» »शारदीय नवरात्री स्पेशल:सैर करें दिल्ली के पांच प्रसिद्ध दुर्गा मन्दिरों की

शारदीय नवरात्री स्पेशल:सैर करें दिल्ली के पांच प्रसिद्ध दुर्गा मन्दिरों की

Written By: Goldi

21 सितंबर दिन यानी गुरूवार से शारदीय नवरात्रि 2017 का शुभारंभ हो चुका है। नौ दिनों तक चलने वाली इस पूजा में देवी दुर्गा के नौ स्वरूपों आराधना की जाती है। नवरात्रि में मां दुर्गा की पूजा करने से जातक को हर मुश्किल से छुटकारा मिल जाता है।

भारत के 5 विश्व प्रसिद्ध दुर्गा देवी मंदिर

नवरात्रि एक महत्वपूर्ण प्रमुख त्योहार है जिसे पूरे भारत में महान उत्साह के साथ मनाया जाता है। नवरात्र के दौरान दिल्‍ली के कुछ खास मंदिरों में श्रद्धालुओं की भारी भीड़ उमड़ती है। दिल्‍ली के इन मंदिरों में पूरी रात और पूरा दिन माता के दर्शन के लिए भक्‍तों की लंबी-लंबी कतारें लगी रहती हैं। तो आइए जानतें हैं दिल्‍ली के ऐसे प्रसिद्ध मां दुर्गा के मंदिरों के बारे में -:

 कालकाजी मंदिर

कालकाजी मंदिर

प्रसिद्ध कालकाजी मंदिर, भारत में सबसे अधिक भ्रमण किये जाने वाले प्राचीन एवं श्रद्धेय मंदिरों में से एक है। यह दिल्ली में नेहरू प्लेस के पास कालकाजी में स्थित है। यह मंदिर माँ दुर्गा की एक अवतार, देवी काली को समर्पित है।यह मनोकामना सिद्ध पीठ के नाम से भी जाना जाता है। मनोकामना का अर्थ है कि यहाँ भक्तों की सारी इच्छाएं पूर्ण होती हैं। इस मंदिर के पीछे की पौराणिक कथा भी बहुत रोचक है। यह मंदिर ईटों की चिनाई द्वारा बनाया गया था परन्तु वर्तमान में यह संगमरमर से सजा है एवं यह चारों ओर से पिरामिड के आकार वाले स्तंभ से घिरा हुआ है। आपको बताते चलें कि मंदिर का गर्भगृह 12 तरफ़ा है जिसमें प्रत्येक पक्ष पर संगमरमर से सुसज्जित एक प्रशस्त गलियारा है। यहाँ गर्भगृह को चारों तरफ से घेरे हुए एक बरामदा है जिसमें 36 धनुषाकार मार्ग हैं।

PC: Ashishbhatnagar72

शीतला माता मंदिर

शीतला माता मंदिर

दिल्‍ली के पास गुड़गांव में स्थित शीतला माता का मंदिर भी बहुत प्रसिद्ध है। नवरात्र के दौरान इस मंदिर में मेले का आयोजन होता है. इस मंदिर में देवी मां का स्‍वरूप अद्भुत है।दूर-दूर से श्रद्धालु यहां अपनी मनोकामना की पूर्ति हेतु आते हैं।मान्‍यता है कि शीतला माता अपने भक्‍तों को कभी खाली हाथ नहीं भेजती।नवरात्र के दिनों में शीतला मंदिर में भारी संख्‍या में श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ती है।

झण्डेवालान माता मंदिर

झण्डेवालान माता मंदिर

झण्डेवालान माता मंदिर देश और दिल्ली के सुप्रसिद्ध मंदिरों में से एक है। इस मंदिर में भक्तों की सभी मनोकामनाएं पूरी होती है। यहां हजारों की संख्या में भक्तजन माता रानी के दर्शन करने आते है। नवरात्रों के उत्सव में यहां पर भक्तों की भीड़ उमड़ जाती है।PC: आशीष भटनागर

छतरपुर मंदिर

छतरपुर मंदिर

छतरपुर मंदिर या श्री अध्‍य कात्‍यानी शक्ति पीठ, दक्षिण दिल्‍ली में छतरपुर में स्थित है जो भारत का दूसरा सबसे बड़ा मंदिर परिसर है। यह मंदिर देवी कात्‍यायनी, जो देवी दुर्गा का छठां स्‍वरूप है को समर्पित है। अन्‍य मंदिरों के विपरीत इस मंदिर में हर जाति और हर धर्म के श्रद्धालुओं को दर्शन करने की अनुमति है। इस मंदिर को देवी दुर्गा मां के एक उत्‍साही भक्‍त स्‍वामी नागपाल ने बनवाया था। यह मंदिर सफेद संगमरमर से बना हुआ है और आसपास खूबसूरत बगीचों से घिरा हुआ है। मंदिर की नक्‍काशी, दक्षिण भारतीय वास्‍तुकला में की गई है। इस विशाल मंदिर परिसर में हमेशा निर्माण चलता रहता है जो कभी समाप्‍त नहीं होता है। मंदिर परिसर लगभग 70 एकड़ भूमि में फैला हुआ है और इसके अंदर लगभग 20 छोटे और बड़े मंदिर भी तीन विभिन्‍न परिसरों में बने हुए हैं।

PC: Sujit kumar

योगमाया मंदिर

योगमाया मंदिर

योगमाया मंदिर जिसे योगमाया मंदिर जिसे जोगमाया के नाम से भी जाना जाता है दिल्ली का एक प्राचीन मंदिर है जो देवी योगमाया को समर्पित है। ग्रंथों के अनुसार योगमाया भगवान श्री कृष्ण की बहन थी। महरोली में स्थित और क़ुतुब कॉम्प्लेक्स के पास बना ये मंदिर हर साल देश दुनिया के पर्यटकों को अपनी तरफ आकर्षित करता है। इस मंदिर के बारे में लोगों का मत है कि ये महाभारतकाल का मंदिर है जहां आने वाले सभी भक्तों की मनोकामना पूरी होती है। यदि आप दिल्ली में हैं तो हमारा सुझाव है की आप इस मंदिर के दर्शन अवश्य करें।

गुफा वाला मंदिर

गुफा वाला मंदिर

पूर्वी दिल्ली के प्रीत विहार क्षेत्र में स्थित माता का मंदिर, ‘गुफा मंदिर' के नाम से विख्यात है। गुफा के अंदर मां चिंतपूर्णी, माता कात्यायनी, संतोषी मां, लक्ष्मी जी, ज्वाला जी की मूर्तियां स्थापित हैं। गुफा में गंगा जल की एक धारा बहती रहती है। मंदिर का निर्माण सन 1987 में शुरू हुआ था और 1994 में मंदिर बनकर तैयार हो गया था।

Please Wait while comments are loading...