• Follow NativePlanet
Share
» »जम्मू-कश्मीर की हसीन वादियों में छुपा हुआ नायाब पर्यटन स्थल

जम्मू-कश्मीर की हसीन वादियों में छुपा हुआ नायाब पर्यटन स्थल

Written By:

जम्मू से लगभग 88 किमी की दूरी पर स्थित कठुआ जम्मू के सबसे खूबसूरत जिलों में से एक माना जाता है और विभिन्न पर्यटक आकर्षण और धार्मिक केन्द्रों के लिए लोकप्रिय है। कठुआ' शब्द डोगरी भाषा के ठुआं' से व्युत्पन्न है, जिसका अर्थ 'बिच्छू' है। कुछ लोगों का मत है कि कठुआ शब्द 'कश्यप' ऋषि के नाम से उत्पन्न हुआ है। यह नगर जम्मू काश्मीर का 'प्रवेश द्वार' तथा औद्योगिक नगर भी है।

किंवदंती है कि 2000 साल पहले, अन्दोत्र राजवंश के जोध सिंह, जो एक लोकप्रिय राजपूत राजा थे, यहाँ अपने तीन बेटों के साथ बस गए। तीनों बेटों ने तीन छोटे शहरों की स्थापना की, अर्थात् तरफ मंजली, तरफ तज्वल और तरफ भज्वल। ये तीनो शहरे एक साथ स्थानीय लोगों द्वारा कथई नाम से जाने जाते थे और अंततः कथई कठुआ बन गया।

यह खूबसूरत सा जिला एक ओर मंदिरों, से परिपूर्ण है, तो दूसरी ओर बर्फ से ढ़के पर्वतों, प्राकृतिक सुंदरता और घाटियों के लिए भी प्रसिद्ध है। तो आइये इसी क्रम में जानते हैं कि, आप कठुया में क्या क्या घूम और देख सकते हैं-

धौला वाली माता

धौला वाली माता

धौला वाली माता समुद्र तल से 6000 फीट की ऊंचाई पर स्थित एक मंदिर है,जहां विशेषकर से नवरात्र के दौरान काफी संख्या में भक्तगण यहां पहुंचते हैं। किंवदंती है कि एक बार एक चरवाहा को माता का मधि धर आने का एक सपना आया था, जहां देवी उसके सामने एक छोटी लड़की के रूप में आई थी। तब से उसने नियमित रूप से मधि धर जाना शुरू कर दिया, लेकिन एक बार इतनी भारी बर्फ़बारी हुवी कि वह नहीं जा सका। तो देवी ने उस जगह जाने का फैसला किया जहां अब धौली वाली माता मंदिर स्थित है। चरवाहा ने इस जगह पर देवी को समर्पित एक मंदिर का निर्माण किया।

गुरुद्वारा सिंह सभा

गुरुद्वारा सिंह सभा

गुरुद्वारा चौक के नाम से लोकप्रिय गुरुद्वारा सिंह सभा कठुआ शहर के बीच में स्थित है। गुरुद्वारा के आसपास एक सिख मिशनरी कॉलेज भी है। लोकप्रिय सिख त्योहार गुरपूरब और प्रकाश उत्सव को बड़े जोश और उत्साह के साथ मनाया जाता है। नगर कीर्तन और कार त्योहार अन्य महत्वपूर्ण कार्यक्रम है जिन्हें इस जगह पर मनाया जाता है।

बानी

बानी

कठुआ जिले के प्रमुख आकर्षणों में से एक बानी,पर्यटकों के बीच मिनी कश्मीर के नाम से लोकप्रिय है। समुद्र तल से 4200 फीट की ऊंचाई पर स्थित बानी एक छोटी गैलेशियर घाटी है। घाटी पहुंचने पर यात्री कई झराने, घने जंगले, शोर मचाती धारायें और सुंदर घास के मैदानों को देख सकते हैं।

