» »फूलों की घाटी में ले ट्रेकिंग का मजा

फूलों की घाटी में ले ट्रेकिंग का मजा

Written By: Goldi

उत्तराखंड के हिमालयी क्षेत्र में फैली फूलों की घाटी को राष्ट्रीय उद्यान भी कहा जाता है। करीब 87.50 किलोमीटर क्षेत्र में फैले इस उद्यान को वर्ष 1982 में राष्ट्रीय उद्यान घोषित कर दिया गया था। और यह यूनेस्को की विश्व विरासत स्थल है।

अगर आपको फूलों से प्यार है तो यह जगह आपके लिए एकदम बेस्ट है। यहां आने वाले सैलानी फूलों के साथ साथ यहा सिखों का धार्मिक स्थल 'हेमकुंड साहिब' के दर्शन करने का सौभाग भी प्राप्त होगा। अगर हेमकुंड को सिर्फ धार्मिक स्थल कहा जाए तो यह भी गलत होगा क्यूंकि यह स्थल आस्थाओं से सराबोर होने के साथ साथ प्रकृति की दिलकश नज़ारों से भरी गोद में बसा हुआ है। साथ ही अआप इस खूबसूरत सी फूलों की घाटी में ट्रेकिंग का भी लुत्फ उठा सकते हैं।

फूलो की घाटी की ट्रेकिंग की शुरुआत गोविंदघाट से हरिद्वार-बद्रीनाथ रोड पर एक छोटी सी जगह से शुरू होती है। ट्रेकर्स और सैलानी 10 घंटे की लंबी ड्राइव के बाद गोविंदघाट तक पहुंच सकते हैं। फूलों की घाटी की ट्रेकिंग गोविंदघाट से घंजिया से शुरू होती है। फूलों की घाटी के साथ हेमकुंड साहिब ट्रेक भी कर सकते हैं। हेमकुंड साहिब ट्रेक मार्ग फूलों की घाटी के चेकपोस्ट से निकल जाता है और सीधे चला जाता है। हेमकुंड साहिब मार्ग एक खड़ी है और गंगरिया से 6 किलोमीटर की कठिन यात्रा है।

पहला दिन:हरिद्वार - गोविंदघाट जोशीमठ और देवप्रयाग (260किमी / 10 घंटे)

पहला दिन:हरिद्वार - गोविंदघाट जोशीमठ और देवप्रयाग (260किमी / 10 घंटे)

हरिद्वार पहुँचने के बाद सैलानी हरिद्वार से जोशीमठ कार या बस से जा सकते हैं...जोशीमठ पहुंचकर पर्यटक वहां दोपहर का खाना खाने के बाद गोविन्दघाट की ओर प्रस्थान कर सकते हैं। गोविन्दघाट पहुँचने के बाद पर्यटक वहां आराम कर सकते हैं।PC: wikimedia.org

दूसरा दिन: गोविंदघाट से घंजियारिया का ट्रेक (ट्रेक 14 किमी -4 घंटे)

दूसरा दिन: गोविंदघाट से घंजियारिया का ट्रेक (ट्रेक 14 किमी -4 घंटे)

अगले दिन ट्रेकर्स सुबह उठकर नाश्ता करने के बाद ट्रेकिंग की शुरुआत कर सकते हैं...यह एक खड़ी ट्रेकिंग इस दौरान ट्रेकर्स को थोड़ी सावधानी बरतनी जरुरी है। गोविंदघाट से घंजियारियाकी ट्रेकिंग 14 किमी की है जिसे 4 से पांच घंटे में पूरा किया जा सकता है। घंजियारिया पहुँचने के बाद ट्रेकर्स चारो ओर फैली हरियाली और बर्फ से ढके पहाड़ों के मनोरम नजारे को देख सकते हैं।PC: wikimedia.org

तीसरा दिन- घंजियारिया - हेमकुंड - घंजियारिया -(7 किमी 3 घंटे )

तीसरा दिन- घंजियारिया - हेमकुंड - घंजियारिया -(7 किमी 3 घंटे )

