» »उत्तर भारत के पांच मशहूर त्यौहार

उत्तर भारत के पांच मशहूर त्यौहार

By: Goldi

भारत के ऐसा देश है जहां हर साल कई तरह के त्‍योहार मनाए जाते हैं। भारत अपनी पंरपरा, संस्‍कृति और इतिहास में विविधता के लिए मशहूर है। देशभर में दीवाली और नवरात्रि जैसे कुछ त्‍योहार मनाए जाते हैं जबकि कुछ त्‍योहार विशेष रूप से क्षेत्रीय महत्‍व रखते हैं और कुछ क्षेत्रों और राज्‍यों में ही मनाए जाते हैं।

ध्यान रखें, भारत की यात्रा में ये सारी चीजें करने से बचें!

भारत के हर क्षेत्र का अपना एक अलग त्‍योहार है और उनसे धार्मिक महत्‍व जुड़ा है। आज हम आपको दक्षिण भारत में बड़ी धूमधाम से मनाए जाने वाले पांच खास त्‍योहारों के बारे में बताने जा रहे हैं।

होली

होली

भारत के कई हिस्‍सों में होली का त्‍योहार मनाया जाता है लेकिन उत्तर भारत में होली के त्‍योहार की धूम सबसे ज्‍यादा होती है। होली का त्‍योहार भाईचारे का प्रतीक है। इस त्‍योहार पर देशभर में लोग रंगों से खेलते हैं। होली रंगों का त्‍योहार है और रंगों के बिना ये त्‍योहार अधूरा माना जाता है।

उत्तर प्रदेश के छोटे से शहर बरसाना में लट्ट मार होली भी बहुत लोकप्रिय है। रंगों और पानी के इस त्‍योहार पर कई जगहों पर मिट्टी की हांडी में माखन भरकर उसे तोड़ने का रिवाज़ भी है। होली के अवसर पर कई तरह के आयोजन किए जाते हैं। हर साल मार्च के महीने में होली का त्‍योहार मनाया जाता है।PC:Herri Bizia

तीज

तीज

तीज एक मॉनसूनी त्यौहार है जिसे हरियाली तीज और श्रावण तीज के नाम से भी मनाया जाता है। मॉनसून के कारण फैली हरियाली के सत्‍कार के रूप में तीज का त्‍योहार मनाया जाता है। इस त्‍योहार को मुख्‍य रूप से पंजाब, हरियाणा, राजस्‍थान और चंडीगढ़ में मनाया जाता है।

ये त्‍योहार अमूमन हर साल मॉनसून के महीने जुलाई में ही मनाया जाता है। साथ ही इस इन दिन भगवान शिव ने मां पार्वती को अपनी अर्धांगिनी बनाना स्‍वीकार किया था। इस उपलक्ष्‍य में भी तीज का त्‍योहार मनाया जाता है। तीज के अवसर पर सुहागिन स्त्रियां अपने पति की लंबी आयु के लिए व्रत रखती हैं।PC:University of the Fraser Valley

कुंभ मेला

कुंभ मेला

हिंदू धर्म के प्रमुख तीर्थस्‍थलों पर हर 12 साल में कुंभ मेले का आयोजन किया जाता है। कुंभ मेला उज्‍जैन, इलाहाबाद, नासिक और हरिद्वार में लगता है। 3 सालों के अंतराल में ये मेला 4 जगहों पर लगता है एवं इस मेले के दौरान हिंदू श्रद्धालु पवित्र नदियों में स्‍नान करते हैं।

पवित्र नदियों में स्‍नान के अलावा कुंभ मेले के भव्‍य आयोजन में धार्मिक गीत, श्रद्धालुओं के भोज आदि का आयोजन भी किया जाता है। यह मेला अमूमन अप्रैल के महीने में पूरे माह के लिए आयोजित किया जाता है।

Pc:Roshan Travel Photography

बैसाखी

बैसाखी

सिख धर्म का त्यौहार है बैशाखी और बैशाखी जोकि हर साल अप्रैल के महीने में मनाया जाता है। हर साल सिख धर्म के लोग इस त्‍योहार को मनाते हैं एवं यह फसल की पैदावार का समय भी होता है। इस पर्व को खालसा के गठन की स्‍मृति के रूप में मनाया जाता है।

बैसाखी के मौके पर पंजाबी के मशहूर लोक नृत्‍य भांगड़ा भी किया जाता है। कृषि त्‍योहार की शुरुआत में नृत्‍य की इस शैली को किया जाता है। इसलिए बैसाखी के मौके पर भांगड़ा करना ही पड़ता है।

PC:Vaisakhi 2013

लोहड़ी

लोहड़ी

हिंदू और सिख दोनों धर्मों के लोगों द्वारा सदी के मौसम में लोहड़ी का त्‍योहार मनाया जाता है। ये पंजाब का मुख्‍य त्‍योहार है। हर साल 14 जनवरी को लोहड़ी का त्‍योहार मनाया जाता है एवं यह सर्दी के मौसम के समापन का सूचक भी है।

इस त्‍योहार पर आग जलाकर लोग पंजाब के पारंपरिक भोजन, जैसे सरसों का साग, मक्के दी रोटी और गुड़ से बने भोजन, मूंगफली आदि का मज़ा लेते हैं। इस त्‍योहार पर भांगड़ा और लोक गीत भी गाए जाते हैं।

PC:Satish Krishnamurthy

Please Wait while comments are loading...