• Follow NativePlanet
Share
» »आ गया लॉन्ग वीकेंड. चिलचिलाती गर्मी से राहत पाने के लिए पहुंच जाइए गुलाबा

आ गया लॉन्ग वीकेंड. चिलचिलाती गर्मी से राहत पाने के लिए पहुंच जाइए गुलाबा

Written By:

छुट्टियों का नाम सुनते ही हम कैसे चहक उठते हैं, वही छोटे बच्चों जैसी मुस्कराहट हमारे चेहरे पर तैरने लगती है। तो अगर आप लंबे अरसे से ऑफिस से छुट्टी लेने की सोच रहे थे, लेकिन बॉस ने छुट्टी देने से मना कर दिया है तो डोंट वरी क्योंकि अब आपको छुट्टी मांगने की जरूरत नहीं है, क्योंकि आ गया है एक और लॉन्ग वीकेंड।

ह्म्म्म लॉन्ग वीकेंड, जिसकी शुरुआत होगी, 29 मार्च से (गुरुवार) से और खत्म होंगी 1 अप्रैल को। हम आपको अप्रैल फूल नहीं बना रहे बल्कि सच बोल रहे हैं। दरअसल, 29 (गुरुवार)को महावीर जयंती, जिसके बाद गुड फ्राइडे और फिर शनिवार और रविवार तो हो गया ना लॉन्ग वीकेंड।

वैसे भी उत्तर भारत की गर्मी ने सबका जीना मुहाल कर रखा है, तो क्यों ना इस लॉन्ग वीकेंड किसी हिलस्टेशन की सैर हो जाये। खास बात यह है कि, इस लॉन्ग वीकेंड में आराम से अपनी छुट्टियों को एन्जॉय कर सकते हैं, साथ ही खुद को रिफ्रेश भी महसूस करेंगे। तो ज्यादा देर ना लगाते हुए, हम आपको बताते हैं, कुछ बेहद ही खूबसूरत जगहों के बारे में जहां आपको इस चिलचिलाती गर्मी से राहत मिलेगी

गुलाबा, मनाली

गुलाबा, मनाली

मनाली से 20 किमी की दूरी पर स्थित गुलाबा एक खूबसूरत पर्यटन स्थल है, जहां आप मार्च के आखिरी हफ्ते तक बर्फबारी का मजा ले सकते हैं। इस जगह आकर पर्यटक बर्फ से ढ़के पहाड़ों और सड़क का अद्भुत नजारा देख सकते हैं। Pc:Biswarup Ganguly

इन्द्रासन पीक

इन्द्रासन पीक

इन्द्रासन पीक, समुद्र तल से 6223 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है, जो एक लोकप्रिय ट्रैकिंग स्थल है, जोकि लाहौल और स्पीति जिले में स्थित है। ये पीक पार्वती और व्यास नदी के बिलकुल बीचों बीच में स्थित है। यहाँ आने वाले पर्यटक बर्फ से ढकी चोटियों को देखकर उसकी सुन्दरता पर मन्त्र मुग्ध हो जाएंगे।

रोहतांग घाटी

रोहतांग घाटी

मनाली से 51 किमी की दूरी पर स्थित यह यह दर्रा, दुनिया की सबसे ऊंची चलने वाली रोड है जहां हर साल लाखों पर्यटक इस लॉफी पहाड़ पर भ्रमण करने आते हैं। यह दर्रा समुद्र स्‍तर से 4111 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है जहां से मनाली का शानदार दृश्‍य दिखाई पड़ता है। यहां से पहाडों, सुंदर दृश्‍यों वाली भूमि और ग्‍लेशियर का शानदार दृश्‍य देखा जा सकता है। इन सभी के अलावा इस पर्यटन स्‍थल में आकर पर्यटक ट्रैकिंग, माउंटेन बाइकिंग, पैरालाइडिंग और स्किंईंग भी कर सकते हैं। यहां की यात्रा के लिए पर्यटकों को आर्मी से परमिशन लेनी पड़ती हैं।Pc: flicker