जन्नत की सैर करनी हो तो, जम्मू-कश्मीर कि यात्रा ज़रूर करें

चन्देल

चन्देल

अगर आपने अभी तक सेब या अखरोट के बगीचे नहीं देखें हैं, तो आपको एक बाद चन्देल की सैर अवश्य करनी चाहिए, जोकि बानी से करीबन 10 किमी की दूरी पर स्थित है। सेब-अखरोट के बगीचे के अलावा पर्यटक यहां एक कलकल करता झरना भी देख सकते हैं, जिसे चन्देली नाम से जाना जाता है।

धार महानपुर

धार महानपुर

हिमालय के केंद्र में स्थित, एक लोकप्रिय पर्यटन स्थल है। यह स्थान, झाडी, चीड़ और देवदार के पेड़ों से भरा है। इस प्रांत को पर्यटकों में लोकप्रिय करने के लिए जम्मू और कश्मीर सरकार का पर्यटन विभाग, कई पर्यटन मेलों या मेलों का आयोजन करता है।

बसोहली

बसोहली

रावी नदी के तट पर स्थित बसोहली कठुआ जिले का छोटा सा शहर है। ह शहर 1635 में राजा या राजा भोपत पाल द्वारा स्थापित किया गया था। देश भर से पर्यटक इस शहर के अद्भुत पुराने पत्थर की नक्काशीदार मूर्तियों और छोटे चित्रों को देखने के लिए यात्रा करते हैं, जो बसोहली चित्रों के नाम से भी जाने जाते हैं।

दुग्गन

दुग्गन

समुद्री स्तर से करीबन 7 हजार की ऊंचाई पर स्थित दुग्गन एक बेहद ही खूबसूरत घाटी है, जिसकी चौड़ाई एक किलोमीटर और लंबाई पांच किलोमीटर है। चीड़, देवदार के पेड़ से घिरे इस घाटी के दोनों तरफ से नदियां प्रवाहित होती है। सर्दी हो या गर्मी दोनों ही मौसम में यहां का खुशनुमा मौसम पर्यटकों को अपनी ओर खींचता है।

सारथल

सारथल

बानी से करीबन 20 किमी की दूरी पर स्थित सार्थल एक खूबसूरत घास का मैदान है, जहां छ महीने तक बर्फ जमी रहती है। बर्फ से लदी घाटियां और पहाड़ की खूबसूरती एकाएक पर्यटकों का ध्यान अपनी ओर खींचती है। देश के विभिन्न भागों से पर्यटक इस जगह की सैर पर जाते हैं क्योंकि इस क्षेत्र को जम्मू और कश्मीर के पूरे राज्य में सबसे सुंदर स्थलों में से एक माना जाता है।

कैसे जायें कठुया

कैसे जायें कठुया

हवाईजहाज द्वारा
कठुया का निकतम हवाई अड्डा श्रीनगर है, जोकि देश के सभी मुख्य शहरों से जुड़ा हुआ है। पर्यटक श्रीनगर पहुँचने के बाद यहां से आसानी से टैक्सी या बस के जरिये कठुया पहुंच सकते हैं।

ट्रेन द्वारा
कठुआ रेलवे स्टेशन कानपुर, जालंधर, दिल्ली, जम्मू, और करनाल जैसे शहरों के साथ अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। स्टेशन शहर के केंद्र से 7 किमी की दूरी के आसपास स्थित है और यात्री यहाँ से गंतव्य तक पहुंचने के लिए टैक्सियों को ले सकते हैं।

सड़क द्वारा
कठुआ के लिए नियमित बसें नई दिल्ली, जम्मू, शिमला, श्रीनगर, कटरा, उधमपुर, चंडीगढ़ और पठानकोट से उपलब्ध हैं।

इन गर्मियों उठाएं दक्षिण भारत की कुदरती खूबसूरती का आनंद

यात्रा पर पाएं भारी छूट, ट्रैवल स्टोरी के साथ तुरंत पाएं जरूरी टिप्स