» »दिल्ली को करीब से जानना है तो जरुर घूमे दिल्ली वाक फेस्टिवल

दिल्ली को करीब से जानना है तो जरुर घूमे दिल्ली वाक फेस्टिवल

Written By: Goldi

क्या आपको याद है कि, आपने कब पिछली बार टहलते हुए अपने आस-पास परिवेश की सुंदरता का आनंद लिया था? नहीं याद है ना? दिल्ली वाक फेस्टिवल का तीसरा संस्करण दिल्ली वासियों को दिल्ली घूमने का एक अच्छा मौका प्रदान कर रहा है।

दिल्ली वाक फेस्टिवल 2 नवंबर को शुरू हो चुका है, जोकि 12 नवंबर को खत्म होगा। यह फेस्टिवल दिल्ली में रहने वाले लोगो को दिल्ली को दुबारा और अच्छे ढंग से घूमने का अवसर दे रहा है। यह इवेंट दिल्ली वालों के लिए एक खुला निमत्रंण है, जिसके जरिये दिल्ली वासी अपने शहर की विरासत, संस्कृति को जान और समझ सकते हैं।

Delhi Walk Festival

आखिर किसका आईडिया है यह फेस्टिवल?
दिल्ली पर्यटन के अधिकारियों द्वारा समर्थित, दिल्ली वाक महोत्सव 2017 इतिहासकारों, मानवविज्ञानी, संगीतकार, पर्यावरणविदों, और कई उल्लेखनीय व्यक्तित्वों के मार्गदर्शन और विशेषज्ञता के तहत आयोजित किया जा रहा है।वाक फेस्टिवल करीबन 80 वाक को छ विभिन्न विभिन्न थीम में विभाजित किया गया है। यह थीम संस्कृति और विरासत, खाद्य, संगीत और कला, डिजाइन और फोटोग्राफी, प्रकृति और पारिस्थितिकी और वैकल्पिक और प्रायोगिक में विभाजित हैं। 

Delhi Walk Festival

इस फेस्टिवल के जरिये आप अपने शहर को, उसके कल्चर और इतिहास को अच्छे से जान और समझ सकते हैं।उदाहरण के लिए,दिल्ली में घूमना सबके लिए एक बेहद ही अच्छा अनुभव होता है..यहां मुगलों के जमाने की बनी इमारतों के बीच से घूमते हुए आधुनिक इमारतो को भी देखा जा सकता है।

Delhi Walk Festival

दिल्ली वाक फेस्टिवल मनाने का उद्देश्य है, अपने समृद्ध इतिहास, जटिल संस्कृतियों और विविध लेखों को व्यवस्थित करते हुए तेजी से विकसित, विकसित आधुनिक शहर की जीवंतता को बरकरार रखना।इस फेस्टिवल के जरिये आप आप कुछ प्रसिद्ध हस्तियों को भी जानते और समझते हैं, जैसे विलियम डेलरिम्पल, अशोक माथुर, सदिया देहलवी आदि जोकि इस वाक के कुछ एडिशन में आपके गाइड बनाकर आपको जानकारी उपलब्ध कराते हैं।

चाहे शोरूम या रोड साइड, शॉपिंग के शौकीनों का काशी और मक्का है दिलवालों की दिल्ली

यूं तो दिल्ली में पूरे साल ही कोई ना कोई फेस्टिवल आयोजित होता रहता है, जिनमे वाक फेस्टिवल बेहद प्रमुख है, जिसे आपको मिस नहीं करना चाहिए।

Delhi Walk Festival

इस फेस्टिवल की डायरेक्टर आस्था चौहान कहती हैं कि, "त्योहार चलने के बारे में स्पष्ट रूप से चलना है, खो जाना, सीखना, सीखना, अपने शहर को बेहतर जानना, परन्तु अधिकतर इन असंख्य फ्रेमवर्क शहरी अस्तित्व का।

अगर आप इस अनोखे फेस्टिवल का हिस्सा बनना चाहते हैं, तो खुद को इस फेस्टिवल की आधिकारिक साईट पर रजिस्टर करें, और अपने शहर यानी दिल वाली दिल्ली को करीब जाने ।

Please Wait while comments are loading...