» »कभी खारे पानी के लिए प्रसिद्ध थी ये बावड़ी..आज है एशिया का नम्बर 1 मसाला बाजार

कभी खारे पानी के लिए प्रसिद्ध थी ये बावड़ी..आज है एशिया का नम्बर 1 मसाला बाजार

Written By: Goldi

देश की राजधानी दिल्ली प्राचीनता और आधुनिकता का सही संयोजन है, जो आज एक उद्योगिक गोले की जादुई दुनिया बन गई है। अधिकारिक रूप से नेशनल कैपिटल टेरिटोरी (एन सी टी) डेल्ही को, हिंदी में दिल्ली कहा जाता है। यहां आपको भारत का इतिहास, संस्कृति और विस्मित चीजों का संकलन मिलेगा। यह केवल देश की राजधानी ही नहीं बल्कि राजनीतिक गतिविधियों की भी राजधानी है, जो इसे एक रमणीय स्थान बनाते हैं और पर्यटन पारखियों को अपनी ओर आकर्षित करती है।

मदर नेचर के बेस्ट रूप को देखना है तो कीजिये अरूणाचल स्थित जाइरो के इन स्थानों का दौरा

अगर आपने कभी पुरानी दिल्ली घूमी होगी, तो आप वहां स्थित खड़ी बावली, यानी एशिया के सबसे बड़े मसाले मार्केट से वाकिफ होंगे। यह एक गली है, जोकि पुरानी दिल्ली में लाल किला और फतेहपुर मस्जिद के पास स्थित है। यह न केवल मसालों का एक थोक बाजार है, बल्कि पर्यटकों के बीच भी यह जगह खासा लोकप्रिय है।देश की विभिन्न मसाला उत्पादक मंडियों से यहां मसाले आते हैं और फिर यहां से देश के कई बाजारों में इसकी आपूर्ति की जाती है।

एशिया के सबसे बड़े बाज़ार खड़ी बावली के बारे में दिलचस्प तथ्य हैं, आइये जानते हैं इन खास तथ्यों को स्लाइड्स में

कितनी पुरानी है खड़ी बावली...

कितनी पुरानी है खड़ी बावली...

इस बावली के इतिहास की माने तो,यह मसाला बाजार 17 वीं शताब्दी में शुरू हुआ था, जो अब तक जारी है।यह बाजार फतेहपुरी मस्जिद के पास स्थित है, जिसे 1650 में फतेहपुरी बेगम द्वारा बनाया गया था, जो शाहजहां की पत्नियों में से एक था। बताया जाता है,पहले यहां पर बावडिय़ां हुआ करती थीं और इन बावडिय़ों में खारा पानी होता था। समय के साथ ये बावडिय़ां सूखती गईं और उनका वजूद खत्म हो गया।PC:Ekabhishek

दुकानों के नाम

दुकानों के नाम

यहां स्थित कुछ दुकानों के नाम आज भी पुराने नामों से प्रचलित है, जैसे "चावल वाले 13", "21 नंबर की दुकान", "15 नंबर की दुकान"। इन दुकानों को यहां चलाने की पुरानी पीढियां चला रही हैं।PC:Ekabhishek

खड़ी बावली...

खड़ी बावली...

यह एक बहुत ही व्यवस्थित बाजार है...इस बाजार में देश की विभिन्न उत्पादक मंडियों जैसे निजामाबाद से हल्दी, कोटा से धनिया, ऊंझा से जीरा, गुंटूर से लाल मिर्च, कोच्चि या मंगलूर से इलायची की आवक होती है।PC:Varun Shiv Kapur

सबसे अमीर मसाला-अड्डा

सबसे अमीर मसाला-अड्डा

एशिया का सबसे बड़ा मसाला बाजार से आप स्थानीय और विदेशी दोनों तरह के मसालों की खरीददारी कर सकते हैं। एक बार जब आप विभिन्न मसालें और सूखे फलों की दृष्टि से बाजार में प्रवेश करते हैं, तो आप प्रत्येक के एक गंध की गंध के साथ मंत्रमुग्ध हो जाएंगे।PC:Ian. S.

सिर्फ मसाले ही नहीं बल्कि यहां मिठाईयां भी है...

सिर्फ मसाले ही नहीं बल्कि यहां मिठाईयां भी है...

भरी मसाले वाले दुकानों के बीच में आप कुछ मीठे दुकाने भी देख सकते हैं..यहां से आप खोया की बर्फी, रसगुल्ला, और गुड़ आदि खरीद सकते हैं।
PC: Sumita Roy Dutta

मसाले या मिठाई ही नहीं ये भी है..

मसाले या मिठाई ही नहीं ये भी है..

आप यहां अपने बालों को चमकदार बनाने के लिए रीठा आदि भी खरीद सकते हैं...जैसा की हम सभी जानते हैं कि, रीठा जड़ी-बूटियों के साथ मिश्रित 'शिकाकाई' बाल को बेहद चमकदार और सुंदर बनाता है अगर आप अपने बहुत अच्छे बालों के लिए एक बिल्कुल प्राकृतिक उपचार की कोशिश करना चाहते हैं, तो इसे जरुर खरीदें।PC:Jon Connell

Please Wait while comments are loading...