» »कभी था एक छोटा आदिवासी गांव, आज है अरबों-खरबों का शहर

कभी था एक छोटा आदिवासी गांव, आज है अरबों-खरबों का शहर

Posted By: Nripendra

झारखंड स्थित 'जमशेदपुर' भारत के चुनिंदा औद्योगिक शहरों में गिना जाता है। इस शहर का वर्तमान जितना समृद्ध है, उससे कहीं ज्यादा दिलचस्प इसके बनने की कहानी है। इस शहर को भारत के एक पारसी व्यवसायी 'जमशेदजी टाटा' ने बसाया था, जिन्होंने 1907 में यहां एक स्टील कंपनी (टिस्को) की शुरुआत की ।

आज का जमशेदपुर कभी 'साकची' नाम का एक छोटा आदिवासी गांव हुआ करता था, जिसकी एक बड़ी आबादी, पूर्ण रूप से यहां के वनों पर निर्भर थी। पर देखते ही देखते यह छोटा सा गांव भारत का एक समृद्ध व्यापारिक केंद्र बन गया, जिसने न केवल देशभर में बल्कि वैश्विक स्तर पर वो मुकाम हासिल किया, जिसकी कल्पना यहां के आदिवासी समाज ने कभी नहीं की होगी। आज यह शहर न सिर्फ व्यापार बल्कि पर्यटन के क्षेत्र में भी आगे बढ़ रहा है।

पर्यटन के लिहाज से

पर्यटन के लिहाज से

PC- Shahbaz26

आज जमशेदपुर एक प्रगतिशील नगर बन कर उभरा है, जिसने झारखंड को एक नई पहचान दी है। जहां कभी गांव की कच्ची सड़के, पगडंडियां हुआ करती थी, आज यहां की सड़के राष्ट्रीय राजमार्ग से जुड़ चुकी हैं। टिस्को के अलावा यहां टेल्को, टायो, उषा मार्टिन, टेल्कान जैसे कई बड़े कारखानों की स्थापना हुई, जो न सिर्फ यहां को लोगों को रोजगार देने के काम करते हैं, बल्कि यहां देश-विदेश से लोग काम करने आते हैं। यह शहर औद्योगिक दृष्टि से साथ-साथ पर्यटन से क्षेत्र में भी आगे बढ़ रहा है, जिससे लोग यहां की संस्कृति, कला को ऐतिहासिक धरोहरों को देख व समझ पाएं। आगे जानिए पर्यटन के लिहाज से यह व्यापारिक शहर आपके लिए कितना खास है।

ऐतिहासिक जुबली पार्क

ऐतिहासिक जुबली पार्क

PC- Ashokinder

जुबली पार्क टाटा स्टील द्वार बनाया गया एक खूबसूरत पर्यटन स्थल है। यह पार्क शहर के मुख्य आकर्षणों में से एक माना जाता है। इस केंद्रीय पार्क को एक ऐतिहासिक स्मारक के रूप में भी देखा जाता है, जिसे बनाने की शुरुआत 1937 की गई थी, लेकिन कुछ बाधाओं के कारण यह बन नहीं पाया, जिसके बाद इसे बनाने के जिम्मा 1955 में 'टाटा स्टील' ने लिया। बता दें कि यह पार्क श्री जी एच क्रुम्बिगेल और बी एस निर्दय के निर्देशन में बनकर तैयार हुआ, जो कभी दिल्ली स्थित मुगल गार्डन की देख-रेख कर चुके हैं। यह पूरा पार्क लगभग 500 एकड़ के क्षेत्र में फैला है। जहां से आप दलमा की पहाड़ी और टाटा स्टील कारखाने को देख सकते हैं।

संगीतमय फव्वारों से सजा है जुबली पार्क

संगीतमय फव्वारों से सजा है जुबली पार्क

PC- Ashokinder

यह ऐतिहासिक पार्क भारत के खूबसूरत उद्यानों में एक है, जिसे देखने के लिए देश-दुनिया से पर्यटक आते हैं। पार्क की संरचना पर ध्यान दिया जाए, तो यहां मध्य में जमशेदजी टाटा की एक मूर्ति स्थापित की गई, जिसके इर्द गिर्द, रोज गार्डन, मुगल गार्डन, मनोरंजन पार्क, जीव उद्यान व कृत्रिम टापू बनाए गए हैं। यहां झील में नौका विहार की सुविधा भी उपलब्ध है। यहां रात का नजारा देखने लायक होता है, जब मुगल गार्डन के संगीतमय फव्वारें एकसाथ जगमगा उठते हैं। अगर आप जमशेदपुर आएं तो इस पार्क की सैर का जरूर आनंद लें।

