Search
  • Follow NativePlanet
Share
» »ताडोबा नेशनल पार्क है वीकएंड पर घूमने के लिए पर्फेक्ट डेस्टिनेशन

ताडोबा नेशनल पार्क है वीकएंड पर घूमने के लिए पर्फेक्ट डेस्टिनेशन

वीकएंड में घूमने की जगह ढूंढना काफी मुश्किल हो जाता है क्योंकि आप ये जरूर चाहेंगे कि आपकी ट्रिप एक दम परफेक्ट हो। जाहिर सी बात है हर कोई चाहता है कि ट्रिप ऐसा हो जिसमें ना ज्यादा समय लगे, ना ज्यादा थकान हो और कुछ अच्छा भी देखा जा सके। अब आप सोच रहे होंगे कि ऐसा होना तो लगभग नामुमकिन के बराबर ही है। लेकिन ऐसा नहीं है, ऐसा बिल्कुल मुमकिन है।

महाराष्ट्र के के पास ताडोबा नेशनल पार्क वीकएंड में घूमने के लिए एक बेहतरीन विकल्प साबित हो सकता है। ताडोबा महाराष्ट्र का सबसे पुराना और सबसे बड़ा नेशनल पार्क है। इसे ताडोबा अंधारी बाघ संरक्षित क्षेत्र के नाम से भी जाना जाता है। यह महाराष्ट्र राज्य के चंद्रपुर जिले में स्थित है और नागपुर शहर से लगभग 150 किमी दूर है। बाघ रिजर्व का कुल क्षेत्र 1,727 वर्ग किमी है, जिसमें वर्ष 1955 में बनाया गया ताडोबा नेशनल पार्क शामिल है।

क्यों जाएं ताडोबा नेशनल पार्क?

क्यों जाएं ताडोबा नेशनल पार्क?

2010 की बाघों पर राष्ट्रीय जनगणना की मानें तो, रिजर्व में लगभग 43 बाघ हैं, जो भारत में सबसे ज्यादा है। पार्क के कुछ मुख्य आकर्षण यहां दिए गए हैं। ताडोबा नेशनल पार्क को तीन अलग-अलग वन श्रेणियों में विभाजित किया गया है, ताडोबा उत्तर सीमा, मोहरली रेंज और कोल्सा दक्षिण सीमा। पार्क में तीन जल स्रोत हैं, ताडोबा नदी, ताडोबालेक, और कोल्सा झील। इन तीनों क्षेत्रों में सफारी की अनुमति है।

इसके अलावा ये पार्क कई क्षेत्रों में भी विभाजित है:

मोहरली या महुरली जोन: जानवरों को खोजने के लिए पार्क में यह सबसे अच्छा स्थान है। यह सफारी के लिहाज़ से ये एक प्रसिद्ध और आदर्श स्थान है। यह पार्क का मुख्य हिस्सा है।

ताडोबा जोन: यह क्षेत्र सुंदर स्थानों और पशु स्पॉटिंग के लिए प्रसिद्ध है। इस क्षेत्र में चार प्रवेश द्वार हैं।

कोल्सा क्षेत्र: यह क्षेत्र वन क्षेत्र से भरा है। जंगली जानवरों को देखा जाना यहां आसान नहीं है। सफारी यहां पार्क के पेड़-पौधों पर केंद्रित है। भौगोलिक दृष्टि से, पार्क के तीन क्षेत्र किसी भी वाइल्डलाइफ सफारी के लिए प्रसिद्ध हैं।

उत्तर: पार्क के उत्तरी हिस्से में घने जंगलों और उनसे ढकी पहाड़ियां हैं। ऊंचाई से देखने पर ये बहुत खूबसूरत लगता है। पार्क के पश्चिमी हिस्से में पहाड़ी सीमाएं भी हैं। ऊंचाई 200 मीटर से 350 मीटर तक है। पहाड़ी इलाके की ढलानों और घाटियों के निर्माण के लिए उतरती हैं जहां जानवरों की समृद्ध आबादी मिल सकती है।

दक्षिण: 300 एकड़ में ताडोबा झील है जो पार्क का दक्षिणी भाग में है। ये किसी सीमा की तरह खेत से पार्क को अलग करती है। यह क्षेत्र मगरमच्छ और कई अन्य जानवरों को ढूंढने के लिए प्रसिद्ध है जो अपनी प्यास बुझाने के लिए आते हैं।

ताड़ोबा राष्ट्रीय उद्यान सफारी

ताड़ोबा राष्ट्रीय उद्यान सफारी

PC: SanjayKOjha

ताड़ोबा राष्ट्रीय उद्यान में सफारी पर्यटकों के लिए मुख्य आकर्षण है। आप पार्क गाइड के साथ खुली जिप्सी में या बस में सफारी पर जा सकते हैं।