तीसरे दिन ट्रेकिंग की शुरुआत होती है घंजियारिया से हेमकुंड साहिब तक। सभी सिख मंदिरों में से सबसे अधिक सम्मानित, हेमकुंड साहिब, विश्व के सर्वोच्च गुरुद्वारा, 4,32 9 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। सैलानी और ट्रेकर्स यहां रूककर लंगर कर सकते हैं साथ ही थोड़ी देर विश्राम करने के बाद घंजियारिया की ओर प्रस्थान कर सकते हैं।PC: wikimedia.org

चौथा दिन- घंजियारिया - फूल की घाटी -घंजियारिया

चौथा दिन- घंजियारिया - फूल की घाटी -घंजियारिया

अगले दिन की ट्रेकिंग शुरुआ होती है घंजियारिया से फूलो की घाटी तक...फूलो की घाटी में आप तरह तरह की किस्मो के फूलों को देख सकते हैं। ट्रेकर्स फूलो की घाटी में पूरा दिन बिताने के बिताने के बाद घंजियारिया वापस आकर कैम्प में आकर आराम कर सकते हैं।
PC: wikimedia.org

दिन 05: घंजियारिया - गोविंदघाट - बद्रीनाथ- जोशीमठ

दिन 05: घंजियारिया - गोविंदघाट - बद्रीनाथ- जोशीमठ

घंजियारिया -गोविन्दघाट की दूरी करीबन 14 किमी की ट्रेकिंग है जिसे पांच घंटे में पूरा किया जा सकता है। गोविन्दगाट में आराम करने के बाद सैलानी जोशीमठ और बद्रीनाथ की यात्रा शुरू कर सकते हैं।
PC: wikimedia.org

छठा दिन

छठा दिन

छठे दिन जोशीमठ से हरिद्वार की यात्रा कर सकते हैं..

कैसे पहुंचे

कैसे पहुंचे

हवाईजहाज से
जॉली ग्रांट हवाई अड्डा हरिद्वार से लगभग 48 किमी दूर स्थित देहरादून में स्थित है।

ट्रेन से
एक उत्कृष्ट रेल नेटवर्क हरिद्वार को दिल्ली, मसूरी, मुंबई, वाराणसी, लखनऊ और कोलकाता जैसे अन्य महत्वपूर्ण शहरों से जोड़ता है।
दिल्ली-डीडीएन एनजेडएम एसी एक्सप्रेस (2205)
कोलकाता- डून एक्सप्रेस (13009) से
मुंबई से- देहरादून एक्सप्रेस (1 9 01 9)
चेन्नई से- देहरादून एक्सप्रेस (12687)

सड़क द्वारा
हरिद्वार देश के प्रमुख स्थलों के साथ अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। एनएच 72 हरिद्वार को नहां (125 किलोमीटर) उत्तर-पश्चिम में जोड़ता है, और उसके बाद पंचकुला, चंडीगढ़ और शिमला को जोड़ता है।
राष्ट्रीय राजमार्ग 72 देहरादून में समाप्त होता है, जो हरिद्वार से 54 किमी दूर है। हरिद्वार दिल्ली से 235 किमी दूर स्थित है। NH72A हरिद्वार को रुरकी (35 किमी) पर राष्ट्रीय राजमार्ग से जोड़ता है
और उसके बाद दक्षिण मेरठ (170 किमी) और दिल्ली (235 किमी) में। दिल्ली की आईएसबीटी कश्मीरी गेट से हरिद्वार के लिए दिल्ली से नियमित बस सेवा है...PC: wikimedia.org

ट्रेकिंग के दौरान जरूरी चीजे

ट्रेकिंग के दौरान जरूरी चीजे

कॉटन मोज़े
ऊनी मोज़े
दो जोड़ी जूते
बैग पैक
ट्रैक पेंट
टोर्च लाइट
जैकेट
सनग्लास कैप
सन्सक्रीम
ऊनी दस्ताने
वाल्किंग स्टिक
PC: wikimedia.org

Please Wait while comments are loading...