Search
  • Follow NativePlanet
Share
» »हिमालय की गोद में बसे भगवान शिव के अद्भुत मंदिर

हिमालय की गोद में बसे भगवान शिव के अद्भुत मंदिर

हिमालय की गोद में बसा उत्तराखंड देवभूमि के नाम से जाना जाता है, जो कई हिन्दू देवी-देवताओं का निवास स्थान है। साल भर यहां सैलानियों के साथ श्रद्धालुओं का आवागमन लगा रहता है। मनमोहक प्राकृतिक आकर्षणों, घने जगंलों और हिम पर्वतों से घिरा उत्तराखंड विश्व पटल पर भारत का प्रतिनिधित्व करता है। प्राकृतिक और सांस्कृतिक रूप से यह राज्य काफी ज्यादा मायने रखता है।

आज इस खास लेख में हम आपको इस पहाड़ी राज्य के सबसे प्रसिद्ध शिव मंदिरों के बारे में बताने जा रहे हैं, जिनका संबंध पौराणिक काल से बताया जाता है, जहां रोजाना दूर-दराज के श्रद्धालुओं का आगमन होता है। यहां तक की देशी-विदेशी सैलानी भी यहां आने का सौभाग्य प्राप्त करते हैं।

केदारनाथ

केदारनाथ

PC- Tanusree Das

हिमालय की बर्फीली पहाड़ियों के बीच स्थित केदारनाथ मंदिर भगवान शिव के सबसे प्रसिद्ध मंदिरों में गिना जाता है, जहां सिर्फ देश नहीं बल्कि विश्व भर से श्रद्धालुओं का आगमन होता है। यह मंदिर भोलेनाथ के 12 सबसे ज्योतिर्लिंगों में भी शामिल है। इसके अलावा भगवान शिव का यह भव्य मंदिर भारत की प्रसिद्ध चार धाम यात्रा में भी गिना जाता है।

यह मंदिर राज्य के रूद्रप्रयाग जिले में स्थित है। बता दें कि सर्दीयों के दौराना मंदिर के द्वार बंद हो जाते हैं, लेकिन अप्रैल से नंवबर के बीच बाबा केदारनाथ के दर्शन किए जान सकते हैं।

तुंगनाथ मंदिर, रुद्रप्रयाग

तुंगनाथ मंदिर, रुद्रप्रयाग

PC- Vvnataraj

तुंगनाथ मंदिर विश्व के सबसे ऊंचा शिव मंदर है, जो रूद्रप्रयाग जिले के अंतर्गत गड़वाल हिमालय में स्थित है। यह एक प्राचीन मंदिर है जो पंच के केदार मंदिरों में से एक है। पौराणिक साक्ष्यों के अनुसार भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए पांडवों ने इस मंदिर का निर्माण करवाया था, क्योंकि भगवान शिव महाभारत के नरसंहार से काफी आहत हुए थे। यह मंदिर चोपता से 6 किमी की दूरी पर स्थित है।

आध्यात्मिक और धार्मिक अनुभव के लिए आप यहां आ सकते हैं। मंदिर का वास्तुकला श्रद्धालुओं के साथ-साथ यहां आने वाले पर्यटकों को भी काफी ज्यादा प्रभावित करती है।

रुद्रनाथ मंदिर, गढ़वाल

रुद्रनाथ मंदिर, गढ़वाल

PC- Cvashisth

उत्तराखंड स्थित भगवान शिव के प्राचीन मंदिरों में आप गढ़वाल के चमोली जिले स्थित रुद्रनाथ मंदिर के दर्शन कर सकते हैं। यह मंदिर पंच केदार में शामिल एक प्राकृतिक रॉक कट टेंपल है। यह मंदिर समुद्र तल से लगभग 2220 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। यहां भोलेनाथ के मुख की पूजा की जाती है, और पूरे शरीर की पूजा नेपाल स्थित पशुपतिनाथ मंदिर में की जाती है।

नंदा देवी और त्रिशूल चोटियां इस मंदिर को खास बनाने का काम करती है। यहां तक पहुंचने के लिए आपको पहले गोपेश्वर आना होगा। इसके अलग यहां का आध्यात्मिक वातावरण श्रद्धालुओं को बहुत हद तक प्रभावित करता है।

बैजनाथ मंदिर, बैजनाथ

बैजनाथ मंदिर, बैजनाथ

PC- Spatni2

भगवान शिव के प्रसिद्ध मंदिरों में आप बैजनाथ मंदिर के दर्शन कर सकते हैं। यह एक प्राचीन मंदिर है जो गोमती नदी के तट पर स्थित है। जानकारी के अनुसार इस मंदिर का निर्माण 1204 ईस्वी में अहुका और मन्युका नाम के दो व्यापारियों ने करवाया था। मंदिर की वास्तुकला देखने लायक है, यहां की दीवारों पर की गई नक्काशी काफी ज्यादा आकर्षित करती है। शिवलिंग मंदिर के मुख्य स्थल(गर्भगृह) में स्थित है। मंदिर के अदंर आपको शिलालेख भी दिखाई देंगे। इसके अलावा आप यहां की दीवारों पर उकेरी गई प्रतिमाओं को भी देख सकते हैं।

बालेश्वर मंदिर चंपावत

बालेश्वर मंदिर चंपावत

PC- Ashwini Kesharwani

उपरोक्त मंदिरों के अलावा आप चंपावत स्थित बालेश्वर मंदिर के दर्शन भी कर सकते हैं। यह एक प्राचीन मंदिर है, जो राज्य के प्रसिद्ध शिव मंदिरों में गिना जाता है। मंदिर की वास्तुकाला और नक्काशी इसके प्राचीन होने के साक्ष्य हैं। मंदिर परिसर में दो अन्य मंदिर भी हैं एक रत्नेश्वर और दूसरा चम्पावती दुर्गा का। यहां कई सारे शिवलिंग मौजूद हैं। यह मंदिर हिन्दू श्रद्धालुओं की आस्था का मुख्य केंद्र है, इसलिए यहां भक्तों का अच्छा खासा जमावड़ा लगता है।

मंदिर की स्थापत्य कला सैलानियों को भी काफी ज्यादा आकर्षित करती है। यहां से प्राप्त शिलालेख के अनुसार मंदिर का निर्माण 1272 के दौरान चंद वंश द्वारा किया गया था। मंदिर की वास्तुकला बनाने वाले कारीगर की दक्षता को भली भांति प्रदर्शित करती है।

तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X