मोरी

मोरी

उत्तराखंड के उत्तरकाशी जिले में स्थित छोटा सा मोरी अपनी प्राकृतिक सुन्दरता के लिए पर्यटकों के बीच जाना जाता है। यह प्रसिद्ध पर्यटन स्थल समुद्र तल से 3700 फीट की ऊंचाई पर स्थित है। यह स्थान जौनसर बावर क्षेत्र में टोंस नदी के किनारे स्थित है। टोंस नदी तमस नदी के नाम से भी जानी जाती है एवं इस जगह को टोंस घाटी का प्रवेश द्वार भी कहते हैं। अगर आपको एडवेंचर स्पोर्ट्स का शौक है, तो आप अपने इस शौक यानी राफ्टिंग एवं कयाकिंग को इस गांव में पूरा कर सकते हैं।Pc:Aman aswal

चौकोरी

चौकोरी

चौकोरी उत्तराखंड के पिथौरागढ़ जिले में समुद्रतल से 2010 मी. ऊपर एक सुंदर हिल स्टेशन है। यहां शहर की भीड़ भाड़ से दूर अपने प्रियजनों के साथ सुकून के पल बिताने का मौका देता है। चौकोरी कई खूबसूरत जगहों के साथ कई प्राचीन मन्दिरों का घर हैं, जिनमे शिव मंदिर के अलावा महाकाली मंदिर भी शामिल है, यह मंदिर भारत के प्रमुख शक्तिपीठों में से एक है।Pc: Abhijit Kar Gupta

कुनिहार घाटी

कुनिहार घाटी

अरकी में स्थित कुनिहार घाटी सोलन के प्रमुख पर्यटन स्थलों में से एक है। हटकोट और छोटी विलायत के नाम से भी प्रसिद्द इस स्थान का नाम कुनिहार भारत के पूर्व प्रधान मंत्री राजीव गाँधी ने रखा था क्योंकि इसका आकार एक माला के सामान है।Pc:Bhanu Sharma Solan

अरकी

अरकी

अगर आप हिमाचल की ठंडी वादियों के बीच यहां का इतिहास जानने के इच्छुक हैं, तो अरकी शाहर की यात्रा अवश्य करें।अरकी शहर में स्थित अरकी किला जाने माने पर्यटन स्थलों में से एक है। इस किले का निर्माण राणा पृथ्वी सिंह ने 1695 से 1700 के दौरान किया था। Pc:Harvinder Chandigarh

किब्बर

किब्बर

किब्‍बर, लाहौल में एक छोटा सा गांव है, जो 4270 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। यह गांव चूना पत्थर की चट्टानों से बनी एक संकीर्ण घाटी है। यहां स्थित मठ सेरकांग रिमपोचे ने बनवाया था। यहां एक वन्‍यजीव अभयारण्‍य भी स्थित है जहां कई जानवर और पशु रहते हैं।यह गांव काजा से 16 किमी. की दूरी पर है, काजा से गर्मियों में बस सेवा शुरू की जाती है ताकि पर्यटक भ्रमण के लिए आ सकें।Pc:Ksuryawanshi

खिर्सू

खिर्सू

पौड़ी से 19 किमी. की दूरी पर स्थित खिर्सू एक सुंदर स्थान है । खिर्सू से मध्य हिमालयीन पर्वत श्रेणियों का सांस रोकने वाला दृश्य देखा जा सकता है। यहाँ के शांत वातावरण में पक्षियों की चहचहाहट गूंजती है और यह स्थान ओक और देवदार के वृक्षों से ढंका हुआ है। हरे सेब के बाग इस स्थान की सुंदरता बढ़ाते हैं। यहाँ पास में घंडियाल देवता को समर्पित एक प्राचीन मंदिर भी है।Pc:Goldi.negi

पौड़ी गढ़वाल

पौड़ी गढ़वाल

उतराखंड स्थित पौड़ी गढ़वाल एक सुरम्य पर्यटन स्थल है जो समुद्र सतह से 1650 मीटर की ऊँचाई पर स्थित है।देवदार के जंगलों से ढंका हुआ और कंडोलिया पहाड़ी के उत्तरी ढलानों पर स्थित यह स्थान पर्यटकों के लिए सम्मोहक दृश्य प्रस्तुत करता है। पर्यटक यहाँ बर्फ से ढंके हुए मनोरम पहाड़ों जैसे बंदरपूंछ, जोंली, गंगोत्री समूह, नंदादेवी, त्रिशूल, चौखंभा, घोरी पर्वत, हाथी पर्वत, स्वर्गरोहिणी, जोगिन समूह, थालिया - सागर, केदारनाथ, सुमेरु और नीलकंठके दृश्य का आनंद उठा सकते हैं।

यात्रा पर पाएं भारी छूट, ट्रैवल स्टोरी के साथ तुरंत पाएं जरूरी टिप्स