्टे मिल जायेगा । होमस्टे आपको ग्रामीणों के साथ रहने और स्थानीय भोजन और संस्कृति का आनंद लेने का अनुभव प्रदान करते हैं।

होमस्टे ग्रामीण जीवनशैली का एक अभिन्न हिस्सा हैं, लेकिन मेहमानों की आवभगत के लिए ग्रामीण वासी मेहमानों को सभी आधुनिक सुख सुविधायें प्रदान करते हैं।

कब आयें सिरमोली?

कब आयें सिरमोली?

Pc:Abhijit Kar Gupta
यदि आप ऊंचे बर्फ से ढके हुए पहाड़ों के लुभावने दृश्यों का आनंद लेने के इच्छुक हैं, तो आपको जनवरी से मार्च के बीच सिरमोली की यात्रा करनी चाहिए। ऐसे लोग हैं जो अत्यधिक ठंड बर्दास्त नहीं कर सकते, उन्हें उचित शीतकालीन मौसम से बचना चाहिए और मानसून के मौसम से पहले इस जगह पर जाना चाहिए क्योंकि इन पहाड़ी क्षेत्रों में जुलाई से सितंबर तक लगातार भूस्खलन होता है। गर्मियों के दौरान भी असामान्य वर्षा होने के लिए सिरमोली काफी प्रसिद्ध है।

इसलिए गर्मियों में यहां की यात्रा करते समय अपने साथ ऊनी कपड़े ,छाता ,रेनकोट आदि अवश्य रखें। इसके अलावा यहां मोबाइल नेटवर्क भी बाधित होता रहता है।

सिरमोली की खास विशेषता

सिरमोली की खास विशेषता

Pc:Abhijit Kar Gupta
ग्रामीण एक हफ्ते की वार्षिक ग्रीष्मकालीन अनुष्ठान की मेजबानी करते हैं जिसे हिमाल कलासुत्र त्यौहार कहा जाता है जो बहुत से पर्यटकों को आकर्षित करता है। इस त्यौहार के दौरान, सभी स्थानीय लोग एक साथ 8000 फीट की ऊंचाई के साथ 20 किमी लंबी मैराथन में भाग लेते हैं। हाल ही में, ग्रामीणों ने इसी त्योहार के दौरान पक्षियों की फोटोग्राफी और फोटोग्राफी कार्यशाला की भी शुरुआत की है।

सिरमोली में ट्रेकिंग रूट

सिरमोली में ट्रेकिंग रूट

Pc: L. Shyamal
उत्तराखंड में कई छोटे बड़े ट्रेकिंग डेस्टिनेशन है। उनमें से, तीन छोटी ट्रेक, अर्थात् मेसार कुंड, धनधर रिज और खलीया टॉप, मुनसियारी से पूरी की जा सकती हैं।

मेसार कुंड
मेसार कुंड, महेश्वरी कुंड के नाम से जानी जाती है, मुनसियारी में यह पारिवारिक यात्रा के लिए एक आदर्श स्थान है। यहां ट्रेकिंग ट्रेन पत्थरों से चिह्नित है, यह ट्रेकिंग ट्रेल ओक और चीड़ के पेड़ो और सुंदर रोडोडेंड्रॉन बागों के माध्यम से होकर पूरी होती है। अन्य ट्रेक के विपरीत, मेसार कुंड एक आसान ट्रेकिंग हैं, जो इसे उपयुक्त परिवार अन्वेषण बनाता है। यदि आप मानसून के मौसम में ट्रेक के लिए जाने की योजना बना रहे हैं, तो अच्छे जूते पहने और साथ ही खून चूसने वाली लीची से बचकर रहें हैं।

धनधर रिज: पर्यटक इस खूबसूरत जगह से 360 डिग्री के एंगल से बर्फ से ढके हुए पहाड़ों को और नीचे बहती हुई गोरी गंगा को देख सकते हैं, धनधर रिज के शीर्ष पर एक छोटा मंदिर है।

खलीया टॉप: मुनसियारी के प्रसिद्ध ट्रेकिंग ट्रेल में से एक खलीया टॉप एक है, क्योंकि यह विभिन्न वनस्पतियों और जीवों के साथ हिमालयी रेंज का शानदार दृश्य देता है। समुद्र तल से 3500 मीटर की ऊंचाई पर स्थित, सर्दी के दौरान इस जगह की यात्रा करना बेहद रोमांचक है।

यात्रा पर पाएं भारी छूट, ट्रैवल स्टोरी के साथ तुरंत पाएं जरूरी टिप्स