» »जंगल सफारी हुई पुरानी..अगर जिगरा है तो इस सफारी को करें ट्राई, कमजोर दिल वाले दूर रहें

जंगल सफारी हुई पुरानी..अगर जिगरा है तो इस सफारी को करें ट्राई, कमजोर दिल वाले दूर रहें

Written By: Goldi

आज तक हमने अपने अर्टिक्लस के जरिये आपको जंगल सफारी के बारे में बताया है, लेकिन आज हम आपको एक ऐसी सफारी के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसे करने के लिए बहुत हिम्मत की जरूरत होती है। अप सोच रहे होंगे ऐसी किस सफारी की, बात हो रही है, तो बता दें, मै बात कर रहीं हूं, मगरमच्छ सफारी की।

इतना पढ़ने के बाद आपने मुझे पागल करार दे दिया होगा, या फिर सोच रहे होंगे की ,मौत के मुंह में जाने की भी कोई सफारी होती है क्या, भला कौन मगरमच्छ को एकदम सामने या फिर बगल से देखना चाहेगा।

लेकिन जनाब! कुछ ऐसे लोग है, जो इस सफारी को करना पसंद करते हैं। ज्यादा बात ना करते हुए आपको बताते हैं, कि इस सफारी का मजा कहां लिया जा सकता है। इस सफारी का मजा आप मह्राराष्ट्र स्थित मल्डोली गांव में ले सकते हैं।

मल्डोली गांव शहर के शोर-शराबे से दूर मुंबई और पुणे से करीबन 250 किमी की दूरी पर स्थित है। यहां आने पर आपको एकदम केरल की भांति खूबसूरती का नजारा देखने को मिलेगा। अगर आप वाकई केरल के बैकवाटर का मजा लेना चाहते हैं, तो केरल की बजाए एकबार मल्डोली की ओर रुख अवश्य करें।

महाराष्ट्र के 11 सबसे खूबसूरत बीच!

यहां की शांत लहरे, नारियल के पेड़ आप मन मोह लेंगे। और सबसे खास यहां की मगरमच्छ की सफारी। आइये स्लाइड्स में आगे और जानते हैं-

कहां स्थित है?

कहां स्थित है?

मल्डोली गांव चिप्लुन के पास वशिष्ठ नदी के किनारे स्थित है। महाराष्ट्र का यह खास गांव सिर्फ मगरमच्छ की सफारी के लिए जाना जाता है।

हो रहा है लोकप्रिय

हो रहा है लोकप्रिय

यकीन मानिये यह जगह, महाराष्ट्र के लोगो के बीच भी खासा लोकप्रिय नहीं थी, लेकिन मगर मच्छ की सफारी के चलते एडवेंचर लवर इस जगह की ओर रुख करने लगे हैं। हालांकि यहां आज भी अन्य जगहों की मुकाबले पर्यटकों की भीड़ काफी कम है,क्यों की मगरमच्छ सफारी को देखने के लिए हिम्मत ही नहीं बल्कि जिगर की भी जरूरत होती है बॉस, क्या समझे।

कैसे होती है मगरमच्छ की सफारी?

कैसे होती है मगरमच्छ की सफारी?

यकीनन आप भी यही सोच रहे होंगे की ,आखिर कैसे होती होगी मगरमछ की सफारी? तो जनाब यह सफरी स्पीड बोट्स के जरिये की जाती है, इसमें एक बार में 15 व्यक्ति एक बार सवार होकर आइलैंड का चक्कर लगाते हैं,इस सफारी में कम से कम आप 15 से 25 मगरमच्छ को देख सकते हैं।

कर सकते हैं फोटोग्राफी लेकिन,

कर सकते हैं फोटोग्राफी लेकिन,

फोटोग्राफी के शौक़ीन साफ़ पानी में होने वाली इस सफारी के अंतर्गत अपने फोटोग्राफी के शौक को भी पूरा कर सकते हैं, लेकिन इसके लिए आपको काफी सतर्क रहने की जरूरत होगी।

सफारी करते समय रहे सावधान

सफारी करते समय रहे सावधान

जब आप स्पीड बोट के जरिये सफारी पर निकलते हैं, तो आप कई मगरमच्छ को देख सकते हैं,जिनमे कुछ तो पानी के अंदर ही मुंह करे रहते हैं, तो वहीं कुछ खतरनाक होते हैं, जो आपको अपने भोजन के रूप में देखकर आप पर हमला नही कर सकते हैं।

कितनी होती है लम्बाई?

कितनी होती है लम्बाई?

मल्डोली में नर मगरमच्छ की लम्बाई करीबन 12 से 15 फुट होती है, तो वहीं मादा मगरमच्छ की लम्बाई 8 से 10 फुट की होती है।

निहार सकत हैं कई पक्षी

निहार सकत हैं कई पक्षी

कोयना और वशिष्ठ नदी के होने के कारण यहां कई पक्षियों की विभिन्न प्रजातियां भी देखने को मिलती हैं, साथ ही आप यहां आपने फोटोग्राफी के शौक को भी भलीभांति पूरा सकते हैं।Pc: Prasadgooner

कहां रुके

कहां रुके

यहां रुकने के कुछ लॉज हैं, जहां आप ठहरकर शाम का वक्त शिष्ठ नदी के किनारे बिता सकते हैं, यहां आप खुद के साथ कुछ समय बिताने के साथ साथ ढलते हुए सूरज को भी देख सकते हैं।Pc:Kmanoj