India
Search
  • Follow NativePlanet
Share
» »टाटा टी म्यूजियम की पूर्ण जानकारी

टाटा टी म्यूजियम की पूर्ण जानकारी

एक सदी से भी पहले समय से मुन्नार का इतिहास इसके चाय बागानों से जुड़ा हुआ है। वास्तव में, मुन्नार दुनिया के कुछ बेहतरीन चाय बागानों का स्थान है। यह मुन्नार के लोगों के लिए रोजगार का एक महत्वपूर्ण श्रोत है।

कन्नन देवन चाय बागान मुन्नार में टाटा की चाय की संपत्ति है, जिसमें मुन्नार के अधिकांश चाय बागान हैं। टाटा टी म्युजियम, जिसे केडीएचपी म्युजियम भी कहा जाता है, मुन्नार से 2 किलोमिटर की दूरी पर स्थित है। यह टाटा टी के नल्लाथन्नी एस्टेट का एक हिस्सा है।

Tata Tea Museum

यह म्युजियम मुन्नार के चाय बागानों के सभी अग्रदूतों को श्रद्धांजलि देने के लिए खड़ा है, जिन्होंने इसे केरल के प्रमुख चाय वितरकों में से एक में बदल दिया। टाटा टी म्यूजियम भारत का अनूठा म्यूजियम है। यहां आने वाले पर्यटकों को भारत में चाय बागान उद्योग की स्थापना और प्रगति के बारे में पता चलता है। नियमावली रूप से संचालित चाय रोलर से लेकर पूरी तरह से स्वचालित चाय कारखाने तक, आपको मुन्नार के चाय बागान के स्वचालन से संबंधित हर एक तथ्य के बारे में पता चलता है।

Tata Tea Museum

यह म्युजियम शोधकर्ताओं के लिए एक जगह है। आप चाय की पत्तियों के प्रसंस्करण और तैयार उत्पाद के विपणन के बारे में जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। चाय के विभिन्न चरणों को प्रदर्शित करने के लिए उनके पास एक चाय निर्माण इकाई और एक मिनी सीटीसी भी है। टाटा टी म्यूजियम के प्रवेश द्वार पर 1913 की ग्रेनाइट से बनी भव्य धूपघड़ी है। इसे तमिलनाडु के आर्ट इंडस्ट्रियल स्कूल का योगदान बताया जाता है।

Tata Tea Museum

यह प्रामाणिक म्युजियम एक ऐसा स्थान है जहां आप 1905 के दौरान निर्मित मूल चाय रोलर की उपस्थिति पा सकते हैं। रोटर वेन और पेल्टन व्हील इस खंड के अन्य प्रमुख आकर्षण हैं। म्युजियम का एक और हिस्सा पुराने ज़माने के बंगले के फर्नीचर, मैग्नेटो फोन, लकड़ी के बाथटब, कैश सेफ, लोहे के ओवन और आधुनिक प्रदर्शन प्रदर्शित करता है। यहां के एक कमरे में, आप एक लौह युग का दफन कलश भी पा सकते हैं, जिसका उपयोग दूसरी शताब्दी ईसा पूर्व के दौरान व्यापक रूप से किया गया था।

अंत में इस टाटा चाय म्युजियम के प्रदर्शन कक्ष में जाना न भूलें। यहां आपको चाय के विभिन्न प्रकारर
के स्वाद चखने को मिलेंगे। यह प्रदर्शन दिन में दो बार सुबह 10:30 बजे और दोपहर में 02:30 बजे निर्धारित किया गया है। मुन्नार के चाय के ढेर सारे स्वादों का स्वाद लेने के लिए प्रति व्यक्ति लगभग 100 रुपये का मामूली शुल्क है।

यहां कैसे पहुंचे

सड़क द्वारा:

मुन्नार के टाटा टी म्युजियम के प्रवेश द्वार पर आपको छोड़ने के लिए आप या तो स्थानीय बस का विकल्प चुन सकते हैं या निजी कैब किराए पर ले सकते हैं। क्योंकि यहां परिवहन काफी सुचारू है, इसलिए आपको यात्रा संबंधी किसी भी कठिनाई के बारे में चिंता करने की जरूरत नहीं है।

बस से:

केरल के अन्य महत्वपूर्ण क्षेत्रों से आपको मुन्नार बस स्टेशन पर छोड़ने के लिए स्थानीय बसें हैं। तमिलनाडु और केरल के विभिन्न शहर मुन्नार के लिए बस सेवा प्रदान करते हैं। इसके अलावा, मुन्नार केएसआरटीसी बस सेवा द्वारा केरल के अन्य प्रमुख शहरों से अच्छी तरह जुड़ा हुआ है।

रेल द्वारा:

अलुवा रेलवे स्टेशन निकटतम स्टेशन है। यहां से, आप मुन्नार बस स्टेशन पर आपको छोड़ने के लिए बसों का सेवा ले सकते हैं।

Read more about: tata tea museum kerela munnar
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X