• Follow NativePlanet
Share
» »अकबर का चर्च, मुग़ल स्थापत्य कला का अद्भुत नमूना

अकबर का चर्च, मुग़ल स्थापत्य कला का अद्भुत नमूना

Written By:

अक्सर जब हम घूमने निकलते हैं, तो कई अनजान जगहों से वाकिफ होते हैं, जो अपनी खूबसूरती और भव्यता से हर किसी का मन जीत लेते हैं। कोई भी यात्री या पर्यटक बीच रास्ते में पड़ने वाली खूबसूरत जगहों को इग्नोर नहीं कर सकता है। दुनिया के सबसे खूबसूरत और सबसे पुराने स्थानों में से एक होने के नाते, भारत , में कई खूबसूरत जगह प्राचीन और ऐतिहासिक स्थल मौजूद हैं, जो आज भी लोग की नजरों से परे हैं।

इन्ही में से एक ताज शहर में स्थित अकबर चर्च, इन अद्भुत उदाहरणों में से एक है जो देश के सुंदर और गौरवशाली अतीत को प्रदर्शित करता है। तो आइये विस्तार से जानते हैं कि, इस खास चर्च के बारे में

आगरा के कहां है अकबर का चर्च?

आगरा के कहां है अकबर का चर्च?

Pc: Peter Potrowl

अकबर चर्च उत्तर प्रदेश राज्य के सबसे पुराने चर्चों में से एक है और इसलिए, यह देश का एक महत्वपूर्ण और बहुमूल्य स्थलों में से एक है। इसकी स्थापना 1600 में सोसाइटी ऑफ जीसस ने की थी और तब से, यह क्षेत्र के ईसाइयों के लिए एक प्रमुख धार्मिक स्थान रहा है।

बीते वक्त के साथ यह आगरा के प्रसिद्ध पर्यटन स्थलों में शुमार हो गया है, जहां पर्यटक इस खूबसूरत चर्च आंतरिक और बाहरी वास्तुकला को देखने आते हैं।

रोमन कैथोलिक चर्च होने के नाते, इसने 1848 तक आगरा के कैथेड्रल के रूप में भी कार्य किया है। इतिहास के पन्नों में बताया गया है कि, इस चर्च का निर्माण मुगल बादशाह अकबर के कहने पर किया गया था, जोकि इस धर्म के बारे में जानने के इच्छुक थे। जिसके बाद उन्होंने गोवा के जेसुइट फादर को आमंत्रित किया और उन्हें ईसाई धर्म के बारे में सिखाने के लिए कहा। जिसके बाद उन्होंने चर्च बनवाने के लिए आगरा में आज्ञा प्रदान की।

क्यों है खास?

क्यों है खास?

Pc: Grentidez

क्या आपने कभी किसी ऐसेधार्मिक स्थल के बारे में सुना है, जो किसी ऐसे व्यक्ति के नाम पर हो, जो अन्य धर्म से संबंधित है? यदि नहीं, तो निश्चित रूप से अकबर चर्च आपके लिए एक अद्भुत जगह है। एक मुस्लिम शासक के बाद रोमन कैथोलिक चर्च का नामकरण निश्चित रूप से उन समय के दौरान प्रचलित धर्मनिरपेक्षता को दर्शाता है।

तो क्या आप आगरा के इस खूबसूरत जगह का दौरा नहीं करना चाहेंगे, इस असामान्य लेकिन रोचक चर्च ने अब तक कई उतार-चढ़ाव देखे हैं, जिसके परिणामस्वरूप इस चर्च का कई बार विध्वंस और पुनर्निर्माण हुआ है, हालांकि आज भी चर्च की प्राचीन सुंदरता बरकरार है। खूबसूरत बगीचों से परिपूर्ण बीच में खड़ा चर्च आँखों को भी शन्ति प्रदान करता है। बता दें, अकबरी चर्च 1851 तक आगरा का प्रमुख चर्च रहा है। प्रथम बार क्रिसमिस भी इसी चर्च में मनाया गया।

क्यों जायें अकबर चर्च

क्यों जायें अकबर चर्च

उत्तर प्रदेश में स्थित आगरा एक महत्वपूर्ण और प्रसिद्ध पर्यटन स्थल है, जो कई खूबसूरत ऐतिहासिक इमारतों और स्थलों से परिपूर्ण हैं। अकबर का चर्च घूमने का मुख्य कारण है,इस चर्च की वास्तुकला, इस चर्च की मध्य भाग की दीवार लाल पत्थरों की है, जिस पर नक्काशी की हुई है, यह मुगलकालीन स्थापत्य कला से मेल खाती है। वहीं चर्च का पूरा स्वरूप देखा जाए, तो यह मुगलिया कला से मेल खाता है।

अकबर चर्च घूमने का अच्छा समय

अकबर चर्च घूमने का अच्छा समय

उत्तर प्रदेश में स्थित आगरा गर्मियों में बेहद गर्म रहता है, इस जगह को घूमने का सबसे अच्छा मौसम सर्दियों का है, पर्यटक यहां अक्टूबर से लरक अप्रैल के बीच यात्रा कर सकते हैं। हालांकि, यह इतिहास प्रेमियों और उत्साही यात्रियों के लिए एक वर्षभर गंतव्य बना हुआ है।

सिर्फ ताजमहल ही नहीं ये खूबसूरत इमारतें भी है आगरा की शान

कैसे जायें आगरा

कैसे जायें आगरा

हवाई जहाज द्वारा: आगरा का अपना हवाई अड्डा है जो एयर इंडिया की उड़ानों से केवल दिल्ली से जुड़ा हुआ है। इसके अलावा आप दिल्ली से भी आगरा और अकबर चर्च तक पहुंच सकते हैं।

रेल द्वारा: आगरा रेल द्वारा देश के अन्य प्रमुख शहरों और कस्बों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। इसलिए, आप आगरा रेलवे स्टेशन पर सीधी ट्रेन पकड़ सकते हैं। एक बार जब आप स्टेशन पहुंचे, तो आप अकबर चर्च में एक टैक्सी किराए पर ले सकते हैं।

सड़क से: दिल्ली से लगभग 230 किमी की दूरी पर स्थित आगरा के पास सड़कों का अच्छा नेटवर्क है और इसलिए, सड़क से आसानी से पहुंचा जा सकता है।

उत्तर प्रदेश में यात्रा करने के लिए10 खूबसूरत स्थल

यात्रा पर पाएं भारी छूट, ट्रैवल स्टोरी के साथ तुरंत पाएं जरूरी टिप्स