• Follow NativePlanet
Share
» »25 मई से शुरू होगी हेमकुंट साहिब यात्रा !

25 मई से शुरू होगी हेमकुंट साहिब यात्रा !

Written By:

उत्तराखंड के चमोली जिले में स्थित हेमकुंट साहिब सिखों का एक धार्मिक स्थल है, जिसकी यात्रा जीवन में हर सिख श्रद्धालु करने की चाहत रखता है। सात पहाड़ियों से घिरा हुआ हेमकुंट साहिब का निर्माण वर्ष 1960 में शुरू किया गया था और मेजर जनरल हरकीरत सिंह ने इस कार्य को संभाला था। वह इंजीनियर-इन-चीफ थे, जिन्होंने वास्तुकार सैली को चयनित करके निर्माण की प्रक्रिया का प्रभारी बनाया था। यात्री गुरुद्वारा के निकट एक सुंदर झील भी देख सकते हैं। तीर्थस्थान के अंदर जाने से पहले, सिख, झील जो पास में स्थित है उसके पवित्र जल में डुबकी लगाते हैं। भक्तगण पास की दुकानों से छोटे स्मृति चिन्ह भी खरीद सकते हैं। गुरुद्वारा के अंदर, भक्तों चाय और खिचड़ी के साथ कराह प्रशाद दिया जाता है, जो चीनी, गेहूं के आटे और घी के बराबर भागों का उपयोग कर तैयार किया जाता है।

इस क्षेत्र में अक्टूबर और अप्रैल के महीने के बीच बर्फबरी के कारण बंद कर दिया जाता है। मई के महीने में, सिख 'कारसेवा' या काम करते हैं और क्षतिग्रस्त रास्ते की मरम्मत करने में मदद करते हैं।

कब खुलेंगे हेमकुंट साहिब के कपाट?

कब खुलेंगे हेमकुंट साहिब के कपाट?

Pc:Satbir 4

हेमकुंट साहिब के कपाट भारी बर्फबारी के कारण अक्टूबर और अप्रैल के महीने के बीच बर्फबरी के कारण बंद कर दिए जाते हैं। वर्ष 2018 में हेमकुंड साहिब की यात्रा 25 मई से शुरू होगी।

कैसे जायें हेमकुंट साहिब?

कैसे जायें हेमकुंट साहिब?

Pc:Guptaele

हवाईजहाज द्वारा-
हेमकुंट साहिब का नजदीकी हवाई अड्डा देहरादून स्थित जॉली ग्रांट हवाई अड्डा है, जोकि हेमकुंट साहिब से करीबन 268 किमी की दूरी पर स्थित है।

ट्रेन द्वारा
हेमकुंट साहिब का निकटतम हवाई अड्डा ऋषिकेश और गोविन्द्गाह्त है, ऋषिकेश से 18 9 किमी गोबिंदघाट से 170 किमी दूरी पर स्थित है। गोविंदघाट पहुंचने के बाद भी और 19 किमी पैदल चलना पड़ता है, जिसके बाद पवित्र हेमकुंट साहिब के दर्शन होते हैं। हेमकुंड साहिब के दर्शन के बाद तीर्थयात्री गोविंदघाट से 13 किमी दूर घांघरिया में रात्रि विश्राम करते हैं।

सड़क द्वारा
हेमकुंट पहुंचने के लिए, पहले पर्यटकों को गोविन्दघाट पहुंचना होगा,इसके बाद दो दिन की ट्रेकिंग करनी होती है।बद्रीनाथ के माध्यम से हेमकुंड दिल्ली से 514 किमी दूर है। दिल्ली परिवहन निगम और उत्तर प्रदेश रोडवेज बसें दिल्ली में इंटरस्टेट बस टर्मिनस से ऋषिकेश तक नियमित रूप से चलती हैं।

कहां है हेमकुंट साहिब?

कहां है हेमकुंट साहिब?

उत्तराखंड के चमोली जिले की हसीन वादियों में स्थित हेमकुंटसाहिब सिखों का प्रसिद्ध धार्मिक स्थल है। हेमकुंट एक संस्कृत नाम है जिसका अर्थ है - हेम ("बर्फ") और कुंट ( "कटोरा") है। दसम ग्रंथ के अनुसार, यह वह जगह है जहां पांडु राजा अभ्यास योग करते थे। इसके अलावा दसम ग्रंथ के अनुसार जब पाण्डु हेमकुंट पहाड़ पर गहरे ध्यान में थे तो भगवान ने उन्हें सिख गुरु गोबिंद सिंह के रूप में यहाँ पर जन्म लेने का आदेश दिया था।

दो सदी तक था गुमनाम?

