Search
  • Follow NativePlanet
Share
» »तो इन छुट्टियों सैर हो जाये भारत के पहले गोल्फ कोर्स क्लब की!

तो इन छुट्टियों सैर हो जाये भारत के पहले गोल्फ कोर्स क्लब की!

By Goldi

हिमाचल प्रदेश की गोद में बेहद ही खूबसूरत हिलस्टेशन छूपे हुए हैं, जिनसे अक्सर हम आपको अपने लेखों के जरिये आपको रूबरू कराते हैं। इसी क्रम में आज हम आपको रूबरू कराने जा रहे हैं, शिमला के नजदीक स्थित खूबसूरत हिल-स्टेशन के बारे में, जिसके बारे में पर्यटक बेहद कम ही जानते हैं।

हरी भरी वादियों के बीच बसा हुआ ये खूबसूरत हिलस्टेशन गोल्फ कोर्स के लिए जाना जाता है, जी हां हम बात कर रहे हैं, नालदेहरा की, जहां भारत का सबसे पुराना गोल्फ कोर्स स्थित है, यहां हर साल गोल्फ टूर्नामेंट भी होता है। ऐतिहासिक रिकॉर्ड के मुताबिक, ब्रिटिश वायसराय लॉर्ड कर्जन ने इस खूबसूरत पहाड़ी स्थान की खोज की थी। वे यहाँ के परिवेश से इतने चकित थे कि उन्होंने क्षेत्र में एक गोल्फ कोर्स बनाने का फैसला किया।

नालदेहरा का नाम दो शब्दों 'नाग' और 'डेहरा' से मिलकर बना है, जिसका मतलब है सांपों के राजा का निवास। महूनाग मंदिर, नाग भगवान को समर्पित, जगह का एक महत्वपूर्ण धार्मिक स्थल है। नालदेहरा में कई मेले भी लगते हैं। यहाँ का सिपी मेला बहुत प्रसिद्ध है, जो जून के महीने में आयोजित किया जाता है।

 कैसे आयें नालदेहरा

कैसे आयें नालदेहरा

Pc:lalit890

नालदेहरा का सबसे नजदीकी हवाई अड्डा हवाई अड्डा 'जुबरहट्टी हवाई अड्डा' है, जो दिल्ली और मुंबई जैसे स्थानों के साथ जुड़ा हुआ है। नालदेहरा का निकटतम रेलवे स्टेशन 'कालका रेलवे स्टेशन' है, जो 112 किलोमीटर दूर स्थित है। अगर आप सड़क के जरिये आ रहे हैं, तो यात्री नालदेहरा के लिये शिमला और मशोबरा से हिमाचल राज्य परिवहन बस से पहुंच सकते हैं।

कब आयें

कब आयें

Pc: Biswarup Ganguly

प्राकृतिक नजारों

नालदेहरा गोल्फ कोर्स

नालदेहरा गोल्फ कोर्स

Pc:Adam Jones

नालदेहरा गोल्फ कोर्स, दुनिया में सबसे पुराने गोल्फ क्लब में से एक, 1920 में भारत के वायसराय लार्ड कर्जन द्वारा स्थापित किया गया था। वह नालदेहरा की खूबसूरती से मंत्रमुग्ध था और अक्सर उस स्थान पर आकर शिविर लगाता था जहां आज गोल्फ कोर्स है। वर्तमान में इसका प्रबन्धन हिमाचल पर्यटन विभाग द्वारा किया जाता है। 18-होल गोल्फ कोर्स के साथ, यह क्लब भारतीय हिल्स पर सबसे अच्छा है और वर्तमान में सभी गोल्फ क्लब में सबसे लोकप्रिय माना जाता है।

चब्बा

चब्बा

प्रकृति से भरपूर

कोगी माता मंदिर

कोगी माता मंदिर

नालदेहरा से कुछ ही दूरी पर स्थित कोगी एक गांव है, जहां कोगी माता को समर्पित मंदिर है। गांव कोगी, को घूमते हुए आप इस गांव में हिमाचली संस्कृति को निहार सकते हैं।

शैली पीक

शैली पीक

ट्रैकिंग का लुत्फ

महाकाली मंदिर

महाकाली मंदिर

नवरात्री

महुनाग मंदिर

महुनाग मंदिर

गोल्फ कोर्स के बीच में स्थित महूनाग मंदिर महा-भारत के वीर योद्धा कर्ण को समर्पित है। इस मंदिर का निर्माण 1664 में राजा श्याम सेन द्वारा निर्मित किया गया था। वह कर्ण का एक प्रबल भक्त था। भक्तों की एक बड़ी संख्या में इस मंदिर में हर हफ्ते रविवार को आती है। सालाना मेले का आयोजन, हिंदू त्योहार मकर संक्रांति के दौरान किया जाता है जो भक्तों की बड़ी संख्या को आकर्षित करता है। करसोग और हिमालय की घाटी को इस मंदिर से स्पष्ट रूप से देखा जा सकता है।

देवी देवतायों के मंदिर तो बहुत देखे होंगे..लेकिन क्या जानते हैं इन राक्षस मन्दिरों को

तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X