» »तलकाडू: कर्नाटक का खूबसूरत रेगिस्तान...दिल कह उठेगा वाह

तलकाडू: कर्नाटक का खूबसूरत रेगिस्तान...दिल कह उठेगा वाह

Written By: Goldi

जब भी बात रेगिस्तान देखने की आती है तो दिमाग में सिर्फ राजस्थान ही ठहर जाता है। हालांकि पूरा राजस्थान रेगिस्तान नहीं है लेकिन जैसलमेर में बालू और रेगिस्तान को देखा जा सकता है। खैर हम आज आपको बताने जा रहें है कर्नाटक के रेगिस्तान के बारे में।

आपको पढ़कर थोड़ा अजीब जरुर लगेगा लेकिन दक्षिण भारत में स्थित कर्नाटक में है एक ऐसी जगह मौजूद है..जो पूरी तरह रेगिस्तान है..आपको चारो और सिर्फ बालू ही बालू नजर आएगी। इस जगह का नाम है तलकाडू। 

कहा जाता है कि, यह एक प्राकृतिक आपदा के कारण वोडेयर्स के शासन के दौरान हुआ था, लेकिन स्थानीय कहानियों और मिथक अन्यथा कहते हैं। साथ ही एक कहानी भी लोगो के बीच प्रचलति है कि, तलकाडू रानी अलमेलु के
अभिशाप की वजह से रेत के भीतर दफन हो गया।

तो आइये स्लाइड्स में जानते हैं आखिर क्यों एक खूबसूरत सा गांव बन गया रेगिस्तान का टीला

इतिहास

इतिहास

तलकाडू शहर में किसी ज़माने में पांच लोकप्रिय शिव मंदिर थे, वह गंगा द्वारा और फिर चोला द्वारा शासन किया गया था। होयसल राजा विष्णुवर्धन द्वारा चोला को तलकाडू से बाहर करने के बाद इस पर शहर विजयनगर राजा का शासन था और फिर मैसूर के वोडेयर्स ने इस पर कब्ज़ा कर लिया।

शापित है तलकाडू

शापित है तलकाडू

जब मैसूर के राजा तलकाडू के खिलाफ एक सेना के साथ अलमेलु के गहने पर हाथ डालने के क्रम से चले , उसने कावेरी नदी में गहना फेंक दिया और खुद डूब गयी। पौराणिक कथा में कहा गया है कि उसने मरने से पहले, अभिशाप देते हुवे कहा कि तलकाडू रेत में बदल जाये। 16 वीं शताब्दी में यह शहर रेत के नीचे दब गया था।

पर्यटकों के बीच है प्रसिद्द

पर्यटकों के बीच है प्रसिद्द

तलकाडू पर्यटकों के बीच खूबसूरत मन्दिरों को लेकर काफी प्रसिद्ध है। यह शहर अपने पांच मंदिरों, अर्थात् वैद्यनाथइश्वर, पातालेश्वर, मरुलेश्वारा, अर्केश्वारा और मल्लिकार्जुन मंदिर के लिए जाना जाता है। ये सभी मंदिर हर वर्ष रेत के भीतर दफन हो जाती हैं, लेकिन अब इन्हें लगातार खुला रखने के लिए कोशिश जारी है।PC: wikimedia.org

अर्केश्वारा मंदिर

अर्केश्वारा मंदिर

तलकाडू के मंदिर तलकाडू के यात्रा की योजना बना रहे यात्रियों को इस शहर के प्रमुख आकर्षण, अर्केश्वारा मंदिर का दौरा करना चाहिए। इस स्टाल पर शिवलिंग मौजूद है, जिससे यह 5 मंदिरों में से एक है जहाँ पंचालिंगादर्शन के दौरान तीर्थयात्रियों भीड़ जम जाती है, यह त्योहार हर 12 साल में आयोजित किया जाता है।PC: wikimedia.org

मल्लिकार्जुन मंदिर

मल्लिकार्जुन मंदिर

तलाकड़ कि यात्रा पर, पर्यटकों को मल्लिकार्जुन मंदिर का पता लगाने चाहिए कि जो देवी ब्रह्मराम्बिगाई के लिए समर्पित है और जहाँ मल्लिकार्जुन स्वामी का एक छोटा सा शिवलिंग है। करीबी अवलोकन पर भक्तों को शिवलिंग पर पैर के निशान दिखाई देंगे, जो स्थानीय लोगों के अनुसार कामधेनु के हैं। संध्या गणपती, वीराबद्रार और चामुन्दीस्वारी संनाधि भी मंदिर के परिसर के अंदर रखे गये है। भक्त जन मल्लिकार्जुन मंदिर के आसपास के क्षेत्र में स्थित अनाधि वैकुनतानाथर और वीर अन्जनेया कोइल मंदिरों कि यात्रा कर सकते हैं जो कि मुदुकुथोर कि यात्रा पर स्तिथ है।PC: wikimedia.org

पथालेश्वारा मंदिर

पथालेश्वारा मंदिर

पथालेश्वारा मंदिर तलाकड़ में एक और लोकप्रिय तीर्थ स्थल है। यह इस शहर में गंगा राजाओं द्वारा निर्माण किये गये प्रथम मंदिरों में माना जाता है। पथालेश्वारा मंदिर का प्रमुख आकर्षण शिवलिंग है, जो दिन के विभिन्न समय पर रंग बदलता है।PC: wikimedia.org

चेन्नाकेसवा मंदिर

चेन्नाकेसवा मंदिर

तलाकड़ कि यात्रा पर यात्री सोमानाथापुरा गांव का दौरा कर सकते हैं जो कावेरी नदी के तट पर स्थित है। यह गांव दो मंदिरों, अर्थात् श्री वेनुगोपाला स्वामी मंदिर और श्री चेन्नाकेशावा मंदिर के लिए जाना जाता है।
PC: wikimedia.org

कीर्ति नारायण मंदिर

कीर्ति नारायण मंदिर

तलाकड़ के एक यात्रा पर यात्रियों की कीर्ति नारायण मंदिर जाने के लिए सुझाव दिया जाता है, जो वर्ष 1911 में खोदा गया था। एक अर्ध मंडपम इस मंदिर के अंदर स्थित है जिसमे विस्वसेनर और योग नरसिम्हार की प्रतिमाये स्तिथ है।भगवान विष्णु की एक 9 फुट लंबी मूर्ति कीर्ति नारायण मंदिर की एक और विशेषता है, जो एक गरुड़ पीड़म पर रखा गया है।

Please Wait while comments are loading...