खुली जिप्सी सफारी जंगली जीवन, सुस्त भालू और अन्य चीज़ें खोजने और उनका अनुभव करने के लिए प्रसिद्ध है। जीप या जिप्सी सफारी को पार्क के पास डीएफओ कार्यालय में पहले से ही बुक किया जाना चाहिए। तत्काल बुकिंग पार्क के नवेगांव गेट में उपलब्ध है। बुकिंग की कोई ऑनलाइन सुविधाएं उपलब्ध नहीं हैं। इसके अलावा निजी जीप को पास के टैक्सी स्टैंड में किराए पर लिया जा सकता है।

पार्क के 5 गेट, जो सफारी वाहनों को पार करने की अनुमति देते हैं।

पार्क के 5 गेट, जो सफारी वाहनों को पार करने की अनुमति देते हैं।

मोहरली गेट: ये पार्क का सबसे पुराना प्रवेश द्वार है। एक सफारी दौर के दौरान नौ वाहनों को पार करने की अनुमति देता है ये गेट। हर दिन दो सफारी दौर की अनुमति दी जा सकती है।

कुस्वांडा गेट: सुबह और शाम के समय इस गेट से सिर्फ चार वाहनों की अनुमति है। कुल मिलाकर, आठ वाहन प्रतिदिन प्रवेश करते हैं।

कोलारा गेट: इस गेट से हर दिन 18 वाहनों को प्रवेश करने की अनुमति है।

पांगडी गेट: यह पार्क का परला गेट है। इस गेट से दिन में सिर्फ चार वाहन ही जा सकते हैं।

ज़ारी गेट: यह गेट एक दिन के दौरान 12 वाहनों को पार करने की अनुमति देता है।

वाइल्डलाइफ सफारी का समय

वाइल्डलाइफ सफारी का समय

  • ताडोबा नेशनल पार्क मंगलवार को बंद रहता है। पार्क जून से अक्टूबर तक भी बंद रहता है। बरसात का मौसम साल-दर-साल बदलता रहता है।
  • गर्मी के मौसम में, सफारी सुबह 5:30 बजे शुरू होती है और सुबह 7:30 बजे तक समाप्त हो जाती है। शाम को, सफारी 3 बजे शुरू होती है और 4:30 बजे तक समाप्त होती है। 6:30 बजे से पार्क के अंदर कोई सफारी वाहन नहीं होता।
  • बरसात के मौसम में, सफारी सुबह 5 बजे से शुरू होता है और सुबह 7 बजे समाप्त होता है। शाम के समय सफारी 3:30 बजे शुरू होती है और 5 बजे तक समाप्त होती है।
  • सर्दियों के दौरान, यात्रा सुबह 6 बजे से शुरू होती है और सुबह 8 बजे तक समाप्त होती है। शाम की यात्रा 2:30 बजे शुरू होती है और 4 बजे तक समाप्त होती है।
ताडोबा नेशनल पार्क जाने के लिए टिकट

ताडोबा नेशनल पार्क जाने के लिए टिकट

ताडोबा नेशनल पार्क में प्रवेश करने की टिकट 20 रुपये प्रति व्यक्ति है। पार्क में घूमने के लिए अगर वाहन लेते हैं तो उसके लिए आपको 50 रुपये देने होंगे। कैमरा ले जाने के 2 रुपये और अगर आप अपने कोई गाइड रखना चाहते हैं तो उसके लिए 100 रुपये देने होंगे।

ताडोबा नेशनल पार्क तक कैसे पहुंचे

हवाई जहाज़ से: अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा नागपुर में स्थित है। ये पार्क का नजदीकी हवाई अड्डा है। नागपुर हवाई अड्डे से, ताडोबा पहुंचने के लिए कई सड़क परिवहन उपलब्ध हैं।

रेल से: पार्क का निकटतम रेलवे स्टेशन चंद्रपुर रेलवे स्टेशन है। ये पार्क से 45 किमी दूर है। स्टेशन दिल्ली, मुंबई, झांसी, हैदराबाद और चेन्नई जैसे देश के अन्य महत्वपूर्ण शहरों से ट्रेनों को जोड़ता है।

रोड से: आसपास के शहरों से बसें और कारें पार्क तक जाती हैं। चंद्रपुर से कई कारों को पार्क तक पहुंचने के लिए किराए पर लिया जा सकता है। चंद्रपुर राष्ट्रीय राजमार्ग के माध्यम से सभी महत्वपूर्ण शहरों से जुड़ा हुआ है।

तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X