» »एक ताजमहल ने बदल दी-मध्यप्रदेश और उत्तर प्रदेश की किस्मत!

एक ताजमहल ने बदल दी-मध्यप्रदेश और उत्तर प्रदेश की किस्मत!

Written By: Goldi

बुरहानपुर मध्य भारत के दक्षिण-पश्चिम राज्य में मध्यप्रदेश में स्थित है। यह महाराष्ट्र की सीमा से मात्र 20 किमी दूर ताप्ती नदी के उत्तर तट पर एक ऐतिहासिक शहर है।

पर्यटन के मामले यह शहर ज्यादा लोकप्रिय नहीं है, इस शहर की यात्रा उन पर्यटकों द्वारा ज्यादा होती जोकि अजंता-एलोरा से इंदौर / मंडू / महेश्वर आदि घूमने आते हैं।

भारत की पहली फ्रेंच कॉलोनी...छुट्टियों में लगायें फ्रेंच तड़का

मुगलकाल के दौरान ऐतिहासिक शहर बुरहानपुर बादशाह शाहजहां की मुगल साम्राज्य की राजधानी थी, शाहजहां ने इस जगह लम्बे अरसे तक शासन किया था। यह जगह मुगल वास्तुकला और मुग़ल भव्यता के सबसे खूबसूरत प्रतीकों में से एक है।

ताज के ये 52 फ्रेम देखकर खुद-ब-खुद मुहं से निकल पड़ता है "वाह ताज"

शानदार मस्जिदों, कब्रों और महलों से आपको यह पता चलता है कि, मुगल जीवन किस तरह का रहा होगा। बुरहानपुर अभी भी महान वास्तुशिल्प महत्व का एक शहर है, लेकिन इसकी प्रसिद्धि बोहरा मुस्लिम और सिखों के तीर्थस्थल के रूप में ज्यादा है।

बुरहानपुर

बुरहानपुर

बुरहानपुर की सबसे दिलचस्प बात यह है कि, ताजमहल आगरा में नहीं यहां होना चाहिए था, क्योंकिजिनकी स्मृति में ताजमहल का निर्माण हुआ था, उन्होंने अपने चौदहवें बच्चे को जन्म बुरहानपुर में ही दिया था , और यहीं उनकी मृत्यु हुई थी। काफी दिनों तक मुमताज का शरीर इसी शहर में रहा, जब तक की मुगल अदालत को आगरा स्थानांतरित नहीं किया गया ।PC: Yashasvi nagda

बुरहानपुर

बुरहानपुर

दरअसल पहले ताजमहल ताप्ती नदी के किनारे बनाने का निश्चय हुआ था, उस जगह को आज भी खाली देखा जा सकता है, और यह जगह बुरहानपुर के इतिहास को भी दर्शाती है।PC: Md iet

पर्यटकों के आकर्षण

पर्यटकों के आकर्षण

पर्यटकों के लिए बुरहानपुर में घूमने के लिए कई सारी जगह है..जिनमे से ज्यादातर ऐतिहासिक स्मारक, समाधि और फरुकी राजवंश और मुगल वंश के दौरान बनाए गए भवन हैं। इन भवनों के डिजाइन और पैटर्न में आज भी मुस्लिम वास्तुकला को देखा जा सकता है।PC: Yashasvi nagda

गुरुद्वारा बरी संगत साहेब

गुरुद्वारा बरी संगत साहेब

16 वीं शताब्दी के शुरुआती दिनों में बुरहानपुर में सिखों के धर्मगुरु गुरु नानक जी ने इस शहर का दौरा किया था। उनकी यात्रा गुरुद्वारा संगठ राजघाट पाषाली पहीली द्वारा मनाई गई है। दसवीं गुरु, गुरु गोबिंद सिंह, मुगल सम्राट, बहादुर शाह I के साथ 1708 में दक्कन के साथ बुरहानपुर में रुके थे। ऐसा कहा जाता है कि गुरु ने 20 दिनों में संगति को उपदेश दिया था। गुरुद्वारा बारि संगत साइट पर बना है, और गुरु ग्रन्थ साहिब की हाथ-लिखित प्रतिरूपित को दिखाता है,वहीं एक शिलालेख भी है,जिसे गुरु गोबिंद ने खुद लिखा है।

