» »जाने स्पीती की घाटी में छुपे हुए लाहुंग मठ के बारे में

जाने स्पीती की घाटी में छुपे हुए लाहुंग मठ के बारे में

Written By: Goldi

स्पीति हिमाचल प्रदेश के उत्तर-पूर्वी भाग में एक दूरस्थ हिमालय की घाटी है। स्थानीय लोगों के अनुसार स्पीती शब्द का शाब्दिक अर्थ है "बीच की जगह" ज्ञात हो कि भारत और तिब्बत के बीच में स्थित होने के कारण इस स्थान का नाम स्पीती पड़ा है।यह जगह बहुत ही उच्च ऊंचाई पर स्थित है और अपनी प्राकृतिक सुंदरता के लिए लोकप्रिय है। स्पीति क्षेत्र अपनी बौद्ध संस्कृति और मठों के लिए प्रसिद्ध है। स्पीती सिर्फ एक पर्यटक स्थल ही नहीं, बल्कि एक इमोशन है, जिसे बहुत ही कम यात्री महसूस कर पाते हैं।

Lhalung Monastery

PC:Arup1981

यहाँ पर्यटकों के लिए दर्शनीय स्थलों के भण्डार हैं। जहाँ नज़र उठाओ वहां आपको खूबसूरत नज़ारे ही नज़र आएंगे। हिमखंडों से घिरी आकर्षक झीलें, आसमान छोटे पर्वतों के शिखर, ठंडी हवा के झौंके और चारों हरी-भरी हरियाली यह सब लाहुल-स्पीति को पर्यटक स्थलों में नया मुकाम दिलाते हैं।

Lhalung Monastery-

PC:John Hill

स्वर्ण मंदिर के रूप में प्रसिद्ध लाहुंग मठ हिमाचल प्रदेश के लाहौल और स्पीति जिले में स्थित है।यह हिमाचल प्रदेश का सबसे पहला मठ है,इसकी स्थापना महान रिनचेन झांगपो द्वारा की गई थी, जिन्होंने दसवीं शताब्दी के उत्तरार्द्ध के दौरान पश्चिमी हिमालयी राज्यों के जांसकर, गेज, स्पीति और किन्नौर पर शासन किया था।

Lhalung Monastery

PC: John Hill

माना जाता है कि मंदिर को रात भर में देवताओं द्वारा निर्मित किया गया था, बाद में लोत्साव रिनचेन झेंपो ने यहां एक विलो वृक्ष लगाया, जिसकी पूजा यहां वाले श्रद्धालु करते हैं।

हनीमून को बनाते हैं हॉट और यादगार, भारत के ये 8 डेस्टिनेशन

नौ मंदिरों का था परिसर
बताया जाता है कि, पहले इस जगह करीबन 9 मंदिर बने, जो एक जीर्ण दीवार के अंदर आज भी समाहित हैं। किंवदंती यह है, कि पहाड़ समय-समय पर भगवान के मनोदशा के अनुरूप रंग बदलता है; उदाहरण के लिए, क्रोध के लिए लाल या आनन्द के लिए पीला रंग।

Lhalung Monastery

PC:John Hill

किंवदंतियों है कि मठ के आसपास के पहाड़ों का रंग ईश्वर के मूड के आधार पर बदलता है .. लाल जब गुस्से में हों, नीले जब उन्हें दर्द होता है और पीले जब खुश होते हैं। जब इस मठ का निर्माण किया था, तब यह भिक्षुयों की शिक्षा का केंद्र बना हुआ है। लेकिन आज यह जगह सिर्फ 45 घरों का गांव रह गया है।

तस्वीरों में देखे कश्मीर की खूबसूरती को

इस मठ को स्वर्ण मंदिर इसलिए कहा जाता है कि, क्यों कि इस मंदिर में रखे हुए भगवान की मूर्तियाँ सोने की है। यह मंदिर सर्खांग के रूप में भी जाना जाता है और यह 50 से अधिक देवी-देवताओं की सजी हुई छवियों की खूबसूरती से सुशोभित दीवारों के साथ एक उत्तम कक्ष है।

https://commons.wikimedia.org/wiki/File:Lhalung_old_statue.jpg

PC:John Hill

विडंबना यह है कि ज्यादातर पर्यटक स्पीती घूमने आते हैं, लेकिन इस खूबसूरत जगह को नहीं घूम पाते, यह एक बेहद ही खूबसूरत जगह है,जिसे अहर यात्री को जरुर घूमना चाहिए।

कैसे पहुंचे?
लाहुंग काजा और ताबो के बीच में स्थित है..धनकर मठ से यहां एक घंटे की ड्राइव कर आसानी से पहुंचा जा सकता है।

Please Wait while comments are loading...