दो सदी तक था गुमनाम?

आज हेमकुंट साहिब सिखों का प्रसिद्ध धार्मिक स्थल है, लेकिन ये धार्मिक स्थलों करीबन दो से अधिक सदियों तक गुमनाम था । गुरु गोव‌िंद स‌िंह ने यहां आकर इस स्‍थान के मौजूद होने का संकेत द‌िए। बता दें क‌ि सिख इतिहासकार-कवि भाई संतोख सिंह (1787-1843) ने इसका जिक्र विस्तृत वर्णन दुष्ट दमन की कहानी में अपनी कल्पना में किया था।

सात बर्फ की पहाड़ियों से घिरा है हेमकुंट साहिब

सात बर्फ की पहाड़ियों से घिरा है हेमकुंट साहिब

Pc: Panesar00888

जी हां ये खूबसूरत धार्मिक स्थल सात पर्वत चोटियों से घिरा हुआ एक हिमनदों झील के साथ 4632 मीटर (15,197 फीट) की ऊंचाई पर हिमालय में स्थित है। इसकी सात पर्वत चोटियों की चट्टान पर एक निशान साहिब सजा हुआ है।

 कब हुई थी हेमकुंट साहिब की स्थापना?

कब हुई थी हेमकुंट साहिब की स्थापना?

Pc: Guptaele
कहा जाता है कि, कि सिखों के इस पावन स्थल की स्थापना 1939 में संत सोहन सिंह ने अपनी मौत से पहले की थी, और उन्होंने इस काम को जारी रखने रखने के मिशन को मोहन सिंह को सौंप दिया। गोबिंद धाम में पहली संरचना को मोहन सिंह द्वारा निर्मित कराया गया था। वर्तमान में गुरुद्वारा श्री हेमकुंट साहिब के अलावा हरिद्वार, ऋषिकेश, श्रीनगर, जोशीमठ, गोबिंद घाट, और गोबिंद धाम में गुरुद्वारों में सभी तीर्थयात्रियों के लिए भोजन और आवास उपलब्ध कराने का प्रबंधन इसी कमेटी द्वारा किया जाता है।

हेमकुंट झील

हेमकुंट झील

Pc: Praveen Negi
हेमकुंट झील को पवित्र झील माना जाता है, जो वर्ष के 8 महीनों जमा रहता है। हेमकुंड गुरुद्वारा के निकट स्थित है, यह झील बर्फ से ढके पहाड़ों से घिरा हुआ है। लोककथाओं के अनुसार, सिखों के दसवें गुरु, गुरु गोबिंद सिंह ने इस झील के किनारे तप किया था। उसके अलावा, यह भी माना जाता है कि इस पवित्र जगह में मेधासा के साथ अन्य प्रचारकों की ने भी तप किया है।

हिमालय की 10 बेमिसाल झीलें जहाँ की खूबसूरती है लाजवाब

लक्ष्मण मंदिर

लक्ष्मण मंदिर

लक्ष्मण मंदिर, लोकपाल मंदिर के नाम से भी जाना जाता है जो हेमकुंट झील के तट पर स्थित है। पौराणिक कथाओं के अनुसार, यह मंदिर ठीक उसी जगह है, जहां भगवान राम के भाई लक्ष्मण ने मेघनाद, दानव रावण के बेटे को मरने के बाद अपनी शक्ति को वापस पाने के लिए तप किया था।

फूलों की घाटी

फूलों की घाटी

Pc:Kushaal
फूलों की घाटी
, गोविंदघाट के माध्यम से हेमकुंटसाहिब के रास्ते पर स्थित है। घांघरिया गांव से 2 किमी की दूरी पर स्थित, यह क्षेत्र बर्फ से ढकी पहाड़ियों से घिरा है। यात्री यहाँ सफेद और पीले अनेमोनेस, दिंथुस, कैलेंडुला, डेज़ी, हिमालय नीले अफीम और घाटी में स्नेक लिली जैसे फूलों की 300 से अधिक प्रजातियों को देख सकते हैं। फूलों के अलावा पर्यटक यहाँ काला हिमालयन भालू, तःर्स, कस्तूरी मृग, बर्फ तेंदुए, और तितलियों की कुछ दुर्लभ प्रजातियों के साथ साथ सेरोव्स देखने को मिल सकता है। फूलों की घाटी में ले ट्रेकिंग का मजा

यात्रा पर पाएं भारी छूट, ट्रैवल स्टोरी के साथ तुरंत पाएं जरूरी टिप्स