» »एक साथ 2500 मोरों को नाचते हुए देखना है..तो जरुर जाएँ मोराची चिंचोली

एक साथ 2500 मोरों को नाचते हुए देखना है..तो जरुर जाएँ मोराची चिंचोली

Written By: Goldi

अब तो हम कई पशु पक्षियों को सिर्फ किताबों और टीवी पर ही देख पाते हैं। लेकिन मुझे अपना बचपन अच्छे से याद है जब मै गांव में सिर्फ मोर और कोयल को देखने जाती थी। शाम के वक्त छत पर मोर को नाचते हुए देखना मन को आनन्द देता था। लेकिन अब जब भी गांव जाती हूं तो कभी कभार ही मोर नजर आता है।

                       भारत की इन जगहों पर भूलकर भी ना जाएँ घूमने...

लेकिन अगर आप भी अपने बच्चो को नाचता हुआ मोर दिखाना चाहते हैं तो आपको पुणे के पास स्थित मोराची चिंचोली जरुर जाना चाहिए। 
                             कम बजट में घूमना है तो जरुर जायें हाब्बन घाटी

मोराची चिंचोली एक मराठी शब्द है..जिसका हिंदी में अर्थ है..नाचते हुए मोरों का गांव और इमली के पेड़। इस गांव में करीबन 2500 मोर है..जिन्हें आप कभी भी खेतों और छतों पर नाचते हुए देख सकते हैं। खासकर बारिश के मौसम में इन मोरों का नाच देखना काफी दिलचस्प होता है।

कहां से आयें इतने मोर?

कहां से आयें इतने मोर?

बताया जाता है कि, इस गांव में बाजीराव की सेना रुकी थी, और उन्होंने इमली का पदों रोपण किया था। जिससे यह मोर यहां खींचे चले आये।जिसके बाद ये मोर यहीं के हो गए।PC:KABIR

 गांव वाले रखते हैं ध्यान

गांव वाले रखते हैं ध्यान

इन मोरों के दाना पानी का ध्यान गांव वाले रखते हैं...

प्रतिबंधित है शिकार

प्रतिबंधित है शिकार

इस गांव में मोर को मारना और पकड़ना वर्जित है..अगर कोई ऐसा करता हुआ पाया जाता है वह दंड का भागी होता है।PC: Yogendra Joshi

छोटा सा पिकनिक स्पॉट

छोटा सा पिकनिक स्पॉट

पुणे से 50 किमी की दूरी पर स्थित यह मोराची चिंचोली गांव एक छोटे से पिकनिक स्पॉट के रूप में तेजी से लोगो के बीच लोकप्रिय हो रहा है।
PC: Shirin tejani

पीकोक सेंचुरी

पीकोक सेंचुरी

जहां पूरे भारत में मोरों की संख्या घट रही है तो वहीं यहां 2500 मोर होने के कारण अब यह गांव छोटी सी पीकोक सेंचुरी में तब्दील हो चुका है।
PC:Yogendra Joshi

बारिश मेंमोरो को देखना होता है रोमांचित

बारिश मेंमोरो को देखना होता है रोमांचित

बारिश के समय और बारिश से पहले यहां आप मोरों का नाच देख सकते हैं..जो बेहद ही खूबसूरत होता है।PC: Yogendra Joshi

क्या करें

क्या करें

मोराची चिंचोली में मयूर बाग़ पीकोक सेंचुरी है..इस सेंचुरी में करीब 2500 पक्षी है। इस सेंचुरी में पर्यटक तांगा की सवारी, कैम्पिंग और टेंट आदि का मजा ले सकते हैं। शहर की भाग दौड़ भरी जिन्दगी से दूर इस गांव में आप प्राकृतिक खूबसूरती का भी मजा ले सकते हैं।

कैसे आयें

कैसे आयें

हवाई मार्ग
मोराची चिंचोली का नजदीकी एयरपोर्ट पुणे एयरपोर्ट है..जोकि यहां से 48 किमी की दूरी पर स्थित है। इस एयरपोर्ट देश के सभी भागों के नियमित उड़ाने उपलब्ध है।

ट्रेन द्वारा
मोराची चिंचोली का नजदीकी एयरपोर्ट पुणे जंक्शन है..जोकि यहां से 52 किमी की दूरी पर है। इस स्टेशन से देश के सभी शहरो के लिए ट्रेन सेवा उपलब्ध है।

सड़क द्वारा
मोराची चिंचोली राष्ट्रीय राजमार्ग से जुडी है।यहां मुंबई और पुणे से बस द्वारा आसानी से पहुंचा जा सकता है। पुणे से चिंचोली की दूरी 55 किमी और मुंबई से 180 किमी है।

#2017साफ शहर: जाने भारत के दस साफ़ शहरो को.
महराष्ट्र का गुमनाम पर्यटन स्थल-कोयनानग
भारत में रहकर इनके चक्कर में नहीं पड़े तो...आपने जीवन में कुछ नहीं किया
विदेशो की तरह भारत में होती हैं न्यूड पार्टीज..ये हैं डेस्टिनेशन

Please Wait while comments are loading...