» » "दाल-रोटी घर दी और दिवाली अमृतसर दी" का कोई तोड़ ना है जी!

"दाल-रोटी घर दी और दिवाली अमृतसर दी" का कोई तोड़ ना है जी!

Written By: Goldi

दिवाली का त्यौहार पूरे भारत में बेहद ही हर्षौल्लास के साथ मनाया जाता है, खासकर उत्तर भारत में।दिल्ली, जयपुर, हरियाणा, उत्तर प्रदेश पंजाब आदि सभी जगह दिवाली की रौनक बस देखते ही बनती है। यूं तो मैं यूपी की और दिल्ली में भी रही हूं तो मैंने दिल्ली यूपी दोनों ही जगह की दिवाली देखी है..लेकिन जो बात अमृतसर की दिवाली में है वो कहीं भी नहीं है।

दिवाली उत्सव: दिल्ली में दिवाली मेलों की धूम!

कहा भी तो गया है, "दाल-रोटी घर दी और दिवाली अमृतसर दी" का कोई तोड़ नहीं है। दिवाली के दिन पूरा अमृतसर दुधिया रोशनी में जगमगाता है..और स्वर्ण मंदिर की छटा तो बस देखते ही बनती है। अमृतसर में इस प्रकाशोत्सव में करीब दस हजार सिख समुदाय के लोग इसका हिस्सा बनने पहुंचे थे। इस दिन स्वर्ण मंदिर और पूरा परिसर रोशनी से नहाया होता है, जिसे जो कोई देखता है तो बस देखता रह जाता है।

दिवाली उत्सव: इस दिवाली दिल्ली के इन बाज़ारों में शॉपिंग कर बनाइये अपनी दिवाली को और चमकदार!

सिख गुरुओं ने त्योहारों और विशेष दिवसों को अपने अनुयायियों के शिक्षण के अवसरों के रूप में अपने अनुयायियों को एक प्रजापति पर विश्वास के आधार पर धार्मिकता और अज्ञानता के अंधेरे से जीवित रहने के रास्ते में बदलने के लिए इस्तेमाल किया। सिख गुरुओं की इस विचारधारा ने दीवाली और वैसाखी जैसे प्राचीन त्योहारों को नया महत्व दिया है।

दिवाली रोशनी और सजावट का त्योहार

इतना ही नहीं ऐतिहासिक रूप से, पंजाब में दीवाली का उत्सव स्वतंत्रता और मुक्ति के लिए सिख संघर्ष से जुड़ा हुआ है।इस प्रकार, सिख दिवाली मूल रूप से एक प्रजापति - एक ओमकार में होने से प्रबुद्धता और स्वतंत्रता का अग्रदूत है। श्री ग्रन्थ साहिब जी के अनुसार, जब दीपक जलाया जाता है, अंधकार दूर हो जाता है। और, जहां ज्ञान का प्रकाश है, वहां कोसो तक अज्ञान नहीं है। "

ग्वालियर किला

ग्वालियर किला

सिख समुदाय दिवाली के उत्सव को इसलिए मनाते हैं क्योंकि इसी दिन 161 9 में छठे गुरु, गुरु हरगोबिन्द साहिब को ग्वालियर जेल से 52 राजकुमारों के साथ रिहा किया गया था। गुरु साहब के लिए, अन्य राजकुमारों के आजादी के अधिकार उनके समान ही महत्वपूर्ण थे, इसलिए उन्होंने जोर देकर कहा कि उन्हें एक साथ मुक्त किया जाये। गुरु हरगोबिन्द साहिब हमेशा से ही अपने से पहले दूसरो के बारे में सोचते थे।इस दिन गुरु की रिहाई हुई थी, जिस कारण सिख समुदाय इस दिन को बांदी दिवस के रूप में मनाते हैं और मिट्टी के तेल के दीपक, मोमबत्तियों और आतिशबाजी करते हैं।

भाई मणि सिंह जी की शहीद

भाई मणि सिंह जी की शहीद

दिवाली से जुड़ी एक महत्वपूर्ण घटना बुजुर्ग सिख विद्वान और रणनीतिकार भाई मणि सिंह की शहीदी भी है। भाई मणि सिंह हरमंदिर साहिब की ग्रंथि । 1733 में जब रणनीतिकार भाई मणि सिंह ने सिखों को बेसाखी के उत्सव के लिए सिखों को आमंत्रित करने का साहस और जश्न मनाने के लिए खालसा की स्थापना की, लेकिन मुगलों ने उन्हें ऐसा करने से रोकने का प्रयास किया साथ ही भाई मणि सिंह को इस्लाम में बदलने का आदेश दिया गया अपनी मर्जी को छोड़ने से इंकार करते हुए, भाई मणि सिंह को संयुक्त द्वारा संयुक्त रूप से अलग किया गया।

मुगल साम्राज्य के खिलाफ विद्रोह

मुगल साम्राज्य के खिलाफ विद्रोह

पंजाब में सिख समुदाय के बीच दिवाली बैसाखी के बाद दूसरा सबसे बड़ा पर्व है...वर्ष 1699 में दसवें गुरु गुरु गोबिंद सिंह ने औपचारिक रूप से स्थापित किया था। मुस्लिम साम्राज्य के गैर-मुसलमानों पर विशेष रूप से सिखों पर अत्याचार के खिलाफ सिख संघर्ष, जो 18 वीं शताब्दी में गहन हुआ। 1716 में बांदा बहादुर के निष्पादन के बाद, सिखों ने पहली बार वैशाखी और दिवाली में हुई द्विवार्षिक बैठकों में समुदाय से संबंधित मामलों को तय करने की परंपरा शुरू की। इन विधानसभाओं को सरबत खालसा के नाम से जाना जाता है ।

अमृतसर की दिवाली दिवाली

अमृतसर की दिवाली दिवाली

रोशनी में नहाया हुआ स्वर्ण मंदिर

श्रद्धालुयों का जमावड़ा

श्रद्धालुयों का जमावड़ा

स्वर्ण मंदिर में सिखों श्रद्धालुयों का जमावड़ा...

अमृतसर की दिवाली

अमृतसर की दिवाली

मंदिर में मोमबत्ती लगाते हुए श्रद्धालु

Please Wait while comments are loading...