दरगाह-ए-हकीमी

दरगाह-ए-हकीमी

सैयदी अब्दुल कादिर हाकिमुद्दीन पवित्र दाऊदी बोहरा संत हैं, जिन्हें बुरहानपुर, भारत में दफन किया गया है। उनकी कब्र को देखने दुनिया भर से लोग यहां आते हैं...कब्र परिसर 'दर्गाह-ए-हकीमी' में आगंतुकों के लिए मस्जिदों, उद्यानों और अंतरराष्ट्रीय स्तर की आवास सुविधाएं शामिल हैं। दरगाह-ए-हाकी, मध्य प्रदेश राज्य में दाऊदी बोहरा मुस्लिमों के लिए सबसे पवित्र स्थान है। यह बुरहानपुर के गांधी चौक से लगभग 3 किमी दूर स्थित है। इसे शुद्ध सफेद संगमरमर में बनाया गया है,जिससे यह मुगल वास्तुकला का उत्कृष्ट उदाहरण बना। साथ ही इसका रखरखाव भी काफी बेहतरीन ढंग से किया गया है। पूरे इलाके इतनी अच्छी तरह से बनाए रखा जाता है कि स्थानीय लोग इसे 'छोटा अमरीका (अमेरिका)' कहते हैं।PC: Jean-Pierre Dalbéra

जामा मस्जिद बुरहानपुर

जामा मस्जिद बुरहानपुर

बुरहानपुर में जामा मस्जिद फोरक्वी शासन के दौरान क्षेत्र में निर्मित प्रमुख मस्जिदों में से एक है। प्रारंभिक जामा मस्जिद शहर के उत्तर में बनाया गया था। लेकिन बाद में 1950 के दौरान इस मस्जिद का निर्माण बुरहानपुर के दिल में कराया गया।1421 के दौरान, जब बुरहानपुर की अधिकांश आबादी उत्तर में रहती थी, तब आज़म हुमायूं ने इटवाड़ा में जामा मस्जिद का निर्माण किया जिसे बीबी की मस्जिद कहा जाता है। लेकिन जल्द ही शहर के विकास के साथ शासक आदिल शाह ने शहर के केंद्र में वर्तमान जामा मस्जिद का निर्माण किया, जो बुरहानपुर में रहने वाले सभी लोगों के लिए आसानी से सुलभ हो। जामा मस्जिद का निर्माण 1590 में शुरू हुआ और 5 साल बाद पूरा हुआ।
PC: Abdoali ezzy

शाही किला, बुरहानपुर

शाही किला, बुरहानपुर

शाही किला बुरहानपुर में एक राजसी महल है, जो ताप्ति नदी के पूर्व में स्थित है, भले ही शाही किला खंडहर हो गया हो, लेकिन आज भी इस किले के कुछ हिस्सों में मूर्तिकला और अति सुंदर नक्काशी का अद्भुत काम देखा जा सकता है।

शाही किला का इतिहास कहता है कि यह मूल रूप से फारूकी शासकों द्वारा बनाया गया था और शाहजहां के निवास में था, जब वह बुरहानपुर के गवर्नर थे

 शाही किला, बुरहानपुर

शाही किला, बुरहानपुर

महल में मुख्य आकर्षण हमाम या शाही स्नान है। यह विशेष रूप से शाहजहां की पत्नी बेगम मुमताज के लिए बनाया गया था, ताकि वह खुस, भगवा और गुलाब की पंखुड़ियों के साथ सुगंधित पानी में शानदार स्नान का आनंद ले सकें। मुगल काल के दौरान हम्माम खाना का निर्माण किया गया था..लेकिन स्नान खान खान मिर्जा अब्दुल रहीम खाना, अकबर और जहांगीर के प्रसिद्ध मंत्री का नाम शिलालेख पर अंकित हैं। आश्चर्यजनक तथ्य यह है कि ताजमहल मूलतः बुरहानपुर में बनने वाला था। इसके लिए चुना गया स्थल अभी भी ताप्ति नदी के पास खाली है।

PC: Jean-Pierre Dalbéra

बुरहानपुर कैसे पहुंचे

बुरहानपुर कैसे पहुंचे

हवाईजहाज द्वारा: बुरहानपुर का नजदीकी हवाईअड्डा इंदौर हवाईअड्डा है जोकि , लगभग 163 किमी दूरी पर स्थित है, यह एयरपोर्ट अच्छी तरह से दिल्ली, मुंबई, हैदराबाद, चेन्नई, अहमदाबाद, कोलकाता, पुणे और जबलपुर जैसे शहरों से जुड़ा हुआ है।

ट्रेन से: बुरहानपुर रेलवे स्टेशन विभिन्न मार्गों के जरिए मुम्बई, पुणे और वाराणसी जैसे प्रमुख शहरों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है।

सड़क मार्ग से: महाराष्ट्र राज्य सीमा के करीब होने के नाते बुरहानपुर, इंदौर, जलगांव, खंडवा, ओमकेरेश्वर, महेश्वर, उज्जैन और भोपाल जैसे शहरों में नियमित बस सेवा से जुड़ा हुआ है।

Please Wait while comments are loading...