दलमा वन्य अभयारण्य

दलमा वन्य अभयारण्य

PC- Joydeep 87

झारखंड मुख्यत: अपने वन्य जीवन के लिए जाना जाता है। झारखंड (झार+खंड) शब्द का अर्थ है, 'झार' यानी वन और खण्ड मतलब 'टुकड़ा'। यह पूरा क्षेत्र असंख्य जीवों और जंगली वनस्पतियों निवास स्थान है। इसी का एक छोटा पहाड़ी टुकड़ा है, 'दलमा' , जिसे वन्य जीवों के लिए संरक्षित कर दिया गया है। दलमा अभयारण्य में जंगली जानवरों के साथ कई दुर्लभ जीवों की प्रजातियां मौजूद हैं। यह अभयारण्य 3000 फीट की ऊंचाई पर लगभग 193 वर्ग किमी के क्षेत्र में फैला हुआ है। जिसे देखने के लिए देश-दुनिया से पर्यटक यहां आते हैं।

दलमा पहाड़ी का मुख्य आकर्षण

दलमा पहाड़ी का मुख्य आकर्षण

PC- Vtibs

दलमा कई वन्य जीवों का घर है, जहां आप हाथियों के झुंड के साथ हिरण, तेंदुआ व बाघ को आसानी से देख सकते हैं। इसके अलावा यहां लुप्तप्राय जीवों को भी देखा जा सकता है। यहां जंगल की एक गुफा में 'बाबा भोलेनाथ' का एक प्राकृतिक मंदिर (दलमा बाबा) भी है। दलमा बाबा को संरक्षक देवता माना जाता है, ऐसा माना जाता है, कि इस पूरे क्षेत्र की हिफाजत खुद दलमा बाबा करते हैं। दलमा पहाड़ी पर कई आदीवासियों का घर भी है। रात में टिमटिमाते तारों के बीच दलमा पहाड़ी बहुत ही खूबसूरत नजर आती है।

जयंती सरोवर

जयंती सरोवर

PC- devx

शहर स्थित 'जयंती सरोवर' पर्यटकों के मध्य मुख्य आकर्षण का केंद्र है। लगभग 40 एकड़ में फैली इस झील को खासतौर पर बोटिंग के लिए बनवाया गया है। झील के मध्य एक कृत्रिम द्वीप भी है, जो इस झील को खूबसूरत व काफी रोमांचक बनाने का काम करता है। पर्यटक बोटिंग के साथ-साथ इस द्वीप पर आराम फरमाना ज्यादा पसंद करते हैं। अगर आप इस दौरान जमशेदपुर आएं, तो इस झील की सैर करना न भूलें।

डिमना झील

डिमना झील

PC- Aratrik Dasgupta

जमशेदपुर में एक और कृत्रिम झील बनाई गई है, जिसे 'डिमना' के नाम से जाना जाता है। यह झील मुख्य शहर से करीब 13 किमी की दूरी पर स्थित है। जमशेदपुर की यात्रा पर निकले पर्यटक इस झील की सैर करना पसंद करते हैं। यह झील एक खास पिकनिक स्पॉट भी है, जहां दिसंबर से जनवरी के मध्य, नए साल का जश्न मनाने के लिए हजारों पर्यटक आते हैं। इस झील का निर्माण जल सरंक्षण व पानी की आपूर्ति के लिए टाटा स्टील द्वारा बनवाया गया था। अगर आप चाहें तो इस झील की सैर का आनंद उठा सकते हैं।

कीनन स्टेडियम

कीनन स्टेडियम

PC- Ashokinder

यह अपने आप में गर्व की बात है कि जमशेदपुर जो कभी एक आदीवासी गांव था, आज अंतरराष्ट्रीय स्तर के खिलाड़ियों का एक मुख्य केंद्र बन चुका है। यहां 'कीनन स्टेडियम' नाम का एक अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट ग्राउंड मौजूद है, जहां अबतक कई राष्ट्रीय-अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट मैचों का आयोजन हो चुका है। बता दें कि चंडीगढ़ स्थित मोहाली के बाद इसे सबसे सुंदर क्रिकेट ग्राउंड माना जाता है। जमशेदपुर में और भी कई देखने लायक स्थान हैं, जहां आप जी भरकर आनंद की अनुभूति कर सकते हैं। आप यहां हुडको झील, दुमानी, भुवनेश्वरी मंदिर, सूर्य मंदिर व अन्य स्थानों की सैर कर सकते हैं।

कैसे करें प्रवेश

कैसे करें प्रवेश

PC - Mohitjamshedpurian

जमशेदपुर एक प्रसिद्ध शहर है, यहां आप तीनों मार्गों से पहुंच सकते हैं। यहां का नजदीकी हवाई अड्डा रांची स्थित बिरसा मुंडा एयरपोर्ट है। रेल मार्ग के लिए आप 'टाटानगर रेलवे स्टेशन' का सहारा ले सकते हैं। आप चाहें तो यहां सड़क मार्ग से भी पहुंच सकते हैं, राष्ट्रीय राजमार्गों से जमशेदपुर भारत के कई अहम शहरों से जुड़ा हुआ है।