• Follow NativePlanet
Share
» »हिमाचल का अनमोल खजाना-भागसूनाग

हिमाचल का अनमोल खजाना-भागसूनाग

Written By:

अपने शांत परिवेश,उंचे उंचे बर्फ से ढके पहाड़, मखमली हरियाली के लिए लोकप्रिय हिमाचल प्रदेश हर वर्ग को अपनी और आकर्षित करता है। एक परफेक्ट हनीमून डेस्टिनेशन से लेकर प्राचीन मन्दिरों का खजाना और एडवेंचर लवर्स के लिए परफेक्ट साहसिक डेस्टिनेशन, साथ ही प्रकृति से प्यार करने वालों के लिए हिमाचल अपनी गोद में ढेरों जगहें समेटे हुए है।

उत्तर भारत गर्मी शुरू होती नहीं कि, लोगो की घूमने की प्लानिंग पहले शुरू हो जाती है, अमूमन लोग हिमाचल की वादियों की ओर रुख करना पसंद करते हैं। ये खूबसूरत राज्य हर दो कदम पर पर्यटकों के लिए खजाने छिपाए हुए बैठा है, जो पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करते हैं।

अब वो जमाने लद गये जब लोग सिर्फ मनाली, शिमला घूमकर वापस आ जाते थे, अब लोग हिमाचल प्रदेश की नई नई जगहों को घूमना पसंद करते हैं। इसी क्रम में आज हम आपको रूबरू कराने जा रहे हैं, हिमाचल प्रदेश की बेहद खूबसूरत डेस्टिनेशन भाग्सू से, जोकि भाग्सूनाग के नाम से विख्यात है।

कैसे आयें भाग्सू ?

कैसे आयें भाग्सू ?

फ्लाइट द्वारा - भागसू का नजदीकी हवाई अड्डा गग्ल हवाई अड्डा है, जोकि भाग्सुस इ 17 किमी की दूरी पर स्थित है। यह हवाई अड्डा भारत के नई दिल्ली और कुल्लू जैसे महत्वपूर्ण शहरों के साथ अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। हवाई अड्डे से शहर के केंद्र तक पहुँचने के लिए यात्री टैक्सियाँ या कैब ले सकते हैं।

रेल द्वारा - भागसुनाग के लिए पठानकोट रेलवे स्टेशन निकटतम रेलवे कड़ी है। पठानकोट के लिए भारतीय राजधानी नई दिल्ली से अक्सर गाड़ियाँ उपलब्ध हैं। रेलवे स्टेशन के बाहर से यात्री गंतव्य तक पहुंचने के लिए बसें, टैक्सियाँ, या कैब ले सकते हैं।

सड़क मार्ग द्वारा - पास के शहरों से कई सरकारी और निजी बसें भागसू के लिए उपलब्ध हैं। पर्यटक मैकलॉडगंज तक बसों का लाभ ले सकते हैं जहां से भागसू आसानी से सुलभ है।Pc:Satdeep Gill

भारत में मानव दिमाग की अद्भुत उपज हैं ये 4 अनोखे हवाई अड्डे!

कब आये भाग्सू

कब आये भाग्सू

पर्यटक भाग्सू पूरे साल में कभी भी आ सकते हैं, सर्दियों के दौरान यहां बर्फ से ढके पहाड़ों को देखा जा सकता है, तो गर्मियों में यहां झरने के बीच स्नान कर सकते हैं, साथ ही ट्रेकिंग आदि भी की जा सकती है।Pc: flicker

कहां है भाग्सू?

कहां है भाग्सू?

हिमाचल प्रदेश के मैकलॉडगंज के करीब स्थित भागसू एक सुंदर पर्यटन स्‍थान है,जोकि अपने प्राचीन मंदिर और सुरम्य झरने के लिए जाना जाता है।Pc: flicker

 भाग्सू झरना

भाग्सू झरना

भागसू फॉल्स मैकलॉडगंज से 2 किलोमीटर की दूरी पर स्थित एक लोकप्रिय पर्यटक गंतव्य है। यहाँ आने वाले पर्यटक यहाँ टैक्सियों और ऑटो रिक्शा द्वारा पहुँच सकते हैं, इस जगह तक आने के लिए एक वैकल्पिक ट्रैकिंग रास्ता भी उपलब्ध है। मानसून के आगमन के साथ, झरना एक 30 फीट पानी की मूसलधार दीवार में बदल जाता है। यहाँ आने वाले पर्यटक आमतौर पर ठन्डे पानी में तैराकी करने से बिलकुल भी नहीं चूकते। पर्यटक इस झरने की शीतलता और निर्मलता का मजा पास ही स्थित रेस्तरां में चाय की चुस्की और साथ ले सकते हैं।Pc: flicker

भागसुनाग मंदिर

भागसुनाग मंदिर

भागसुनाग मंदिर, भगवान शिव को समर्पित, मंदिर है, जोकि मध्ययुगीन काल की कला और संस्कृति को दर्शाता है। यह प्राचीन मंदिर हिंदू और गोरखा समुदायों द्वारा पवित्र माना जाता है। मंदिर के परिसर के भीतर सुंदर तालाब हैं। यात्री तालाब में कई बाघ के सिर से पानी के झरने देख सकते हैं। स्थानीय लोगों का मानना है कि इन तालाबों का पानी उपचार की क्षमता रखता है। इसके अलावा, मंदिर में प्रतिष्ठापित मूर्तियों को अविश्वसनीय शक्तियों का अधिकारी माना जाता है।
Pc: Kiran Jonnalagadda

इंद्रहार (इंदहार) दर्रा

इंद्रहार (इंदहार) दर्रा

इंद्रहार (इंदहार) दर्रा हिमालय के धौलाधर रेंज में एक पर्वत पास है। यह धर्मशाला से एक बहुत ही लोकप्रिय ट्रेकिंग मार्ग का हिस्सा है। इस क्षेत्र में ट्रेकिंग का आनंद का सबसे अच्छा समय अप्रैल और अक्टूबर के महीने के बीच है।Pc: flicker

मिनकैनी पास

मिनकैनी पास

मिनकैनी पास पहुँचने के लिए पर्यटक धर्मशाला से चंबा के लिए ट्रैकिंग कर सकते है। साथ ही यह पास इस क्षेत्र की सबसे लोकप्रिय ट्रैकिंग मार्ग है। मिनकैनी पास से यात्री उत्तरी क्षेत्र की चोटियों के शानदार दृश्यों का आनंद ले सकते हैं। यह पास करेरी झील से ट्रैकिंग के माध्यम से भी सुलभ है और यहाँ तक पहुँचने में दो दिन लगते हैं।

गर्मियों में भी बर्फबारी का मजा देता है, हिमाचल का खूबसूरत गांव सराहन

यात्रा पर पाएं भारी छूट, ट्रैवल स्टोरी के साथ तुरंत पाएं जरूरी टिप्स