Search
  • Follow NativePlanet
Share
» » शिवालिक पहाड़ियों की तलहटी में बसा खूबसूरत शहर छिंदवाड़ा

शिवालिक पहाड़ियों की तलहटी में बसा खूबसूरत शहर छिंदवाड़ा

छिंदवाड़ा देश के ह्रदय राज्य मध्य प्रदेश का एक खूबसूरत शहर है, जो ऐतिहासिक, सांस्कृतिक और प्राकृतिक रूप से काफी ज्यादा महत्वपूर्ण माना जाता है। छिंदवाड़ा शिवालिक पहाड़ियों की तलहटी में खजूर के पेड़ों की अधिकता के साथ बसा है। शहर के नाम का शाब्दिक अर्थ है खजूर(छिंद) का स्थल (वाड़ा), अपनी इस खास विशेषता के कारण इस राज्य का नाम छिंदवाड़ा पड़ा।

अपने उत्कृष्ट स्थानों के कारण यह शहर राज्य के एक लोकप्रिय पर्यटन स्थल के रूप में उभरा है। समुद्र तल से 675 मीटर की ऊंचाई के साथ यह शहर 11,815 वर्ग किमी के क्षेत्र में फैला हुआ है। पर्यटन के लिहाज से छिंदवाड़ा एक आकर्षक गंतव्य है जो विभिन्न आकर्षणों की पेशकश करता है। इस लेख के माध्यम से जानिए मध्यप्रेदश का यह खूबसूरत शहर आपको किस प्रकार आनंदित कर सकता है।

देवगढ़ किला

देवगढ़ किला

PC- Kmohankar

छिंदवाड़ा भ्रमण की शुरुआत आप यहां के ऐतिहासिक देवगढ़ किले से कर सकते हैं। यह किला मुख्य शहर से 39 कि.मी की दूरी पर स्थित है। घने जंगलों और गहरी घाटियों के साथ यह प्राचीन किला यहां की एक पहाड़ी पर बनाया गया था। सुगम पहाड़ी मार्गों की सहायता से आप ऊपर किले तक पहुंच सकते हैं। जानकारी के अनुसार इस किले का निर्माण गोंड के राजा जाटव द्वारा किया गया था। 18 वीं शताब्दी तक यह गोंडवाना राजवंश की राजधानी के रूप में सक्रिय था।

किले की वास्तुकला मुगल शैली से प्रभावित है। यह एक विशाल किला है जिसकी खूबसूरत इमारते आगंतुकों को काफी ज्यादा प्रभावित करती है। इतिहास की बेहतर समझ के लिए आप यहां आ सकते हैं।

पातालकोट

पातालकोट

PC-Rohkya

छिंदवाड़ा की पहाड़ी खूबसूरती को देखने के लिए आप यहां के पातालाकोट का सैर का प्लान बना सकते हैं। यह क्षेत्र शहर के तामिया की पहाड़ियों में बसा हुआ है। अपनी खास भौगोलिक स्थिति और प्राकृतिक सुंदरता के कारण यह स्थल काफी ज्यादा लोकप्रिय है। 1200 से 1500 फीट की गहराई के साथ पातालकोट एक आकर्षक भूखंड है। अगर आप घाटी के शीर्ष पर बैठकर अगर आप इस स्थल को देखने तो यह कुछ घोड़े की नाल जैसा प्रतीत होगा।

इस स्थल से एक पौराणिक किवंदती भी जुड़ी है माना जाता है कि भगवान शिव' की पूजा करने के बाद राजकुमार मेघनाथ इस स्थल से पाताल लोग गए थे। 'पातालकोट' अपनी कुदरती सुंदरता और स्थानीय संस्कृति के बल पर पर्यटकों को आकर्षित करने का काम करता है।

तामिया पहाड़ियों

तामिया पहाड़ियों

छिंदवाड़ा से लगभग 45 किमी दूर तामिया एक खूबसूरत पहाड़ी स्थल है, जहां की सैर करना पर्यटकों को काफी ज्यादा पसंद हैं। यहां से आप महादेव और चौरा पहाड़ी के साथ सतपुड़ा पहाड़ी श्रृंखला की अद्भुत खूबसूरती का आनंद ले सकते हैं। यहां से आप दूर-दूर तक फैले कुदरती आकर्षणों का दीदार कर सकते हैं। यहां से सूर्योदय और सूर्योस्त के दृश्य काफी ज्यादा मनोरम दिखाई देते हैं।

यहां आप 'छोटा महादेव' के दर्शन भी कर सकते है, जो यहां की एक गुफा में विराजमान हैं। शहर की भागदौड़ भरी जिंदगी से दूर यह एक सुकून भरा स्थल है, जहां एक प्रकृति प्रेमी को जरूर आना चाहिए।

जनजातीय संग्रहालय

जनजातीय संग्रहालय

छिंदवाड़ी स्थित दर्शनीय स्थलों की श्रृंखला में आप यहां के जनजातीय संग्रहालय की सैर कर सकते हैं। इस म्यूजियम की शुरुआत 20 अप्रैल 1954 मे की गई थी, जिसे 1975 में राज्य संग्रहालय का दर्जा प्राप्त हुआ था। ​​8 सितंबर 1997 में इस म्यूजियम का नाम बदलकर 'श्री बादल भोई राज्य जनजातीय संग्रहालय' कर दिया गया था। अपने 14 रूमों और 3 गैलरियों और 2 स्वतंत्र गैलरियों के साथ यह जनजातीय संग्रहालय राज्य के महत्वपूर्ण पर्यटन स्थलों में गिना जाता है।

आप यहां मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ की जनजातियों के विषय में ढेर सारी जानकारियां प्राप्त कर सकते हैं। यहां आप जनजातीय जीवन से संबंधित दुर्लभ प्रानीच वस्तुएं जैसे कपड़े, गहने, हथियार, कृषि उपकरण और कला, संगीत, नृत्य, उत्सव और धार्मिक गतिविधियों से संबंधित वस्तुओं को भी देख सकते हैं।

अनहोनी

अनहोनी

उपरोक्त स्थानों के अलावा आप यहां अनहोनी नाम के गांव की सैर कर सकते हैं। यह गांव छिंदवाड़ा-पिपरिया रोड पर झिरपा गांव से लगभग 2 मील की दूरी पर स्थित है। यह गांव गंधक युक्त गर्म पानी के कुंड के लिए जाना जाता है। माना जाता है कि इस कुंड का जल औषधी गुण से युक्त है, जो त्वचा संबंधी रोगों का निपटान कर देता है। अगर आप छिंदवाड़ा आएं तो इस अद्भुत गांव की सैर का आनंद जरूर लें।

तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X